लाइव ब्लॉग: मी से देखिये सारी हाईलाइट

मी, जापान, 8 अप्रैल 2021 - मी प्रीफेक्चर के नबरी शहर में ओलिंपिक मशाल रीले का दूसरा भाग।
मी, जापान, 8 अप्रैल 2021 - मी प्रीफेक्चर के नबरी शहर में ओलिंपिक मशाल रीले का दूसरा भाग।

ओलिंपिक मशाल रीले मी में शुरू हो चुकी है। साल 2021 में 23 जुलाई को शुरू होने वाले ओलिंपिक खेलों के उद्घाटन समारोह तक इस ऐतिहासिक मशाल के सफर का हर अहम् क्षण आप देख सकते हैं टोक्यो 2020 के लाइव स्ट्रीम पर और इस प्रतिस्पर्धा की सारी बड़ी खबरे इस लाइव ब्लॉग में पढ़िए।   

08 अप्रैल, शाम 7:55 बजे (जापानी स्थानीय समय): मी से नवीनतम फोटो देखिये

आज ओलिंपिक मशाल ने मी का दौरा किया है और इसका आखरी गंतव्य है वाकावामा। मशाल रीले की कुछ बेहतरीन फोटो देखिये।

08 अप्रैल, शाम 6:30 बजे (जापानी स्थानीय समय): याद करिये जब ओलिंपिक ज्वाला ने किया था नाव पर सफर

यदि आप भूल गए हैं तो हम एक बार फिर याद दिलाना चाहते हैं, कल ओलिंपिक मशाल ने तोबा और तोशजिमा में पानी पर यात्रा करी थी।

तोबा एक ऐसा क्षेत्र है जो मोतियों के लिए जाना जाता है और इस नगर में एक पुल इसे मिकीमोटो मोती द्वीप से जोड़ता है। तोशीजीमा की बात करें तो यह एक खाड़ी में स्थित है और यहां मछली पकड़ने की परंपरा सालों से चली आ रही ही।

08 अप्रैल, शाम 5:50 बजे (जापानी स्थानीय समय): अनंत सुंदरता और पवित्र तीर्थस्थल

आज की ओलिंपिक मशाल रीले अद्भुत और अतिसुंदर रही है क्योंकि हर कदम पर एक दर्शनीय स्थान रहा है लेकिन इनमे से एक जो हर किसी को याद रहेगा वह एक पगडंडी है जो ईसे जिंगू तीर्थस्थल और कुमानो संज़ान मंदिरों के बीच से गुज़रती है।

किहोकु नगर के ISHIKURA Yuichi ने इस रास्ते पर मशाल के साथ दौड़े और उन्होंने इसके साथ अपने बचपन का सपना पूरा किया। मछली का व्यापर करने वाली इस व्यक्ति बचपन में एक प्रतिभाशाली धावक थे। अब वह पूरे विश्व में इस मशाल रीले की सहायता से जापान में मछली के वव्यापार को पूरे विश्व में लोकप्रिय करना चाहते हैं।

ओलिंपिक मशाल रीले ने पवित्र स्थल की यात्रा करी
00:36

मी प्रीफेक्चर में ओलिंपिक मशाल के सफर के दौरान ज्वाला ने कुमानो कोडो की इसेजी ट्रेल का दौरा किया।

08 अप्रैल, दोपहर 3:45 बजे: आज के दिन की सबसे अच्छी फोटो

अब ओलिंपिक मशाल रीले तायकी शहर से गुज़रेगी लेकिन उससे पहले देखिये ईगा शहर, नबारी शहर और मात्सुसाका शहर के सबसे यादगार क्षण।

08 अप्रैल, दोपहर 3:00 बजे (जापानी स्थानीय समय): ओलिंपिक पदकों के रचनाकार

आज दोपहर में आश्चर्य कर देने वाली एक और बात है मी प्रीफेक्चर के मात्सुमाका शहर के किले में KAWANISHI Junichi का आना। ओसाका के रहने वाले Kawanishi टोक्यो 2020 ओलिंपिक पदकों के रचनाकार हैं।

Kawanishi ने इन पदकों की रचना को एकता, विविधता, मित्रता और अमन पर केंद्रित किया है और यह सारे ओलिंपिक खेलों की आत्मा के भाग हैं। ओलिंपिक इतिहास में पहली बार पदक सतत पदार्थों से बनाये गए हैं।

08 अप्रैल, दोपहर 12:30 (जापानी स्थानीय समय): जब चुनौती बनी प्रेरणा स्त्रोत 

कोरिया गणराज्य में साल 2013 के स्पेशल ओलिंपिक विश्व शीतकालीन खेलों को TAKAYUKI Onoe कभी नहीं भूलेंगे क्योंकि उन्होंने 5000 मीटर स्नोशू प्रतियोगिता में स्वर्ण जीता।

Takayuki को मैराथन दौड़ों से बहुत गहरा लगाव है और वह नवंबर में कोबी मैराथन में भाग लेना चाहते हैं। इस लक्ष्य की ओर उनका पहला कदम है उनके शहर नबारी में आयोजित हो रही ओलिंपिक मशाल रीले।

मी, जापान - 8 अप्रैल, 2021: मी प्रीफेक्चर के नाबारी शहर में ओलिंपिक मशाल रीले का दूसरा भाग।
मी, जापान - 8 अप्रैल, 2021: मी प्रीफेक्चर के नाबारी शहर में ओलिंपिक मशाल रीले का दूसरा भाग।
Tokyo 2020

08 अप्रैल, दोपहर 12:00 बजे (जापानी स्थानीय समय): शानदार अकामे 48 झरने

नबारी शहर की अकामे घाटी में अनेक झरने हैं जिन्हे अकामे 48 के नाम से जाना जाता है। इतना ही नहीं, अकामे घाटी ईगा-रियु निंजाओं का जन्मस्थान है।

इस रहस्य्पूर्ण स्थान से मशालधारक YUTAKA Kajitani ओलिंपिक ज्वाला के साथ आगे बढ़ रहे हैं।

भव्य अकामे 48 झरनों में पहुँची ओलिंपिक मशाल
00:29

भव्य अकामे 48 झरनों के बीच में से देखिये ओलिंपिक मशाल का सफर।

08 अप्रैल, सुबह 10:40 बजे (जापानी स्थानीय समय): व्हीलचेयर बास्केटबॉल खिलाड़ी HATTA Yuka ने लिया रीले में भाग

बीजिंग 2008 पैरालिम्पिक खेलों में व्हीलचेयर बास्केटबॉल में जापान का प्रतिनिधित्व करने के बाद, HATTA Yuka आज वहां वापस आयी हैं जहां उन्होंने अपना खेल जीवन शुरू किया था।

Hatta को आज भी याद है कि कैसे खेलों ने उन्हें अपनी शारीरिक मुश्किलों को भुला कर एक नर्स के रूप में अपना जीवन दोबारा शुरू करने में सहायता करी। आज वह ओलिंपिक मशाल अपने हाथों में लेकर उन लोगों का धन्यवाद कर रही हैं जिन्होंने उनका साथ दिया।

बीजिंग 2008 पैरालिम्पिक खिलाड़ी ओलिंपिक ज्वाला के साथ
00:18

मी प्रीफेक्चर में ओलिंपिक मशाल के सफर के दौरान 2008 बीजिंग पैरालिम्पिक खेलों में भाग लेने वाली जापानी खिलाड़ी HATTA Yuka मशाल को आगे ले कर गयी।

08 अप्रैल, सुबह 9:45 बजे (जापानी स्थानीय समय): महानता का शिखर यहीं है

मी प्रीफेक्चर में ओलिंपिक मशाल रीले का दूसरा दिन ईगा शहर के प्रसिद्द स्थान ईगा उएनो किले से होगी और इस ऐतिहासिक स्थल प्राचीन एडो काल में बना था। यह किला उएनो पार्क में स्थित है और यहां अनेक सांस्कृतिक प्रतिस्पर्धाओं का आयोजन होता है।

इस भव्य किले की मीनार के सामने खड़े हैं महान गायक Ichiro Toba जो अपने एन्का गीतों के लिए लोकप्रिय हैं और वह आज के पहले मशालधारक हैं।

जापानी गायक ईगा उएनो किले में मशाल के साथ
00:20

जापानी गायक Ichiro Toba ने मी प्रीफेक्चर में ओलिंपिक मशाल रीले के दुसरे दिन की शुरुआत ईगा उएनो किले के नज़ारे के सामने करी।

08 अप्रैल, सुबह 9:30 बजे (जापानी स्थानीय समय): महान खेल परंपरा वाला प्रीफेक्चर

मी एक ऐसा प्रीफेक्चर है जहां अनेक प्रसिद्ध जापानी खिलाड़ियों ने जनम लिया है जिसमे महान पहलवान YOSHIDA Saori और मैराथन धावक NOGUCHI Mizuki शामिल हैं।

इस क्षेत्र के एक और लोकप्रिय खिलाड़ी हैं 2016 रियो ओलिंपिक में पहलवानी पदक जीतने वाली DOSHO Sara जो टोक्यो 2020 में एक बार फिर स्वर्ण पदक जीतने का प्रयास करेंगी।

जापान की Sara Dosho (बाएं) ने रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 12वें दिन महिला फ्रीस्टाइल 69 किग्रा क्वालिफिकेशन बाउट के दौरान यूक्रेन की Alina Stadnik Makhynia से मुकाबला किया। (Lars Baron / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
जापान की Sara Dosho (बाएं) ने रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 12वें दिन महिला फ्रीस्टाइल 69 किग्रा क्वालिफिकेशन बाउट के दौरान यूक्रेन की Alina Stadnik Makhynia से मुकाबला किया। (Lars Baron / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2016 Getty Images

08 अप्रैल, सुबह 9:25 बजे (जापानी स्थानीय समय): ईगा शहर में आपका स्वागत है

मी प्रीफेक्चर में ओलिंपिक मशाल रीले के दुसरे दिन पर आपका स्वागत है। आज इस मशाल की यात्रा ईगा शहर में होगी जो ईगा-रियू निंजा का घर है। यही वह स्थल है जहां जापान के महान निन्जाओं को प्रशिक्षण मिला है। यहां से ओलिंपिक मशाल नबारी शहर, मात्सुसाका शहर, तायकी नगर और कीहोकु नगर का दौरा करते हुए कुमानो शहर में अपना दिन समाप्त करेगी।

पूरे दिन का एक एक पल यहां टोक्यो 2020 पर देखिये।

07 अप्रैल, शाम 4:30 बजे (जापानी स्थानीय समय): आज के सबसे रोमांचक पल देखिये 

इससे पहले की ओलिंपिक मशाल रीले तोबा शहर और इसे शहर की यात्रा करे, देखते हैं दिन की कुछ झलकियां।

07 अप्रैल, दोपहर 3:50 बजे (जापानी स्थानीय समय): YOSHIDA Saori का स्वागत करिये

अगली मशालधारक और कोई नहीं बल्कि तीन बार ओलिंपिक कुश्ती स्वर्ण विजेता Yoshida Saori हैं और वह सू शहर में इस महोत्सव का एक बच्चों के जुट के साथ आरंभ करेंगी।

एक साल से अधिक समय पहले YOSHIDA और तीन बार ओलिंपिक जुडो स्वर्ण जीत चुके NOMURA Tadahiro ने साथ मिल कर ओलिंपिक मशाल के आगमन समारोह में भाग लिया था।

आज वह एक ऐसे खेल केंद्र में दौड़ रही हैं जो उनके नाम पर स्थापित किया गया था। क्या आप सोच सकते हैं की अगली मशालधारक कौन हैं? Yoshida की माँ YOSHIDA Yukiyo ! यह क्षण हमेशा यादगार रहेगा।

तीन बार ओलिंपिक चैंपियन रह चुकी YOSHIDA Saori बनी मी प्रीफेक्चर में मशाल रीले का भाग
00:21

तीन बार ओलिंपिक चैंपियन रह चुकी YOSHIDA Saori मी प्रीफेक्चर के सू शहर में मशाल रीले का भाग बनी।

07 अप्रैल, दोपहर 2:30 बजे (जापानी स्थानीय समय): करुणा सर्वोपरि है

आज सुज़ूका शहर भागने वाली OIKAWA Harumi को साल 2015 में को कर्क रोग हुआ था।

बहुत सारे ऑपरेशन के बाद उनकी हालत में सुधार आया है और उन्होंने मैराथन के लिए अभ्यास करना शुरू कर दिया है।

अपने परिवार और मित्रों द्वारा दिखाई गयी करुणा और उनके सहयोग का धन्यवाद् देने के लिए वह कर्क रोज़ ले मरीज़ों और उनके परिवारों की सहायता करती हैं।

Mie, JAPAN - 7 April 2021 : The Olympic Torch Relay section 2 in Suzuka City, Mie prefecture, Japan.
Mie, JAPAN - 7 April 2021 : The Olympic Torch Relay section 2 in Suzuka City, Mie prefecture, Japan.
Tokyo 2020

07 अप्रैल: सुबह 11:20 (जापानी स्थानीय समय): इस महान व्हीलचेयर टेनिस खिलाड़ी का करिये अभिनंदन

यह कहना की योकाईची शहर में आयोजित हो रही रीले के सबसे बड़े सितारे SAIDA Satoshi हैं।

जापान के व्हीलचेयर टेनिस खिलाड़ियों में सबसे महान माने जाने वाले Saida ने छह पैरालिम्पिक खेलों में भाग लिया है और 2004 एथेंस खेलों में पुरुष डबल्स प्रतियोगिता में स्वर्ण भी जीता था।

छह बार पैरालिम्पिक खेलों में भाग ले चुके SAIDA Satoshi ने दिया आशा का संदेश
00:17

छह बार पैरालिम्पिक खेलों में भाग ले चुके SAIDA Satoshi मशाल रीले में भाग लेते हुए।

07 अप्रैल, सुबह 10:30 बजे (जापानी स्थानीय समय): "बोकिया ने मुझे बदल दिया।"

रीले के शुरुआत करते हुए AOKI Kenta के चेहरे पर मुस्कान थी।

रीड की हड्डी में लगी एक चोट के कारण उन्हें गर्दन के नीचे लकवा मार गया था और इस कारण Aoki बहुत अकेला महसूस करते थे। बोकिया ने उनका जीवन बदल दिया और वह अब पैरालिम्पिक खेलों में भाग लेने का सपना देख रहे हैं।

"बोकिया से दो साल पहले हुए मेरी मुलाकात ने मेरा जीवन बदल दिया।

व्हीलचेयर में बैठ कर रीले करना मेरे लिए एक बहुत बड़ी बात है और यह लोगों को प्रेरणा देगा।"

07 अप्रैल, सुबह 10:00 बजे (जापानी स्थानीय समय): दो बार ओलिंपिक खेलों में भाग ले चुकी खिलाड़ी ने करि मशाल रीले की शुरुआत

पूर्व लम्बी दूरी धावक SEKO Toshihiko एक बार फिर भाग रहे हैं।

Seko ने 1984 लॉस एंजेलेस और सोल 1988 ओलिंपिक खेलों में भाग लिया था। इस महान धावक ने बोस्टन मैराथन और लंदन मैराथन भी जीती है।

आज वह अपने अंदर की ओलिंपिक आत्मा के साथ भाग रहे हैं और टोक्यो 1964 ओलिंपिक खेलों में कौल्ड्रोन को प्रज्वलित करने वाले SAKAI Yoshinori को भी याद कर रहे हैं।

दो बार ओलिंपिक खेलों में भाग ले चुके खिलाड़ी मी में मशाल रीले की शुरुआत करी।
00:22

ओलिंपिक ज्वाला अपने छठे प्रीफेक्चर में पहुँच चुकी है। आज मी में ओलिंपिक मशाल रीले की शुरुआत 1984 लॉस एंजेलेस और 1988 सोल ओलिंपिक खेलों में भाग ले चुके SEKO Toshihiko ने करी।

07 अप्रैल, सुबह 09:30 बजे (जापानी स्थानीय समय): मी की इस कस्तूरा डाइवर की कहानी पढ़िए

आज मी के अनेक मशालधारकों में से एक हैं Mitsuhashi जो पिछले 38 साल से शिमा शहर में कस्तूरा डाइविंग कर रही हैं। Mitsuhashi अमा श्रेणी की डाइवर हैं जो स्कूबा डाइविंग के लिए किसी भी प्रकार का उपकरण प्रयोग नहीं करते और सिर्फ अपने शरीर अथवा अनुभव के बल पर कार्य करते हैं।

अमा परंपरा को अगली पीढ़ी तक पहुँचाने में Mitsuhashi बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं और वह अमा संरक्षण समाज की शिमा अध्यक्ष हैं।

उनकी कहानी के बारे में यहां पढ़िए।

07 अप्रैल, सुबह 09:20 (जापानी स्थानीय समय): योकाईची शहर में आपका स्वागत है

मी में ओलिंपिक मशाल रीले के पहले दिन पर आपका स्वागत है। आज का सफर योकाईची शहर में शुरू हो रहा है और यह स्थान एक पुराने बाज़ार नगर के ऊपर बनाया गया था। यहां से ओलिंपिक ज्वाला सुज़ूका शहर, कामेयामा शहर, सू शहर और तोबा शहर से गुज़रते हुए अपना दिन में ईसे शहर में अंत करेगी।

जापान के दो सबसे पूज्य तीर्थस्थल ईसे शहर में स्थित हैं और इस क्षेत्र में 100 अन्य तीर्थस्थान भी हैं। आज ओलिंपिक मशाल रीले के सबसे खूबसूरत दिनों में से एक होगा और आप इसे देखने के लिए तैयार हो जाइये।

इस ओलिंपिक मशाल रीले का हर एक क्षण टोक्यो 2020 पर देखिये।