कुश्ती

Photo by Alex Livesey/Getty Images
Photo by Alex Livesey/Getty Images

कुश्ती को दुनिया का सबसे पुराना खेल माना जाता है - दो प्रतिद्वंदियों के बीच कौशल की एक शुद्ध लड़ाई जो मैट पर अपने प्रतिद्वंदी को पटकने या मैट से बाहर करने के उद्देश्य से खेली जाती है।

टोक्यो 2020 प्रतियोगिता एनीमेशन "एक मिनट, एक स्पोर्ट"

हम आपको एक मिनट में कुश्ती के नियम और हाइलाइट दिखाएंगे। चाहे आप कुश्ती से परिचित हों या इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हों, "एक मिनट, एक स्पोर्ट" खेल की व्याख्या करता है। नीचे वीडियो में देखें कि ये कैसे काम करता है..

वन मिनट, वन स्पोर्ट | कुश्ती
01:23

अवलोकन

कुश्ती 708 ईसा पूर्व के प्राचीन ओलंपिक खेलों में हिस्सा थी, इस खेल को एथेंस 1896 आधुनिक ओलंपिक खेलों में ग्रीको-रोमन शैली के साथ पहली बार शामिल किया गया था। आठ साल बाद सेंट लुईस 1904 के खेलों में फ्रीस्टाइल कुश्ती की नई स्पर्धा पेश की गई। महिलाओं की फ्रीस्टाइल कुश्ती एथेंस 2004 में पहली बार ओलंपिक कार्यक्रम की हिस्सा बनी। 

दोनों शैलियों का महत्व एक समान है: बिना उपकरण के दो एथलीट अपने प्रतिद्वंदी के दोनों कंधों को नीचे मैट पर दबाने की कोशिश करते हैं। ग्रीको-रोमन पहलवान केवल अपने शरीर के ऊपरी हिस्से और हाथों का उपयोग करते हैं, जबकि फ्रीस्टाइल पहलवान अपने शरीर के किसी भी हिस्से का उपयोग कर सकते हैं। 

रियो 2016 खेलों में पुरुषों के ग्रीको-रोमन, पुरुषों की फ्रीस्टाइल और महिलाओं की फ्रीस्टाइल इवेंट्स के लिए छह भार श्रेणियां शामिल की गई थीं। सभी इवेंट्स के लिए एक डायरेक्ट एलिमिनेशन सिस्टम है, जो स्वर्ण पदक मैच के लिए दो फाइनलिस्ट तय करती है। फाइनल में हारने वाले सभी पहलवानों को रेपचेज राउंड में प्रवेश कराया जाता है।

कार्यक्रम

फ्रीस्टाइल

  • 57 किग्रा (पुरुष)
  • 65 किग्रा (पुरुष)
  • 74 किग्रा (पुरुष)
  • 86 किग्रा (पुरुष)
  • 97 किग्रा (पुरुष)
  • 125 किग्रा (पुरुष)
  • 50 किग्रा (महिला)
  • 53 किग्रा (महिला)
  • 57 किग्रा (महिला)
  • 62 किग्रा (महिला)
  • 68 किग्रा (महिला)
  • 76 किग्रा (महिला)

ग्रीको-रोमन

  • 60 किग्रा (पुरुष)
  • 67 किग्रा (पुरुष)
  • 77 किग्रा (पुरुष)
  • 87 किग्रा (पुरुष)
  • 97 किग्रा (पुरुष)
  • 130 किग्रा (पुरुष)

खेल का सार

शक्ति और तकनिक से मिलती है सफलता

एक गोलाकार चटाई पर नौ मीटर व्यास में, 30 सेकंड के ब्रेक के साथ मुकाबलों को तीन मिनट तक लड़ा जाता है। जीतने के लिए एक पहलवान को अपने प्रतिद्वंदी के दोनों कंधों को एक सेकंड के लिए चटाई पर रखना होता है, जिसके बाद मैच समाप्त होता है। इसे "फॉल" कहा जाता है। 

यदि बाउट के दौरान कोई फॉल नहीं हुई है, तो पहलवानों के द्वारा अर्जित किए गए अंकों के आधार पर मैच का निर्णय किया जाता है। ग्रीको-रोमन कुश्ती में आठ अंकों का अंतर हो जाने पर मैच भी समाप्त हो सकता है। फ्रीस्टाइल में एक बाउट को समाप्त करने के लिए दस अंकों का अंतर आवश्यक है। 

पहलवानों के प्रदर्शन के आधार पर एक पहलवान को एक, दो, चार या पांच अंक दिए जा सकते हैं। उदाहरण के लिए, 9 मीटर के सर्कल से प्रतिद्वंदी को बाहर निकानले पर एक अंक दिया जाता है, प्रतिद्वंदी को मैट पर पीठ के बल गिराने पर दो अंक दिए जाते हैं, प्रतिद्वंदी को स्टैंडिंग पोजिशन में फेंकने पर चार अंक और प्रतिद्वंदी को पूरी तरह से फेंकने पर पांच अंक दिए जाते हैं। 

ग्रीको-रोमन कुश्ती में बहुत सारे गतिशील कौशल शामिल हैं, जैसे कि शरीर के ऊपरी हिस्से का उपयोग करके फेंकना, जो सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र होता है। फ्रीस्टाइल कुश्ती में प्रतिद्वंदी को असंतुलित करने के लिए उनके पैर पर हमले करना और रक्षात्मक तकनीकों का उपयोग करना होता है।  

पहलवानों के लिए बहुत सारे स्कोरिंग विकल्प उपलब्ध हैं, अक्सर बाउट में अंतिम सेकंड तक तय नहीं हो पाता कि मैच किसकी ओर गया है, पहलवान अक्सर अंतिम सीटी तक डार्टिंग अटैक और शानदार थ्रो का प्रयास करते हैं।

रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 19: संयुक्त राज्य अमेरिका के Daniel Paul Dennis ने 19 अगस्त, 2016 को Carioca Arena 2 में रियो ओलंपिक खेलों के 14 वें दिन पुरुषों की फ्रीस्टाइल 57 किग्रा कुश्ती प्रतियोगिता के दौरान बुल्गारिया के Vladimir Vladimirov Dubov के खिलाफ मुकाबला किया। रियो डी जनेरियो, ब्राजील में। (Alex Livesey/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 19: संयुक्त राज्य अमेरिका के Daniel Paul Dennis ने 19 अगस्त, 2016 को Carioca Arena 2 में रियो ओलंपिक खेलों के 14 वें दिन पुरुषों की फ्रीस्टाइल 57 किग्रा कुश्ती प्रतियोगिता के दौरान बुल्गारिया के Vladimir Vladimirov Dubov के खिलाफ मुकाबला किया। रियो डी जनेरियो, ब्राजील में। (Alex Livesey/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2016 Getty Images

टोक्यो 2020 खेलों के लिए आउटलुक

प्रतिद्वंदिता, ऐतिहासिक पल और लोकल हीरो टोक्यो 2020 में करेंगे धमाल

टोक्यो 2020 के कुश्ती प्रतियोगिता में प्रत्येक शैली में 96 पुरुष और 96 महिलाएं भाग लेंगी।

इस खेल में रूसी संघ (जो पहले USSR था) ने सबसे अधिक पदक जीते हैं, इसके बाद पदक जीतने वाले शीर्ष देशों में अमेरिका, जापान, जॉर्जिया और तुर्की जैसे देश शामिल हैं।

फ्रीस्टाइल कुश्ती के सितारे रूस, ईरान और संयुक्त राज्य अमेरिका से आते हैं। सुपरस्टार Abdulrashid “The Russian Tank” Sadulaev टोक्यो 2020 में पुरूषों की 97 किग्रा का गोल्ड जीतने के इरादे से ओलंपिक में वापसी करेंगे। यूएसए के ओलंपिक चैंपियन Kyle Snyder उनके प्रतिद्वंदी होंगे। दोनों ने रियों में अपनी वेट कैटेगरी में गोल्ड जीता था। ईरान के Hassan Yazdanicharati ने भी रियो 2016 में गोल्ड पर कब्जा किया था और अब वो 86 किलोग्राम भारवर्ग में टोक्यो की मैट पर उतरेंगे।

ओलंपिक खेलों में कुश्ती में क्यूबा के अलावा किसी भी टीम ने अपने खिताब को डिफेंड नहीं किया है। रियों 2016 के खेलों में क्यूबा के एथलिट ने ग्रीको-रोमन का खिताब अपने नाम कर ये कारनाम किया था। तीन बार के ओलंपिक चैंपियन Mijain Lopez ने 130 किग्रा में भाग लिया था और स्वर्ण पर लगातार तीसरी बार कब्जा जमाया था। अब उनके साथ 60 किलोग्राम भारवर्ग में विश्व और ओलंपिक चैंपियन Ismael Borrero भी होंगे, यही वजह है की क्यूबा के पास टोक्यो में अपने रियो वाले प्रदर्शन को दोहराने का मौका होगा।

जापान दुनिया की सबसे प्रमुख महिला कुश्ती राष्ट्र है, जिसने चार ओलंपिक खेलों में 18 में से 11 स्वर्ण पदक जीते हैं। हॉल ऑफ़ फेम पहलवान Kaori ICHO ने रियो 2016 में एक रिकॉर्ड दर्ज करते हुए चौथा ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता, जापान को पहले ही ऊंचाइयों पर पहुंचाने वाली ये पहलवान टोक्यो में प्रतिस्पर्धा नहीं करेंगी। ओलंपिक चैंपियन Risako Kawai और Sara Dosho जापानी महिला पहलवानों की नई पीढ़ी का नेतृत्व करेंगी, जो स्थानीय प्रशंसकों को खुशी से झूमने का मौका दे सकता है।

सामान्य ज्ञान