Photo by Tom Pennington/Getty Images
Photo by Tom Pennington/Getty Images

वेटलिफ्टिंग में सधारण सा लक्ष्य होता है: किसी और की तुलना में अधिक वजन उठाना। यही वजह है कि ये दर्शक का पसंदीदा खेल है।

टोक्यो 2020 प्रतियोगिता एनीमेशन "एक मिनट, एक स्पोर्ट"

हम आपको एक मिनट में वेटलिफ्टिंग के नियम और हाइलाइट दिखाएंगे। चाहे आप वेटलिफ्टिंग से परिचित हों या इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हों, "एक मिनट, एक स्पोर्ट" खेल की व्याख्या करता है। नीचे वीडियो में देखें कि ये कैसे काम करता है..

वन मिनट, वन स्पोर्ट | वेटलिफ़्टिंग
01:19

अवलोकन

प्राचीनकाल में वेटलिफ्टिंग को ताकत का खेल माना जाता था, जिसमें लोग भारी पत्थरों को उठाकर करतब दिखाते थे। एक नियमबध्द खेल के रूप में वेटलिफ्टिंग का भी लंबा इतिहास रहा है और इसे एथेंस 1896 के आधुनिक ओलंपिक खेलों में पहली बार शामिल किया गया।  

एथेंस 1896 और सेंट लुइस 1904 में खेले गए इवेंट्स में भारत्तोलकों ने अलग तकनीक का इस्तेमाल किया जो अब नहीं किए जाते, जबकि सभी वेटलिफ्टरों ने बॉडीवेट्स की परवाह किए बिना समान इवेंट्स में प्रतिस्पर्धा की। एंटवर्प 1920 में एथलीटों को पहली बार बॉडीवेट की श्रेणियों में बांटकर ये खेल खेला गया। मॉन्ट्रियल 1976 में वजन उठाने की दो तकनीक 'स्नैच' और 'क्लीन एंड जर्क' का विकास किया गया। महिलाओं के इवेंट्स को पहली बार सिडनी 2000 के खलों में शामिल किया गया। 

स्नैच में बार को एक ही प्रयास में फर्श से सिर के ऊपर तक उठाना होता है। इसके विपरीत, क्लीन एंड जर्क दो-चरणों वाला एक्शन होता है – जिसमें बार को पहले सिर के ऊपर तक उठाने से पहले छाती तक लाया जाता है। 

इस खेल में प्रत्येक एथलीट को तीन बार वजन उठाना होता है और प्रत्येक प्रयास में उठाए गए उच्चतम वजन को उस एथलीट का उस चरण के लिए स्कोर माना जाता है।

पुरुष वर्ग 

 61 किग्रा 

67 किग्रा 

73 किग्रा 

81 किग्रा 

96 किग्रा 

109 किग्रा 

+ 109 किग्रा 

महिला वर्ग 

49 किग्रा 

55 किग्रा 

59 किग्रा 

64 किग्रा 

76 किग्रा 

87 किग्रा 

+ 87 किग्रा

रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 6, 2016: रियो डी जनेरियो, ब्राजील के Riocentro Pavilion में रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 48 किलोग्राम भारोत्तोलन के दौरान Miyake Hiromi.
रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 6, 2016: रियो डी जनेरियो, ब्राजील के Riocentro Pavilion में रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 48 किलोग्राम भारोत्तोलन के दौरान Miyake Hiromi.

खेल का सार

शाररिक और मानसिक ताकत

देखने में वेटलिफ्टिंग एक साधारण खेल लग सकता है, लेकिन इस खेल में सबसे अधिक शारीरिक और मानसिक नियंत्रण की जरुरत होती है। फर्श से सिर के ऊपर तक दो बार वजन उठाने के लिए केवल शरीर की हर मांसपेशियों को जुटाना नहीं होता। अत्यधिक शक्ति वाले इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए पूर्ण ध्यान, शानदार तकनीक और एक जंग की भावना की आवश्यकता होती है।

एथलीटों को अपने नाम पुकारने के एक मिनट के भीतर एक लिफ्ट का प्रयास करना चाहिए। इसे दो मिनट तक बढ़ाया जाता है, जहां लगातार लिफ्ट करने का प्रयास किया जाता है। शरीर और दिमाग को इतने कम समय में तैयार करना, लय बरकरार रखना और शांत रहना एथलिट्स के लिए किसी चुनौती से कम नहीं होती।  

स्नैच में वजन को एक निरंतर गति में उठाया जाता है, जिसमें लिफ्टर गतिहीन होता है और उसके हाथ और पैर, पैर की लाइन में होते हैं। क्लीन एंड जर्क में लिफ्टर पहले छाती पर वजन उठाता है, फिर हाथों और पैरों को फैलाता है, फिर पैरों को एक बार फिर लाइन पर रखकर वजन को ऊपर उठाता है। जब बारबेल को उठाया जाता है, तो कोहनी मुड़ी हुई नहीं होनी चाहिए और हाथों को फैनाने में कोई असंतुलन नहीं होना चाहिए। 

अगर ऐसा करने में सिग्नल से पहले बारबेल गिर जाता है, तो लिफ्ट को विफल माना जाता है। निर्धारित समय के भीतर लिफ्ट शुरू न करने या पैरों के तलवों के अलावा शरीर के किसी भी हिस्से से मंच को छूने पर एथलिट्स को जुर्माना भरना पड़ सकता है।

प्रत्येक लिफ्टर को स्नैच में तीन प्रयास और क्लीन एंड जर्क में तीन प्रयास करने की अनुमति होती है। प्रत्येक में उनका सबसे अच्छा लिफ्ट उनके कुल परिणाम को निर्धारित करने के लिए जोड़ा जाता है। यदि कोई एथलीट स्नैच में अपने तीन प्रयासों में से एक भी वैध लिफ्ट करने में विफल रहता है, तो वो क्लीन एंड जर्क में आगे नहीं बढ़ सकता और प्रतियोगिता से बाहर हो जाता है।  

जब कोई टाई होता है तो समय के आधार पर उस कुल वजन तक पहुंचने वाला एथलीट विजेता होता है।

टोक्यो 2020 खेलों के लिए आउटलुक

वेटलिफ्टिंग का पोडियम होगा और शाक्तिशाली

रियो 2016 खेलों में पुरुषों के लिए आठ और महिलाओं के लिए सात बॉडीवेट श्रेणियां थीं। 1 नवंबर 2018 को अंतरराष्ट्रीय वेटलिफ्टिंग महासंघ की ओर से पुरुषों और महिलाओं के लिए 10 नए बॉडीवेट श्रेणियां पेश की गईं, और टोक्यो 2020 में उन दस बॉडीवेट श्रेणियों में से सात में प्रतियोगी प्रतिस्पर्धा करेगा। 

पूरे ओलंपिक इतिहास में पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना और पूर्व सोवियत संघ के देशों को वेटलिफ्टिंग में सबसे अधिक सफलता मिली है। चीनी वेटलिफ्टरों ने एथेंस 2004 से रियो 2016 तक पुरुषों के 69 kg वर्ग में लगातार चार स्वर्ण पदक जीते और सिडनी 2000 के बाद से चीन की महिलाओं ने 35 में से 14 स्वर्ण पदक अपने नाम किए।

अन्य एशियाई देशों के एथलीटों के साथ-साथ यूरोप के एथलिट भी हमेशा से ही इस खेल के दावेदार माने जाते हैं। रियो 2016 के खेलों में सिर्फ 22 साल के जॉर्जिया के Lasha Talakhadze ने 215 kg का स्नैच पूरा किया और पुरुषों के हैवी बॉडीवेट वर्ग (पुरुष +105 kg ) में 258 kg का क्लीन एंड जर्क पूरा किया, जिसमें उन्होंने कुल 473 किग्रा विश्व रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण पदक हासिल किया। महिलाओं की स्पर्धा में स्पेन की Lidia Valentin Perez ने महिलाओं के 75 kg वर्ग में (बीजिंग 2008 में रजत, लंदन 2012 में स्वर्ण और रियो 2016 में कांस्य) पदक अपनी झोली में डाला और टोक्यो 2020 में वो एक और पदक जीतना चाहेंगी।

सामान्य ज्ञान