ट्रायथलॉन

Photo by Alex Livesey/Getty Images
Photo by Alex Livesey/Getty Images

*ट्रायथलॉन में खिलाड़ियों को प्रतिस्पर्धा के लिए ना सिर्फ अच्छा तैराक होना चाहिए बल्कि अच्छा साइकलिस्ट और अच्छा रनर भी होना चाहिए। *

टोक्यो 2020 प्रतियोगिता एनीमेशन "एक मिनट, एक स्पोर्ट"

हम आपको एक मिनट में ट्रायथलॉन के नियम और हाइलाइट दिखाएंगे। चाहे आप ट्रायथलॉन से परिचित हों या इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हों, "एक मिनट, एक स्पोर्ट" खेल की व्याख्या करता है। नीचे वीडियो में देखें कि ये कैसे काम करता है..

वन मिनट, वन स्पोर्ट | ट्रायथलॉन
01:24

अवलोकन

ट्रायथलॉन वो खेल है जिसमें तैराकी, सड़क साइकिलिंग और डिसटेंस रनिंग को एक क्रम में प्रदर्शन किया जाता है। इस खेल के इवेंट कई तरह की दूरी पर आयोजित किए जाते हैं लेकिन ओलंपिक में पुरुषों और महिलाओं को 1,500m तैराकी, 40 km बाइक राइंडिंग और 10 km दौड़ना होता है।

दौड़ शुरू से अंत तक बिना किसी ब्रेक के पूरी करनी होती है। इसमें किसी प्रकार की हीट नहीं होती, पुरुष और महिलाओं की स्पर्धाओं में सिंगल दौड़ शामिल है, जिसमें फिनिश लाइन को पार करने वाला पहला एथलीट विजेता होता है। पुरुषों की स्पर्धा में पदक विजेता को लगभग एक घंटे 45 मिनट में दूरी पूरी करनी होती है, जबकि शीर्ष स्तर की महिलाएं इस दौड़ को दो घंटे में पूरी कर लेती है।

ये खेल 1970 के दशक के दौरान USA में विकसित हुआ और Sydney 2000 खेलों में ओलंपिक कार्यक्रम का हिस्सा बन गया, तब एथलीटों को चियर करने के लिए शहर के सड़कों पर आधा लाख से अधिक दर्शकों ने लाइन लगा दी थी।

टोक्यो 2020 में इस खेल को और ऊंचाई पर ले जाने की कोशिश में एक नए इवेंट मिक्स रिले को इसमें शामिल किया गया है। जिसमें दो पुरुषों और दो महिलाओं की टीम एक शॉर्ट-कोर्स ट्रायथलॉन (300 मीटर तैराकी, 8 km बाइक, 2 km दौड़) में प्रतिस्पर्धा करेगी। इस पूरी प्रक्रिया को पूरा होने में लगभग एक घंटे 30 मिनट का समय लगता है, एथलीट इस अप्रत्याशित प्रारूप का आनंद लेते हैं, जबकि दर्शकों का भी भरपूर मनोरंजन होता है।

कार्यक्रम

  • व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा (पुरुष/महिला) 
  • मिक्स रिले

ओलंपिक ट्रायथलॉन व्यक्तिगत का सफर (पुरुष/महिला)

ओलंपिक ट्रायथलॉन मिक्स रिले का सफर

खेल का सार

सफलता के लिए बदलाव

इस खेल के तीनों विभाग में उच्च स्तर के कौशल के साथ-साथ ट्रायथलॉन का अनुभव और कारगर रणनीति की जरुरत होती है। सभी प्रतियोगियों में विशेष ताकत होती है, इसलिए पूरे खेल के दौरान सावधानी बरतने की जरूरत होती है।

तैराकी और साइकलिंग खंड के बीच और साइकलिंग और दौड़ने खंड के बीच के चरण महत्वपूर्ण होते हैं। जब प्रतियोगी एक अगले खंड की तैयारी के लिए कपड़े और जूते बदलते हैं तो वो ट्रांजिशन एरिया में प्रवेश करते हैं, इस बीच के समय को ट्रांजिशन कहते हैं, जो कि प्रत्येक एथलीट के कुल समय में जोड़ा गया समय होता है। ट्रांजिशन के दौरान एथलिट महत्वपूर्ण सेकंड हासिल या नुकसान कर सकते हैं, इसलिए एथलीट समय बचाने के लिए कुछ भी कर सकते हैं जिससे वे समय बचा सकते हैं, जिसमें उनके साइकल के जूते पहले से ही उनकी बाइक के पैडल से जुड़े होते हैं

हालांकि, नियमों में सब कुछ स्पष्ट होता है कि किन किन चीजों की इजाज़त होती है और किस वजह से पेनल्टी लगाई जा सकती है। उदाहरण के लिए ट्रांजिशन एरिया में साइकिल चलाना। बाइक कोर्स की शुरुआत और ट्रांजिशन एरिया के बाहर एक रेखा होती है जहां एथलीट्स अपनी साइकिल को रखकर आगे बढ़ सकते हैं। ट्रांजिशन एरिया के प्रवेश द्वार और बाइक कोर्स के अंत में एक डिसमाउंट लाइन भी होती है। 

ड्राफ्टिंग की तकनीक भी खेल का एक प्रमुख पहलू है। साइकलिंग सेगमेंट में एथलीट एक दूसरे के पीछे निकटता से पीछा करते हैं, जहां राइडर द्वारा बनाई गई कम हवा के प्रतिरोध का फायदा उठाते हुए आगे निकलने के मौके का इंतजार करते हैं।

रियो डे जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 20: संयुक्त राज्य अमेरिका के Gwen Jorgensen (20), ग्रेट ब्रिटेन के Non Stanford (16) और ग्रेट ब्रिटेन के Vicky Holland (14) ने रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 15 वें दिन महिला ट्रायथलॉन के दौरान सवारी की। 20 अगस्त, 2016 को Fort Copacabana में, रियो डी जनेरियो, ब्राजील में। (Quinn Rooney / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
रियो डे जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 20: संयुक्त राज्य अमेरिका के Gwen Jorgensen (20), ग्रेट ब्रिटेन के Non Stanford (16) और ग्रेट ब्रिटेन के Vicky Holland (14) ने रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 15 वें दिन महिला ट्रायथलॉन के दौरान सवारी की। 20 अगस्त, 2016 को Fort Copacabana में, रियो डी जनेरियो, ब्राजील में। (Quinn Rooney / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2016 Getty Images

टोक्यो 2020 खेलों के लिए आउटलुक

इस खेल की रिकॉर्ड उपलब्धियां

ट्रायथलॉन केवल पाँच अवसरों पर खेलों का हिस्सा रहा है। इसके बावजूद इस खेल ने वैश्विक स्तर पर अपनी पहचान बनाई है और प्रतिभागियों की भागीदारी में तेजी से वृद्धि को प्रोत्साहित किया है।

सभी देशों के पुरुषों और महिलाओं की इवेंट्स के स्थान अंतर्राष्ट्रीय ट्रायथलॉन संघ के प्रतियोगिताओं के परिणाम के आधार पर आवंटित किए जाते हैं। एथलीट्स को तीनों विभागों में प्रदर्शन के आधार पर अंक दिए जाते हैं। 

अब तक बांटे गए 30 ओलंपिक पदक 13 देशों के बीच विभाजित किए गए हैं, जो खेल की विश्वव्यापी ताकत को दर्शाता है। ग्रेट ब्रिटेन के Alistair Brownlee ने पुरुषों का स्वर्ण पदक लंदन 2012 और रियो 2016 में दो बार जीता है। दोनों अवसरों पर पोडियम पर उनका साथ देने के लिए उनके भाई Jonathan भी आए हैं। लंदन में कांस्य पदक विजेता Alistair Brownlee के छोटे भाई ने रियो में रजत पदक जीता।

महिला स्पर्धा में स्विट्जरलैंड ने दो बार स्वर्ण जीता है। Nicola Spirig Hug एकमात्र महिला ट्रायथलिट हैं जिन्होंने इस खेल में दो ओलंपिक पदक जीते हैं, लंदन 2012 में एक संघर्षपुर्ण रेस में स्वर्ण पदक जीतने के बाद उन्होंने रियो 2016 में रजत जीता, जहां वो USA की Gwen Jorgensen से पीछे रह गई।

क्या टोक्यो 2020 खेलों में इस खेल के सबसे बेहतरिन और चुनौती देने वाले नए सितारे उभर कर सामने आएंगे?

सामान्य ज्ञान

डाटा उपलब्ध नहीं