मैराथन तैराकी

Photo by Clive Rose/Getty Images
Photo by Clive Rose/Getty Images

सबसे लंबी तैराकी रेस। दो घंटे के धैर्य और साहस की कड़ी परीक्षा।

टोक्यो 2020 प्रतियोगिता एनीमेशन "एक मिनट, एक स्पोर्ट"

हम आपको एक मिनट में मैराथन तैराकी के नियम और हाइलाइट्स दिखाएंगे। अगर आप मैराथन तैराकी से परिचित हैं या इसके बारे में अधिक जानना चाहते हैं, "एक मिनट, एक स्पोर्ट" इस खेल की व्याख्या करता है और इसके बारे में सब कुछ बताता है। नीचे दिया गया वीडियो देखें।

वन मिनट, वन स्पोर्ट्स| मैराथन तैराकी
01:18

अवलोकन

समुद्र, नदियों और झीलों जैसे वातावरण के खुले पानी की जगह सुरक्षा के दृष्टिकोण से पुरुषों और महिलाओं की 10 किलोमीटर खुली जल तैराकी इवेंट को मैराथन तैराकी इवेंट के रूप में जाना जाता है। इस इवेंट को ओलंपिक कार्यक्रम में हाल ही में जोड़ा गया, जिसने बीजिंग 2008 खेलों से अपना डेब्यू किया। आमतौर पर इस इवेंट को एक गोलाकार कोर्स में आयोजित किया जाता है। जिसमें तैराकों को नियमित अंतराल पर पानी मिलता है, क्योंकि यहां दो घंटे तक उनके धैर्य और साहस का परीक्षण किया जाता है। स्वाभाविक रूप से, रिकॉर्ड महत्वपूर्ण हैं। लेकिन जैसाकि अक्सर रेस मौसम और खुले पानी की स्थिति से निर्धारित होती है, ऐसे में रणनीति की योजना बनाना महत्वपूर्ण महत्व रखता है। वे तैराक जो अपने सर्वोत्तम लाभ के लिए लहरों और धाराओं का उपयोग करने में सक्षम होते हैं, वे अक्सर सर्वोत्तम परिणाम हासिल करते हैं। अच्छी फिजिकल कंडीशन में होना एक कारण है, लेकिन कई तैराकों के पास कुशल परिस्थितियों में अनुभव के साथ-साथ मौजूदा परिस्थितियों का जवाब देने और बेहतरीन रणनीति बनाने की योजना भी उन्हे लाभ पहुंचाती है। प्रतियोगियों में तैराकों की गर्दन से गर्दन की तैराकी को देखना और एक दूसरे को पछाड़ना दर्शकों को रोमांचित करता है।

इवेंट प्रोग्राम

  • 10 किलोमीटर मैराथन तैराकी (मेन/वूमेन)
रियो डी जनेरियो, ब्राजील - 15 अगस्त, 2016: रियो डी जनेरियो, ब्राजील में Copacabana beach पर रियो 2016 ओलंपिक खेलों की महिला तैराकी मैराथन के दौरान सामान्य दृश्य।
रियो डी जनेरियो, ब्राजील - 15 अगस्त, 2016: रियो डी जनेरियो, ब्राजील में Copacabana beach पर रियो 2016 ओलंपिक खेलों की महिला तैराकी मैराथन के दौरान सामान्य दृश्य।

खेल का सार

पेश है मैराथन तैराकी के रोमांचक और जरूर देखने वाले क्षण। आगे बढ़ना और आगे निकल जाना – फिनिश लाइन की दौड़ एक ऐसा दृश्य है जिसे जरूर देखना चाहिए!

मैराथन तैराकी (खुले पानी में तैराकी) सबसे पहले "वातावरण" में होती थी, क्योंकि पहले के समय में पूल उपलब्ध नहीं होते थे। इसलिए, ओलंपिक खेलों (एथेंस 1896, पेरिस 1900 और सेंट लुइस 1904) के पहले तीन संस्करणों में तैराकी के सभी कार्यक्रम "वातावरण के खुले पानी" में हुए। 1991 में ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में आयोजित World Aquatics Championships के बाद मैराथन तैराकी एक आधिकारिक इवेंट बन गया। उस समय पुरुषों और महिलाओं दोनों की स्पर्धाएं 25 किमी से अधिक आयोजित की जाती थीं, जिन्हें पूरा करने में पांच घंटे लगते थे। पहली बार 10 किमी से अधिक का आयोजन 2001 में जापान के फुकुओका में 9th Fina World Swimming Championships में हुआ था। उसी के बाद इस दूरी के साथ मैराथन तैराकी एक आधिकारिक ओलंपिक इवेंट बन गया।

2008 में बीजिंग में 29वें ओलंपियाड के खेलों में इस कार्यक्रम को पहली बार ओलंपिक कार्यक्रम में दिखाया गया था। पुरुषों की स्पर्धा के लिए पहले स्वर्ण पदक के विजेता डच तैराक Maarten Vannon de Weijden थे, जिन्होंने एक बेहतरीन ओलंपिक चैंपियन बनने के मुक़ाबले में ल्यूकेमिया को पीछे छोड़ा था। Larisa Ilchenko, एक रूसी लंबी दूरी की तैराक जिसने लंबे समय तक विश्व तैराकी चैंपियनशिप में अपना दबदबा कायम रखा और महिलाओं की स्पर्धा जीती। Ilchenko गोल्ड जीतने के लिए फिनिश लाइन की ओर तेज़ी से बढ़ीं और अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी को पछाड़ते हुए विजेता बन गईं।

10 किमी धैर्य वाली इस रेस के सबसे दिलचस्प पहलुओं में से एक 7 किमी के आसपास आता है, जब तैराकी फिनिश लाइन के लिए आगे बढ़ते हैं। यह उन कारकों में से एक है जो पदक हासिल करने के लिए किसी तैराक को बाकी लोगों से अलग करता है, जो बहुत अधिक ऊर्जा और शक्ति का उपयोग किए बिना अपने अंतिम चार्ज को अंतिम पंक्ति तक बनाए रखने में सक्षम होते हैं। एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू यह है कि प्रतियोगी कोर्स की स्थितियों और रेस की बदलती गति पर कैसे प्रतिक्रिया देते हैं, जहां वे गति के परिवर्तनों के दौरान खुद को काबू में रखते हैं, और कैसे वे एक प्रभावी कोर्स को बनाए रखने में सक्षम होते हैं।

एक प्रभावी कोर्स को बनाए रखना काफी हद तक कोर्स की स्थितियों पर निर्भर करता है। समुद्र में, लहरें और धाराएं जल्दी से बदल सकती हैं, और यह जरूरी है किये तैराकों की रणनीतियों में सहायकर हें। अनुभवी प्रतियोगी अपने लाभ के लिए लहरों और धाराओं में हो रहे परिवर्तन का उपयोग करने में सक्षम होते हैं। रेस विजेता अक्सर वे होते हैं जो सबसे छोटे मार्गों से आगे बढ़ते हैं।

रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 16: न्यूजीलैंड के Kane Radford ने रियो डी जेनेरियो, ब्राजील में 16 अगस्त, 2016 को Fort Copacabana में रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 11 वें दिन पुरुषों की 10 किमी मैराथन तैराकी में प्रतिस्पर्धा की। (Quinn Rooney / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 16: न्यूजीलैंड के Kane Radford ने रियो डी जेनेरियो, ब्राजील में 16 अगस्त, 2016 को Fort Copacabana में रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 11 वें दिन पुरुषों की 10 किमी मैराथन तैराकी में प्रतिस्पर्धा की। (Quinn Rooney / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2016 Getty Images

टोक्यो 2020 खेलों के लिए आउटलुक

*एक कड़ी टक्कर वाली धैर्य की रेस जो स्प्रिंट इवेंट की तरह बनती जा रही है। *

जब मैराथन तैराकी को पहली बार बीजिंग 2008 खेलों में एक ओलंपिक कार्यक्रम के रूप में शामिल किया गया था तो अधिकांश प्रतियोगी ऐसे थे जो पूरी तरह से इस खेल से वाकिफ़ नहीं थे। हालांकि, धीरे-धीरे यह इवेंट अपने आप चर्चित होने लगा और प्रतिस्पर्धी परिदृश्य बदलने लगा। अन्य लंबी दूरी के इवेंट से भी तैराक धीरे-धीरे इस प्रतियोगिता में प्रवेश करने लगे।

इसका एक प्रमुख उदाहरण लंदन 2012 खेलों में पुरुषों की मैराथन तैराकी प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक विजेता ट्यूनीशियाई तैराक Usama Meloli के तौर पर देखा जा सकता है। Mellouli ने बीजिंग 2008 खेलों में पुरुषों की 1,500 मीटर फ़्री स्टाइल स्पर्धा में स्वर्ण पदक और लंदन 2012 खेलों में इसी स्पर्धा में कांस्य पदक जीतने का दावा किया था। यही नहीं मैराथन तैराकी में उनकी सफलता ने उन्हें दोनों ओलंपिक खेलों (पूल और खुले पानी के इवेंट) में पदक जीतने वाले पहले व्यक्ति के रूप में स्थापित किया। इस दोहरी सफलता का कारण शायद इस तथ्य में पाया जा सकता है कि लंदन 2012 खेलों में मैराथन तैराकी कार्यक्रम के लिए कोर्स लंदन के Hyde Park में स्थिर पानी की Serpentine Lake थी, जिसका अर्थ है तैराक जिनकी विशेषता पूरी तरह से धैर्य के बजाय गति थी, उन्हें भी इस कोर्स की स्थितियों ने बेहतरीन अवसर प्रदान किया। संयोग से बीजिंग और लंदन दोनों खेलों के लिए मैराथन तैराकी कार्यक्रमों का आयोजन सार्वजनिक पार्कों में निहित झीलों पर किया गया था।

लंदन 2012 खेलों के बाद से गति में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है, जिसके साथ मैराथन तैराकी इवेंट का मुकाबला किया गया। रणनीति और अनुभव के साथ-साथ गति पर अधिक ध्यान दिया गया है। वर्तमान में मैराथन तैराकी स्पर्धाओं में भाग लेने वाले अधिकांश तैराक ओलंपिक खेलों और अन्य प्रमुख अंतरराष्ट्रीय तैराकी स्पर्धाओं में अन्य लंबी दूरी की स्पर्धाओं में भी प्रतिस्पर्धा करते हैं।

शायद यही कारण है कि हाल के वर्षों में इतनी लंबी दूरी की दौड़ – यहां तक कि लंबी दौड़ और 10 किमी थका देने वाली दौड़ – केवल कुछ सेकंड के अंतर से जीते जा रहे हैं। इस मामले में रियो 2016 खेलों में पुरुषों की 10 किमी का इवेंट एक बेहतरीन उदाहरण है। यह पहली बार था जब से यह इवेंट ओलंपिक कार्यक्रम पर एक नियमित प्रोग्राम बन गया, जिसे समुद्र में आयोजित किया जाता था। कुछ 13 तैराकों ने अंतिम 100 मीटर में एक साथ प्रवेश किया, ग्रीक तैराक Spyridon Gianniotis और डच मैन Ferry Wertmann ने पैक से अलग होकर ठीक उसी समय को रिकॉर्ड किया। आखिरकार, उन्हें एक मामूली फिनिश के साथ अलग होना पड़ा। फोटो में दिखाया गया था कि Gianniotis एक सिर के नेतृत्व में थे, लेकिन Wertmann ने जीतने के लिए पहले फिनिश लाइन को छू लिया था। दर्शकों के लिए, यह एक अद्भुत समापन था, जिसके परिणाम बहुत अंतिम स्ट्रोक तक तय नहीं किए जा सके थे।

भले ही रेस खुले पानी की स्थिति में हुई थी, लेकिन यह पहली दौड़ थी जिसमें गति ने इतनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। यूरोपीय तैराकों ने हाल के वर्षों में सुधार किया है, और भविष्य में मैराथन तैराकी में बड़े स्तर पर हिस्सा लेना सुनिश्चित है। इस तरह से गति के प्रमुख कारक बनने के साथ, हम टोक्यो 2020 खेलों में किस तरह की दौड़ के लिए तत्पर हो सकते हैं? एक बात सुनिश्चित है – आप अपनी पलकें एक सेकंड के लिए भी नहीं झपका पाएंगे!

सामान्य ज्ञान

डाटा उपलब्ध नहीं