Photo by Ross Kinnaird/Getty Images
Photo by Ross Kinnaird/Getty Images

गोल्फ की रियो ओलंपिक 2016 में वापसी हुई और अब टोक्यो 2020 के ओलंपिक में ये खेल आकर्षण का केंद्र बन सकता है।

टोक्यो 2020 प्रतियोगिता एनीमेशन "एक मिनट, एक स्पोर्ट"

हम आपको एक मिनट में गोल्फ के नियम और हाइलाइट दिखाएंगे। भले ही आप गोल्फ से परिचित हों या इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हों, "एक मिनट, एक स्पोर्ट" आपके लिए ही है जो खेल को आसानी से समझाता है। ये कैसे काम करता है ये जानने के लिए नीचे वीडियो देखें

वन मिनट, वन स्पोर्ट | गोल्फ
01:18

अवलोकन

गोल्फ में क्लबों (जिसके द्वारा गेंद पर प्रहार किया जाता है) के चयन का उपयोग करके छेदों की एक श्रृंखला में गेंद को पहुंचाना होता है। इस दौरान स्ट्रोक की संख्या भी गिनी जाती है। पेरिस ओलंपिक 1900 और सेंट लुइस ओलंपिक 1904 में गोल्फ एक आधिकारिक खेल था, जिसके बाद से ये खेल रियो ओलंपिक 2016 में लौटने तक ये खेल ओलंपिक से गायब हो गया था।

गोल्फ के दो मुख्य प्रारूप हैं: पहला है मैच प्ले, जिसमें दो गोल्फर एक-दूसरे के छेदों के खिलाफ प्रतिस्पर्धा करते हैं, और दूसरा स्ट्रोक प्ले, जिसमें खेले गए शॉट्स की कुल संख्या को गिना जाता है। खेलों में स्ट्रोक प्ले का उपयोग किया जाता है, जिसमें एथलीट चार दिनों में 18 छेदों के चार राउंड खेलते हैं, जिसमें कुल 72 छेद होते हैं। International Golf Federation द्वारा संगठित विश्व रैंकिंग के आधार पर 60 पुरुष और 60 महिलाएं भाग लेते हैं।

प्रत्येक छेद के लिए गोल्फर कोटी से ग्रीन तक की कठिनाई और लंबाई के आधार पर स्ट्रोक की एक पूर्व निर्धारित संख्या सौंपी जाती है – उदाहरण के लिए, तीन, चार या पांच। खिलाड़ी को उस स्ट्रोक्स की संख्या में गेंद को छेद में पहुंचाना होता है। अगर खिलाड़ी एक स्ट्रोक कम के साथ ऐसा करता है तो उसे एक बर्डी कहा जाता है, जबकि दो स्ट्रोक कम के साथ ऐसा करने में सफल होता है तो एक ईगल के रूप में जाना जाता है।

इसके विपरीत, यदि एक स्ट्रोक अधिक लगा तो उसे बोगी और दो स्ट्रोक अधिक लगा तो डबल बोगी होता है। ये 18-छेद वाले गोल्फ कोर्स के लिए विशिष्ट है, जिसमें 72 छेद और स्ट्रोक्स होते हैं। अगर खिलाड़ी 72 छेदों वाले कोर्स को 71 स्ट्रोक में पूरा कर देता है तो उसे 'वन अंडर' कहा जाता है, जबकि एक खिलाड़ी जो 74 स्ट्रोक के साथ उसी कोर्स पूरा करता है तो उसे 'टू ओवर' कहा जाता है |

इवेंट कार्यक्रम

  • व्यक्तिगत स्ट्रोक-प्ले (पुरुष/महिला)
RIO DE JANEIRO, BRAZIL - AUGUST 13: स्वीडन के Henrik Stenson ने ओलंपिक गोल्फ कोर्स में मेन्स इंडिविजुअल स्ट्रोक प्ले इवेंट के तीसरे राउंड के दौरान पैरा -18 वें होल पर अपना दांव देखा। (Ross Kinnaird / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
RIO DE JANEIRO, BRAZIL - AUGUST 13: स्वीडन के Henrik Stenson ने ओलंपिक गोल्फ कोर्स में मेन्स इंडिविजुअल स्ट्रोक प्ले इवेंट के तीसरे राउंड के दौरान पैरा -18 वें होल पर अपना दांव देखा। (Ross Kinnaird / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2016 Getty Images

खेल का सार

बेहतरीन कौशल और छोटे मार्जिन

गोल्फ को अक्सर प्राकृतिक विशेषताओं और जलवायु परिस्थितियों के कारण एक जटिल खेल के रूप में देखा जाता है। असमतल मैदान, पानी का भराव, ढलान और बंकर किसी भी के लिए चुनौती हो सकती हैं। यहां तो ये खेल का हिस्सा होता है। यही नहीं बारिश, धूप और हवा भी गोल्फ कोर्स को प्रभावित कर सकते हैं। जिसके कारण खिलाड़ियों को मौसम के अनुकूलन बदलने की आवश्यकता होती है।

खिलाड़ी अपने साथ 14 क्लब तक ले जा सकते हैं, जिसमें गेंद को बड़ी दूरी तक मारने के लिए ड्राइवर भी शामिल होते हैं। सटीक शॉट से गेंद को छेद तक पहुंचाने के लिए आयरन का प्रयोग किया जाता है जबकि ग्रिंस ने होल तक के लिए पुटर का प्रयोग होता है। खिलाड़ी अपने अनुभव के अनुसार ये तय करते हैं कि उन्हें कौन-सा क्लब इस्तेमाल करना है। खिलाड़ी की मानसिक शक्ति इस खेल के परिणाम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। खिलाड़ियों को दबाव वाली परिस्थितियों से सफलतापूर्वक निपटने की क्षमता होनी चाहिए।

गोल्फ की सबसे आकर्षक विशेषता ये है कि इसमें कोई भी रेफरी या जज नहीं होता, इससे ये पता चलता है कि इस खेल में कितनी निष्पक्षता और विश्वास है, सभी खिलाड़ी सद्भावना की भावना से खेलते हैं जानबूझकर गलत व्यवहार नहीं करते। यही वजह है कि गोल्फरों को सही और योग्य ओलंपियन माना जाता है।

टोक्यो 2020 खेलों के लिए आउटलुक

रियो में खेल के लिए एक यादगार वापसी

इस खेल में अमेरिका को सबसे आगे माना जाता है क्योंकि विश्व रैंकिंग में यूएसए के ज्यादातर पुरुष खिलाड़ी शिर्ष रैंकिंग में होते हैं। हालांकि रियो ओलंपिक 2016 में पुरुषों के इवेंट को ग्रेट ब्रिटेन के Justin Rose ने जीता था, तब वो दुनिया में 11वें स्थान पर थे।

Rose ने इस दौरान एक नहीं बल्कि दो इतिहास रचे। उन्होंने पहली बार होल-इन-वन रिकॉर्ड बनाया जबकि 112 साल बाद पहले ओलंपिक चैंपियन बने। स्पेन, स्वीडन और ऑस्ट्रेलिया से भी कई प्रतिभावान गोल्फर सामने आए हैं। 

महिला गोल्फ में कोरिया गणराज्य एक बड़ी ताकत है। रियो ओलंपिक 2016 में जहां प्रत्येक देश को विश्व रैंकिंग में शीर्ष 15 स्थानों से चार एथलीटों को भेजने की अनुमति दी गई थी वहीं कोरिया गणराज्य ने दुनिया के शीर्ष आठ में से चार खिलाड़ियों को मैदान में उतारा था। उस समय दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी Inbee Park ने स्वर्ण पदक जीता था।

टोक्यो 2020 में होने वाले Varadant Musashino Hills के Kasumigaseki Country Club में कौन जीत का परचम लहराएगा?

सामान्य ज्ञान