तीरंदाजी

Photo by Paul Gilham/Getty Images
Photo by Paul Gilham/Getty Images

तीरंदाज़ी (*आर्चरी)में ज़रूरत होती है कौशल और एकाग्रता की, ताकि 70 मीटर दूर से एक तीरंदाज़ सीधे लक्ष्य पर निशाना लगा सके।

टोक्यो 2020 प्रतियोगिता एनीमेशन "एक मिनट, एक स्पोर्ट"

हम आपको एक मिनट में तीरंदाज़ी के नियम और हाइलाइट दिखाएंगे। चाहे आप तीरंदाज़ी से परिचित हों या इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हों, "एक मिनट, एक स्पोर्ट" खेल की व्याख्या करता है। नीचे वीडियो में देखें कि ये कैसे काम करता है..

वन मिनट, वन स्पोर्ट | तीरंदाजी
01:13

अवलोकन

ओलंपिक तीरंदाज़ी का जो लक्ष्य बोर्ड होता है उसकी चौड़ाई 122 सेंटीमीटर व्यास की होती है, जिनमें पांच अलग अलग रंगों की 10 स्कोरिंग रिंग बनी होती है। अंदर वाली रिंग का रंग सुनहरा होता है इसमें 10 या 9 अंक आते हैं। (10 का माप सिर्फ़ 12.2 सीएम व्यास का होता है जिसका आकार एक एप्पल के बराबर होता है) । तीरंदाज़ लक्ष्य पर निशाना 70 मीटर की दूरी से लगाते हैं, जो दो मध्यम दूरी के विमानों के पंखों के किनारे-किनारे है।

ज़ाहिर सी बात हैं कि इसके लिए ज़बरदस्त कौशल की दरकार होती है, साथ ही साथ ये एक ऐसा खेल है जहां थोड़ा भी ध्यान भटका तो बड़ा नुकसान हो सकता हैं । लिहाज़ा इसके लिए मानसिक तौर से मज़बूत होना लाज़िमी है। बेहतरीन शूटर्स लाजवाब एकाग्रता और मानसिक शक्ति के साथ बेहद कठिन परिस्थितियों में भी लक्ष्य पर निशाना साधने की क़ाबिलियत रखते हैं। 

तीरंदाज़ी की शुरुआत 10 हज़ार सालों पहले हुई थी, जब तीर और धनुष का इस्तेमाल शिकार और युद्ध के लिए किया जाता था, जिसके बाद इसे मध्ययुगीन इंग्लैंड में एक प्रतिस्पर्धी गतिविधि के रूप में विकसित किया गया। तीरंदाजी के कई प्रकार हैं, जिसमें लक्ष्य पर निशाना लगाना है, जहां प्रतियोगी एक सपाट सीमा पर स्थिर लक्ष्य पर निशाना लगाते हैं। फील्ड तीरंदाजी, जिसमें अलग-अलग और अक्सर बिना किसी तय दूरी के निशाना लगता है, ये आमतौर पर वुडलैंड और और आस पास के इलाक़ों में होती है। 

सिर्फ़ लक्ष्य पर निशाना लगाना (टारगेट आर्चेरी) एक ओलंपिक खेल है, जो दुनिया भर के 160 से ज़्यादा देशों में खेली जाती है।  

तीरंदाजी ने पेरिस ओलंपिक में अपना पदार्पण किया और 1908 और 1920 में भी चित्रित किया। लेकिन नियम असंगत थे, पूरी तरह से मेजबान देश पर निर्भर करते हुए, एथलीटों के लिए यह मुश्किल था। 52 साल के अंतराल के बाद, आधुनिक खेल को म्यूनिख 1972 में फिर से शुरू किया गया था और तब से यह ओलंपिक कार्यक्रम पर बना हुआ है। टोक्यो 2020 में, एथलीट पुरुषों और महिलाओं की व्यक्तिगत स्पर्धाओं, पुरुषों और महिलाओं की टीम स्पर्धाओं और मिश्रित टीम स्पर्धा में प्रतिस्पर्धा करेंगे। मिश्रित टीम ओलंपिक कार्यक्रम के लिए एक नया अतिरिक्त है। 

तीरंदाज़ी पहली बार ओलंपिक में पेरिस 1900, और 1908 और 1920 में भी । लेकिन नियम असंगत थे, पूरी तरह से मेजबान देश पर निर्भर थे, जिससे एथलीटों के लिए यह मुश्किल हो गया। आख़िरकार 52 सालों के लंबे फ़ासले के बाद म्यूनिक 1972 में तीरंदाज़ी फिर से ओलंपिक में शामिल की गई और तब से अब तक लगातार आर्चेरी ओलंपिक का हिस्सा है। टोक्यो 2020 में, एथलीट पुरुषों और महिलाओं की व्यक्तिगत स्पर्धाओं, पुरुषों और महिलाओं की टीम स्पर्धाओं और मिश्रित टीम स्पर्धा में प्रतिस्पर्धा करेंगे। मिश्रित टीम ओलंपिक कार्यक्रम के लिए एक नया अतिरिक्त है।

कार्यक्रम

  • -व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा (पुरुष/महिला)
  • -टीम प्रतिस्पर्धा (पुरुष/महिला)
रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 12: चिली के Ricardo Soto रियो ओलंपिक 2016 के रियो डी जनेरियो में 12 अगस्त, 2016 को Sambodromo में रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 7 वें दिन के पुरुष एलिमिनेशन राउंड के पुरुष व्यक्तिगत दौर में प्रतिस्पर्धा करते हैं। (Matthias Hangst / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 12: चिली के Ricardo Soto रियो ओलंपिक 2016 के रियो डी जनेरियो में 12 अगस्त, 2016 को Sambodromo में रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 7 वें दिन के पुरुष एलिमिनेशन राउंड के पुरुष व्यक्तिगत दौर में प्रतिस्पर्धा करते हैं। (Matthias Hangst / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2016 Getty Images

खेल का सार

*मानसिक दबाव से मुक़ाबला *

तीरंदाजी प्रतियोगिता ओपनिंग सेरेमनी के दिन रैंकिंग राउंड से शुरू होती है। सभी 64 पुरुषों और 64 महिलाओं ने 72 तीरों की शूटिंग की और फिर अपने कुल अंकों के आधार पर पहले से 64 वें स्थान पर रहीं।। इसके बाद वे जोड़ी में अपनी रैंकिंग के हिसाब से खेलते हैं, जहां पहली रैंक का तीरंदाज़ 64वीं वरीयता प्राप्त तीरंदाज़ से मुक़ाबला करता है, इसी तरह दूसरी रैंकिंग का सामना 63वीं रैंकिंग के तीरंदाज़ से होता है और ये सिलसिला इसी तरह चला है।

ये सभी व्यक्तिगत मुक़ाबले करो या मरो के तर्ज़ पर होते हैं जहां हारने वाला प्रतियोगिता से बाहर होता जाता है। और जीतने वाला अगले दौर में बढ़ता जाता है, जिसके बाद आख़िरी बचे दो तीरंदाज़ों के बीच स्वर्ण पदक का मुक़ाबला होता है। सेमीफ़ाइनल में हारने वाले दोनों तीरंदाज़ कांस्य पदक के लिए एक दूसरे के ख़िलाफ़ भिड़ते हैं।

व्यक्तिगत मैचों का फ़ैसला सेट सिस्टम के हिसाब से होता है, प्रत्येक सेट में तीन तीर होते हैं। जिस एथलीट का स्कोर तीनों ही तीर के बाद सबसे ज़्यादा होता है, उसे दो सेट प्वाइंट्स मिलते हैं। अगर तीरंदाज़ों के बीच स्कोर बराबर होता है तो दोनों को ही एक एक सेट प्वाइंट मिलता है, जिस एथलीट को 6 सेट प्वाइंट पहले मिल जाते हैं वही विजेता होता है। 

अगर पांच सेट के बाद भी स्कोर बराबर रहता है (5-5), तो प्रत्येक तीरंदाज़ को एक एक तीर शूट करना होता है। जिस एथलीट का तीर बिल्कुल लक्ष्य के क़रीब या लक्ष्य पर लगता है वही विजेता होता है। जब तक दोनों एथलीट एक 10 और दूसरे तीर को गोली नहीं मारते। 

टीम और मिश्रित टीम मैच भी सेट सिस्टम का उपयोग करके तय किए जाते हैं, लेकिन प्रत्येक टीम सेट में छह तीर होते हैं और मिश्रित टीम सेट में तीन के बजाय चार तीर होते हैं। पहली टीम या पांच सेट पॉइंट के लिए मिश्रित टीम मैच जीतती है। 

यदि चार सेट (4-4 के स्कोरलाइन के साथ) के बाद एक टाई है, तो प्रत्येक टीम में प्रत्येक एथलीट या मिश्रित टीम बारी-बारी से एक ही तीर मारती है। जिस टीम का स्कोर सबसे ज्यादा होता है वह मैच जीत जाती है। यदि टीम या मिश्रित टीम अभी भी बंधी हुई है, तो टीम या मिश्रित टीम जिसका तीर मध्य जीत के सबसे करीब है मैच जीतता है।

इन प्रारुपों से करो या मरो की स्थिति उतपन्न होती है, जिसके लिए मानसिक तौर पर भी उतनी ही ताक़त चाहिए जितना की शारिरीक तौर पर। हर तीर को निशाने पर लगाने से पहले एक तीरंदाज़ को अपनी हृदय गति पर भी नियंत्रण रखना होता है, अपनी एकाग्रता बढ़ानी होती है और संयम से काम लेना बेहद ज़रूरी होता है। शारिरीक और मानसिक तौर पर दबाव के साथ खेलने से एक तीरंदाज़ के प्रदर्शन पर भी असर पैदा करता है, कुछ तीरंदाज़ दबाव में अपना सर्वश्रेष्ठ देते हैं तो कुछ इन परिस्थितियों को झेल नहीं पाते और बिखर जाते हैं।

रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 08: ब्राजील के Ane Marcelle Dos Santos ने रियो डी जेनेरियो, ब्राजील में 8 अगस्त, 2016 को Sambodromo में रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 3 दिन महिला व्यक्तिगत उन्मूलन सीमा के दौरान प्रतिस्पर्धा की। (Buda Mendes / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 08: ब्राजील के Ane Marcelle Dos Santos ने रियो डी जेनेरियो, ब्राजील में 8 अगस्त, 2016 को Sambodromo में रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 3 दिन महिला व्यक्तिगत उन्मूलन सीमा के दौरान प्रतिस्पर्धा की। (Buda Mendes / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2016 Getty Images

टोक्यो 2020 खेलों के लिए आउटलुक

स्वर्ण पर निशाना

ओलंपिक आर्चेरी की बात करें तो रिपबल्कि ऑफ़ कोरिया का इसमें दबदबा क़ायम है, रियो 2016 खेलों में कोरिया के तीरंदाज़ों ने सभी चार इवेंट में स्वर्ण पदकों पर कब्ज़ा जमाया था। उनकी महिला टीम की तो बात ही निराली है, उन्होंने Seoul 1988 के बाद अब तक महिला तीरंदाज़ी के सभी ओलंपिक गोल्ड पर कब्ज़ा जमाती आ रही हैं।  

इसके प्रमुख एथलीटों में दुनिया के नंबर एक Kang Chae Young और Kim Woojin, हैं, जिन्होंने दो बार विश्व चैंपियनशिप जीती है, लेकिन रैंकिंग दौर के लिए विश्व रिकॉर्ड स्थापित करने के बाद रियो 2016 में दूसरे दौर में प्रसिद्ध हो गए।

पुरुष तीरंदाज़ी में रिपब्लिक ऑफ़ कोरिया के बाद यूएसए का दबदबा सबसे ज़्यादा है। Brady Ellison ने रियो 2016 के व्यक्तिगत इवेंट में कांस्य पदक जीता था, जबकि टीम इवेंट में उन्हें रियो 2016 और लंदन 2012 में रजत पदक हासिल हुआ था।

Trivia