Zersenay Tadese: साइकिल चलाने से लेकर एथलेटिक्स में वर्ल्ड-रिकॉर्ड तोड़ने की शानदार दास्तान

IAAF वर्ल्ड रोड रनिंग चैंपियनशिप के दौरान पुरुषों की दौड़ जीतने के बाद इरिट्रिया के Tadesse Zersenay ने जश्न मनाया। (Julian Finney/ गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)
IAAF वर्ल्ड रोड रनिंग चैंपियनशिप के दौरान पुरुषों की दौड़ जीतने के बाद इरिट्रिया के Tadesse Zersenay ने जश्न मनाया। (Julian Finney/ गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)

जहाँ ओलंपिक पदक जीतना हजारों एथलीट्स के लिए व्यक्तिगत लक्ष्य है, 24 देशों के लिए यह एक सपना है जो शायद ही कभी एक बार सच हुआ है। टोक्यो 2020 उन गौरवशाली क्षणों और उनके एथलीट्स के जीवन पर पड़ने वाले प्रभावों पर एक नज़र डालता है, जो इसे प्राप्त कर चुके हैं।

बैकग्राउंड

Zersenay Tadese1982 में इरिट्रिया में उस समय पैदा हुए जब उनका देश 30 साल से लगातार संघर्ष की चपेट में था।

हालाँकि Tadese को हजारों अन्य लोगों के मुकाबले युद्ध से कम प्रभावित होना पड़ा, क्योंकि, उनका परिवार राजधानी आसमरा से 200 किमी दूर रहता था।

जब वह एक छोटे बच्चे थे, तो Tadese का सपना था कि वह एक महान सड़क साइकिल चालक बने और ‘टूर डी फ्रांस’ जीत ले।

“मैंने यूरोप की महान टीमों में से एक के साथ साइक्लिंग पेशेवर होने का सपना देखा था”, उन्होंने वर्ल्ड एथलेटिक्स को बताया। “मैंने सोचा कि, मेरे लिए ‘टूर डी फ्रांस’ जैसी बड़ी दौड़ में भाग लेना अच्छा होगा। मैंने मुख्य रूप से 30 किमी से 50 किमी की दूरी पर कई दौड़ जीतीं।” 

थोड़ी देर बाद उन्होंने कई एथलीटों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया जिन्होंने उन्हें प्रतिस्पर्धा करते देखा था। यह वह समय था जब उन्होंने दौड़ने का फैसला किया।

“साइकिलिंग करने में मेरी सफलता ने कुछ स्थानीय एथलेटिक्स से जुड़े लोगों को यह राय दी कि, मेरे पास अच्छा आत्म-बल हो सकता है और उन्होंने मुझे एक दौड़ में प्रतिस्पर्धा करने के लिए आमंत्रित किया,” उन्होंने कहा। मैंने वह दौड़ जीती और मैंने आगे आने वाली सभी दौड़ों में अच्छा प्रदर्शन किया, इसलिए मैंने दौड़ना जारी रखा।

और उसके बाद वह कभी रुके नहीं।

2002 में, Tadese ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा करना शुरू किया, और उन्होंने

क्रॉस कंट्री वर्ल्ड चैंपियनशिप में शीर्ष 30वां स्थान हासिल करने से पहले, अफ्रीकी एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 10,000 मी में 6वां स्थान हासिल किया।

एक साल बाद उन्होंने वर्ल्ड चैंपियनशिप में तीन अलग-अलग दौड़ों में प्रतिस्पर्धा की ट्रैक (5,000 मीटर), क्रॉस-कंट्री और रोड (हाफ-मैराथन), और तीनों इवेंट में पहले 10 में स्थान प्राप्त किया।

फिर उन्होंने अपने पहले ओलंपिक खेलों के लिए गहन तैयारी की  - एथेंस 2004.

इतिहास बनने का दौर

बाद, अफ्रीका से चार और एथलीटों को ग्रीस भेजा गया - उनमें से एक 22 वर्षीय Tadese थे, जो 5,000 मीटर और 10,000 मीटर दोनों स्पर्धाओं में प्रतिस्पर्धा करने के लिए तैयार थे।

पहले 10,000 मी था।

27:32:61के एक व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ के साथ कुछ महीने पहले, Tadese ने बहुत सारी आशाओं और उम्मीदों के साथ खेलों में प्रवेश किया। हालांकि एक छोटी सी समस्या अभी भी थी: वह, यह थी कि, Tadese के साथ दौड़ में शामिल होंगे इथियोपिया के दो लंबी दूरी के उभरते सितारे- दो बार ओलंपिक चैंपियन रह चुके, Haile Gebrselassie और Kenesisa Bekele.

शीर्ष पर चमकने के लिए यह एक नामुमकिन सा पल था। जब आपके पास खोने के लिए कुछ नहीं होता तभी शायद आपका सर्वश्रेष्ठ आपका साथ देता है। कुछ ऐसे ही माहौल में Tadese ने आगे रहने वाले समूह में अपनी जगह बनाई, और Bekele और उनके ही देश के Sileshi Sihine ने 1,500 मीटर शेष के साथ अपनी पारी खेली। 

हालांकि Tadese ने अपनी गति को बढ़ाकर, तीसरे स्थान पर ऐतिहासिक जीत हासिल की। Gebrselassie ने पाँचवे स्थान पर रह कर शानदार प्रदर्शन किया। जैसे ही Tadese ने रेखा को पार किया उन्होंने भी सीधे इरीट्रिया रिकॉर्ड बुक में अपनी जगह बना ली, इरिट्रिया एनओसी के गठन के ठीक आठ साल बाद।

परिणाम

आठ दिन बाद, उन्होंने 5,000 मी इवेंट में सातवां स्थान प्राप्त किया। यद्यपि वह कभी भी एक और ओलंपिक पदक का दावा करने में कामयाब नहीं हुए, फिर भी वह एक एथलेटिक स्टार बन गए। उन्होंने तीन हाफ-मैराथन विश्व खिताब (2008, 2009 और 2012) जीते और एक क्रॉस-कंट्री (2007) भी जीता। 

2009 में, Tadese तीन अलग-अलग स्तरों पर तीन चैम्पियनशिप पदक जीतने वाले इतिहास में दूसरे धावक बने। उन्होंने क्रॉस-कंट्री में कांस्य पदक का दावा किया, 10,000 मीटर में रजत और हाफ-मैराथन में स्वर्ण पदक का दावा किया। केवल केन्या के Paul Tergat ने उनसे पहले यह उपलब्धि हासिल की थी।

उन्होंने लगातार आठ बर्षों तक, 58:23 के समय के साथ 2010 से 2018 तक हाफ मैराथन के विश्व रिकॉर्ड को भी अपने नाम रखा। 

Tadese ने हाल ही में विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2019-मैराथन में दोहा में भाग लिया और छठवें स्थान पर शानदार प्रदर्शन के साथ अपने देश का नाम ऊंचा किया।