Yvonne Losos de Muñiz - वह महिला जो हर देश से रखती है ताल्लुक

रियो ओलंपिक ओलंपिक खेलों में ड्रेसेज व्यक्तिगत ग्रां प्री इवेंट के दौरान डोमिनिकन गणराज्य की Yvonne Losos de Muniz ने Foco Loco W की सवारी की। (Sean M. Haffey/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
रियो ओलंपिक ओलंपिक खेलों में ड्रेसेज व्यक्तिगत ग्रां प्री इवेंट के दौरान डोमिनिकन गणराज्य की Yvonne Losos de Muniz ने Foco Loco W की सवारी की। (Sean M. Haffey/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

वह नाइजीरिया में पैदा हुई थी लेकिन केन्या में रहती थी। वह कनाडा चली गईं और बाद में डोमिनिकन गणराज्य - वह देश जिसका प्रतिनिधित्व वह अपने दूसरे ओलंपिक खेलों - टोक्यो 2020 में करने में गर्व महसूस करती है

परिवार या राष्ट्रीयता की नियमित अवधारणा को भूल जाओ। घुड़सवार एथलीट Yvonne Losos de Muñiz इससे बहुत आगे है।

उनकी एक बहुत ही विविध पृष्ठभूमि है। वह नाइजीरिया में पैदा हुई थी, केन्या में रहती थी - फिर कनाडा चली गई और बादमें डोमिनिकन गणराज्य।

उनके माता-पिता - दोनों कनाडाई नागरिक - भी अलग-अलग देशों में पैदा हुए थे। उनके पिता मूल रूप से पोलैंड के है और भारत में पले-बढ़े हैं। उनकी माँ जर्मन है लेकिन ईरान में पली बढ़ी है।

"हमारा परिवार बहुत ही अलग है, लोगों को इस तरह के परिवार की आदत नहीं है," Losos de Muñiz ने कहा।

इसके अतिरिक्त, एक पेशेवर एथलीट के रूप में, Losos de Muñiz ने जर्मनी, स्पेन और फ्लोरिडा में ट्रेनिंग की है।

"जब से मैंने प्रतिस्पर्धा शुरू की है, मैं वहीं होती हूं जहां प्रतिस्पर्धाएं हो रही हो। मैं अभी हर समय यात्रा कर रही हूं, प्रतिस्पर्धा कर रही हूं और ट्रेनिंग कर रही हूं, क्योंकि मेरे लिए डोमिनिकन गणराज्य में कुछ और करने के लिए नहीं हैं।"

"मैं किसी जगह से संबंधित नहीं हूं।"

Serengeti में सवारी कैसे करें

उनके पिता की नौकरी के कारण, उनके परिवार को अफ्रीका में अपना जीवन शुरू करना पड़ा। Losos de Muñiz ने कहा, "हमारे पास एकमात्र विकल्प जानवरों से प्यार करना था।"

“मेरे पिता एक किताब लिख रहे थे। वह घरेलू पशुओं में ट्रॉपिकल रोगों पर अपनी रिसर्च कर रहे थे। वह लंबे समय से इसमें एक्सपर्ट के रूप में काम कर रहे थे। इस माहौल में बड़े होना हम बच्चों के लिए बहुत अच्छा था। यह शानदार था!"

"केन्या में बड़े होना बहुत अच्छा था। जब मैं कनाडा गई और मैंने वहां के बच्चों को बताया कि मैं केन्या में कैसे बड़ी हुई, मैंने ज़ेब्रा और Serengeti के अन्य जानवरों के साथ कैसे समय बिताता था, तो लोगों को इस पर विश्वास ही नहीं हुआ। लेकिन यह मेरा जीवन था। लोगों ने यह मानने से इंकार कर दिया था की किसी का बचपन इतना अलग कैसे हो सकता है।“

"मुझे कुत्तों के साथ सवारी करनी पड़ती थी क्योंकि क्षेत्र में लाइनें थीं, इसलिए हमें निश्चित समय पर आना पड़ा क्योंकि शिकारियों ने कुत्तों का शिकार करना शुरू कर दिया। मेरे माता-पिता नहीं चाहते थे कि हम शिकार का हिस्सा बनें। मेरी शानदार परवरिश हुई और यही से मैंने सवारी करना सीखा। नियम यह था, की बस आपको सवारी करते वक़्त नीचे नहीं गिरना क्यूंकि फिर कोई भी जानवर आपका शिकार कर सकता है," उन्होंने आगे बताया।

जब में लोगों को बताती थी की केन्या में कैसे बड़ी हुई, मैंने ज़ेब्रा और Serengeti के अन्य जानवरों के साथ कैसे समय बिताता था, तो लोगों को इस पर विश्वास ही नहीं हुआ

उन्होंने छह साल की उम्र में केन्या में घुड़सवारी शुरू कर दी थी।

“हम जिन घोड़ों पर सवार हुए, वे पूर्व-घुड़दौड़ के घोड़े थे और वे सवारी करने के लिए सबसे शांत घोड़े नहीं थे। इस तरह से आप वास्तव में सवारी करना सीखते हैं। हमें केन्या काउबॉय कहा जाता था और यह वास्तव में यही था। घोड़े पर सवार होने के अलावा कोई और तकनीक नहीं थी। मैं हर समय या पैदल या कैंटर या गैलोप करती थी। यदि आप मुझे पहले सवारी करते देखते और अगर आप अब देखेंगे तो आपको फरक पता लगेगा, आप कहेंगे, 'हे भगवान, दो अलग-अलग लोग!"

यह बात बिलकुल समज में आती है जब आप देखते हैं कि उनके सपने कैसे बदल गए हैं क्योंकि वह अधिक पेशेवर बन गई है।

“जब मैं एक बच्ची थी, तो एक छोटी लड़की के रूप में मेरा सपना एक जॉकी बनना था - जैसा कि मैं केन्या में उन सभी पूर्व-घुड़दौड़ घोड़ों के साथ रहती थी। दुर्भाग्य से, 10 साल की उम्र तक, मैं पहले से ही अधिकांश जॉकी से लंबी थी। इसलिए मुझे इस सपने को खिड़की से बाहर फेंकना पड़ा। मैं हमेशा वैसे भी घोड़ों पर ही सवार रही हूं।”

"तब मैं अपने पति से डोमिनिकन गणराज्य में मिली थी। उस समय मैंने घुड़सवारी शुरू की थी, लेकिन सिर्फ मनोरंजन के लिए। जब पान-एम्स चल रहा था, तो मैंने सोचा, 'अच्छी तरह से मैं प्रतिस्पर्धा शुरू करना चाहती हूं।" मैंने कई साल पहले जर्मनी में राष्ट्रीय स्तर पर थोड़ी प्रतिस्पर्धा की थी। मेरे पति भी एथलेटिक और प्रतिस्पर्धी हैं, इसलिए उन्होंने कहा, 'चलो यह करते हैं'। लेकिन वह मेरे जैसे है - हम आधा काम नहीं करते, हम पूरा काम करते है।

"तो हमने ड्रेसेज करना शुरू कर दिया। हम सुपर अनुशासित थे और हम स्पेनिश घोड़ों पर सवारी करते थे। हमने छलांग लगाई, हमने सब कुछ किया। यह शानदार था। पिछले 20 वर्षों में, मैंने सिर्फ ड्रेसेज पर ध्यान केंद्रित किया। लेकिन मैं प्रतिस्पर्धी थी, मैं हर चीज़ मज़े के लिए नहीं करती थी। इसलिए जब हमने ड्रेसेज शुरू करने की सोची, तो यह मेरे काम आई। इसके लिए भगवान का शुक्र है," उन्होंने कहा।

View this post on Instagram

My horse, my flag. #agdf2018

A post shared by Yvonne Losos de Muñiz (@yvonnedressage) on

डोमिनिकन गणराज्य का प्रतिनिधित्व

Losos de Muñiz ने हमेशा डोमिनिकन गणराज्य के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा की है। यहां तक कि जो महिला हर जगह से ताल्लुक रखती है उसके लिए एक जगह है। एक राष्ट्र। एक ध्वज।

“डोमिनिकन गणराज्य का प्रतिनिधित्व करने में सक्षम होना मेरे लिए अद्भुत है, बहुत अद्भुत। मैं शायद दुनिया की सबसे भाग्यशाली एथलीट हूं। मुझे अपने महासंघ, मेरी ओलंपिक समिति और CRESO से भी समर्थन मिला - यह एक ऐसी फाउंडेशन है जो डोमिनिकन गणराज्य में एथलीट्स के ओलंपिक सपनों को पूरा करने में मदद करती है। मैं अन्य एथलीट्स की इन सभी कहानियों को सुनती हूं जिन्हें अपनी पोजीशन के लिए लड़ना पड़ता है क्योंकि उनके पास कोई समर्थन नहीं है, और मैं इसके बिल्कुल विपरीत हूं। मेरे पास हर वह सहायता है - जिसकी मुझे हमेशा से जरूरत थी।"

डोमिनिकन गणराज्य का प्रतिनिधित्व करने में सक्षम होना मेरे लिए अद्भुत है, बहुत अद्भुत।

मैं शायद दुनिया की सबसे भाग्यशाली एथलीट हूं।

इन सबके अलावा, उन्होंने दुनिया की सबसे बड़ी खेल प्रतियोगिता- रियो 2016 के ओलंपिक में भाग लिया। उनका पहला ओलंपिक!

"यह मेरे लिए सबसे आश्चर्यजनक अनुभव था। यह मेरा पहला ओलंपिक था और जब मैंने वहां एथलीट्स की गुणवत्ता देखी - तो यह मेरे लिए बहुत अलग था। ओलंपिक एथलीट्स के बारे में सब कुछ अद्भुत है। ओलंपिक विलेज में जाना और वहां रहना एक अच्छा अनुभव था। यह देखने के लिए कि एथलीट अपना प्रशिक्षण कैसे करते हैं, सभी क्या खाते हैं - कितना रोमांचक था। समग्र अनुभव बहुत अच्छा था।"

डोमिनिकन गणराज्य की Yvonne Losos De Muniz ने लीमा 2019 पैन अमेरिकी खेलों में इक्वेस्ट्रियन ड्रेसेज व्यक्तिगत - इंटरमीडिएट I / G.Prix (फ्रीस्टाइल) के दौरान Aquamarijn की सवारी की। (Daniel Apuy / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
डोमिनिकन गणराज्य की Yvonne Losos De Muniz ने लीमा 2019 पैन अमेरिकी खेलों में इक्वेस्ट्रियन ड्रेसेज व्यक्तिगत - इंटरमीडिएट I / G.Prix (फ्रीस्टाइल) के दौरान Aquamarijn की सवारी की। (Daniel Apuy / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2019 Getty Images

घोड़े के बिना घुड़सवारी के लिए कैसे प्रशिक्षित किया जाए

Yvonne Losos de Muñiz अगले साल टोक्यो में अपने दूसरे ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करेंगी।

"टोक्यो 2020 के लिए क्वालीफाई करना बहुत शानदार था, खासकर तब जब मैंने दो घोड़ों के साथ क्वालीफाई किया - ताकी मेरे पास एक बैक-उप भी हो। पर हम दक्षिण अमेरिका के एथलीट्स के लिए मुश्किल थोड़ी जयदा है। हमें अपने घर से बहुत दूर रहना होता है क्योंकि हमारे अपने देशों और हमारे अपने क्षेत्र में कोई योग्यता प्रणाली नहीं है। इसलिए यह मेरे और मेरे परिवार के लिए बहुत बड़ा बलिदान है। इसलिए जब मैंने आखिरकार कोटा प्राप्त किया तो मैं बहुत खुश थी," उन्होंने याद किया।

हालांकि, कई एथलीट्स के साथ, उन्हें खेलों के शुरू होने के लिए एक और साल इंतजार करना होगा। ये कुछ दिन उनके लिए कठिन रहे है - ना केवल लॉकडाउन के कारण, बल्कि इसलिए कि उन्होंने कुछ हफ्ते पहले ही बहुत कुछ खोया है।

"मैं डोमिनिकन गणराज्य में स्थित हूं, लेकिन मैं अभी कनाडा में हूं, सिर्फ इसलिए कि मेरी मां बहुत बीमार थी और उनका पीछे निधन हो गया। इसलिए मैं यहां अपने पिता के लिए चीजों को व्यवस्थित करने की कोशिश कर रही हूं। मेरे घोड़े अभी फ्लोरिडा में स्थित हैं, सिर्फ पूरे कोरोना वायरस की स्थिति के कारण। मुझे यकीन नहीं है कि हम क्या करने जा रहे हैं, हम कहाँ जाने वाले हैं। हम मूल रूप से प्रतिस्पर्धा करने वाले थे, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा। अगले हफ्ते मैं अपने घोड़ों को मिलने जा रहा हूं और मुझे समज नहीं आ रहा की यह साल कैसे बीतेगा, क्या होगा इस साल।"

संक्षेप में, वह बिना घोड़ों के प्रशिक्षण ले रही है।

यह थोड़ा कठिन है, क्योंकि मुझे दिन में छह घंटे घोड़े के साथ रहने की आदत है और अब ऐसा कुछ भी नहीं हो रहा है । मैं दो महीने तक सवारी नहीं कर पाई। मैं कार्डियो कर रही हूं, मैं दिन में दो बार वर्कआउट करने की कोशिश कर रही हूं और फिर मैं अपना कोर अभ्यास भी कर रही हूं। बस मैं फिट रहने के लिए यह सब कर रही हूं। लेकिन बिल्कुल, यह एक ही बात नहीं है।”

"मानसिक रूप से, मैं भी मजबूत रहने की कोशिश कर रही हूं। मुझे यह स्थिति बहुत चुनौतीपूर्ण लगती है क्योंकि मैं शेड्यूल पर, लक्ष्यों पर बहुत काम करती हूं। अब, छह महीने तक मेरे पास कड़ी मेहनत करने के लिए कोई लक्ष्य नहीं है, यह चुनौतीपूर्ण है। मुझे शारीरिक रूप से फिट रहना है, मुझे अपने खेल में शीर्ष पर रहना है, लेकिन अभी कुछ नहीं हो रहा है। यह बहुत मुश्किल है।"

View this post on Instagram

Even in the most difficult times, there is always a light to guide your path. In my familys' case, and especially for me personally, that light came from the wonderful team of medical professionals from Bayshore Healthcare Service that helped us care for my mum during her final days. Dr. Anthony Di Cintio, in charge of palliative care, went above and beyond to give me strength and guidance, always with compassion and empathy. Evelyn Newton, our care coordinator, never waivered in looking for options and help. And the entire group of nurses that came by our house every day: Emanuelle, Jamie, Stephane, Brian, Joel and Lisa, to name a few, were without fail caring and warm. There are so many unsung heroes in these troubling times, among them those in palliative care. It takes someone very special and courageous to be in this field, and with the current health crisis their job is so much harder. My family and I am forever thankful to the ones we have been fortunate to know. ❤

A post shared by Yvonne Losos de Muñiz (@yvonnedressage) on

नई ताकत ... और एक समर्पण

अनिश्चितताओं के बावजूद, Losos de Muñiz ने खेलों के स्थगित होने के बाद राहत महसूस की।

"मुझे खुशी है कि खेलों को अब अगले साल के लिए स्थगित कर दिया गया है। मेरी व्यक्तिगत स्थिति को देखते हुए, जाहिर है कि मेरे परिवार और मेरी मां के साथ। लेकिन, मैं तब भी इस साल ओलंपिक में जाती और प्रतिस्पर्धा करती, अगर वे स्थगित नहीं होते," उन्होंने कहा।

और वह बेशक जाएँगी और भाग लेंगी। लेकिन अभी के लिए, उन्हें अपने परिवार के साथ कुछ समय बिताने की ज़रूरत है।

"रियो में, मैं मूल रूप से सर्वाइव करने की कोशिश कर रही थी। मैं वहाँ होने से अभिभूत थी, और मेरा घोड़ा 100 प्रतिशत फिट भी नहीं था। मैं खुद से कह रही थी, 'यह सिर्फ भागीदारी के बारे में है।'

"टोक्यो के लिए मेरा लक्ष्य इसे विशेष बनाना है, और कौन जानता है? उसके बाद सब कुछ बदल सकता है। मुझे ओलंपिक के अविश्वसनीय वातावरण का आनंद लेना था। मैं अधिक एथलीट्स को जानना चाहती हूं, वहां इतने सारे देशों के खिलाड़ी होंगे, यह उनके साथ कुछ समय बिताना बहुत अच्छा होगा। ओलंपिक खेलों का हिस्सा बनने में सक्षम होना आपके लिए अपने आप में एक इनाम है।"

और टोक्यो में ये ओलंपिक उनके लिए बेहद खास हैं। Losos de Muñiz उन्हें अपनी माँ के सम्मान में समर्पित करेंगी।