विश्व बाल दिवस: सात अद्भुत प्रतिभाएं जो ओलिंपिक खेलों में चमके

ग्रेट ब्रिटेन की Sky Brown 2019 एक्स खेल मिनियापोलिस  के दौरान अभ्यास करती हुई।
ग्रेट ब्रिटेन की Sky Brown 2019 एक्स खेल मिनियापोलिस के दौरान अभ्यास करती हुई।

आज 20 नवंबर के दिन विश्व बाल दिवस है एक वार्षिक महोत्सव है जो अनेक देशों में मनाया जाता है और इसका मुख्य उद्देश्य है बच्चों में और उनके बारे में जागरूकता को बढ़ाना अथवा सुधारना। इसी दिवस का ध्यान रखते हुए टोक्यो 2020 आपको बताएगा कुछ ऐसी बाल प्रतिभाओं के बारे में जिन्होंने खेल जगत पर एक गहरा असर छोड़ा। 

Gaurika Singh, 13 (नेपाल, तैराकी)

नेपाल की Gaurika Singh 2016 रियो ओलिंपिक खेलों की 100 मी बैकस्ट्रोक प्रतियोगिता में भाग लेती हुई।
नेपाल की Gaurika Singh 2016 रियो ओलिंपिक खेलों की 100 मी बैकस्ट्रोक प्रतियोगिता में भाग लेती हुई।
2016 Getty Images

क्या अद्भुत अनुभव है।

मुझे विश्वास नहीं होता की यह सच में हो रहा है।

नेपाल की युवा तैराक Gaurika Singh 2016 रियो ओलिंपिक खेलों में भाग लेने वाली सबसे काम आयु वाली खिलाड़ी थी। नेपाल की यह तैराक सिर्फ 13 वर्ष और 255 दिन की थी जब उन्होंने 100 मी बैकस्ट्रोक प्रतियोगिता में भाग लिया और उनकी स्फूर्ति के कारण वह बहुत लोकप्रिय भी हो गयी। Singh सेमिफाइनल में नहीं पहुँच पाईं लेकिन उनकी ख़ुशी की कोई सीमा नहीं थी और उन्होंने कहा, "क्या अद्भुत अनुभव है। मुझे विश्वास नहीं होता की यह सच में हो रहा है।"

अगले साल होने वाले टोक्यो 2020 ओलिंपिक खेलों के लिए Singh ने तैयारी शुरू कर दी है और वह 2016 के अपने प्रदर्शन में सुधार लाना चाहती हैं।

Dimitrios Loundras, 10 (ग्रीस, जिमनास्टिक्स)

ओलिंपिक खेलों के इतिहास में भाग लेने वाले सबसे काम आयु का खिलाड़ी था ग्रीस का एक बाल जिम्नास्ट Dimitrios Loundras जिसने 10 साल की आयु में 1896 एथेंस खेलों में भाग लिया था। Loundras ने जब खेलों में भाग लिया था तब वह सिर्फ 10 साल और 218 दिन की आयु के थे जब उन्होंने जिम्नास्टिक्स की एक टीम प्रतियोगिता में पदक भी जीता।

Loundras ओलिंपिक खेलों में भाग लेने वाले सबसे युवा खिलाड़ी तो थे ही लेकिन उनकी एक और उपलब्धि थी की जब 1970 में उनका निधन हुआ तो वह एथेंस खेलों में भाग लेने वाले अंतिम व्यक्ति थे।

Marjorie Gestring, 13 (अमरीका, डाइविंग)

ओलिंपिक इतिहास की सबसे युवा स्वर्ण पदक विजेता13 वर्षीय Marjorie Gestring अपनी जीत के बाद बर्लिन के ओलिंपिक तैराकी स्टेडियम में पटल पर।
ओलिंपिक इतिहास की सबसे युवा स्वर्ण पदक विजेता13 वर्षीय Marjorie Gestring अपनी जीत के बाद बर्लिन के ओलिंपिक तैराकी स्टेडियम में पटल पर।

विश्व की सबसे प्रफुल्लित व्यक्ति।

जब अमरीका की Marjorie Gestring ने 1936 बर्लिन खेलों की स्प्रिंगबोर्ड डाइविंग प्रतियोगिता में स्वर्ण जीता था तो वह 13 वर्ष और 268 दिन की थी और ओलिंपिक खेलों के इतिहास में सबसे युवा महिला स्वर्ण विजेता बनी। उनके लिए अगले कुछ साल बहुत दुर्भाग्यपूर्ण रह क्योंकि पहले और दुसरे विश्व युद्धों के कारण 1940 और 1944 खेल रद्द कर दिए गए थे।

उन्होंने सिर्फ एक ही ओलिंपिक प्रतियोगिता में भाग लिया लेकिन Gestring के शब्दों में वह क्षण उनके जीवन का सबसे बेहतरीन था और उस समय वह अपने आप को विश्व की सबसे खुश व्यक्ति की तरह महसूस कर रही थी।

Nadia Comaneci, 14 (Romania, gymnastics)

कोमैन्सी ने स्कोर किया परफेक्ट 10
01:05

मेरे जीवन में जो कुछ भी हुआ और हो रहा है,

उसका श्रेय मोंट्रियल में घटे उस एक क्षण के कारण है।

मोंट्रियल में आयोजित 1976 ओलिंपिक खेलों में जब Nadia Comaneci ने प्रवेश किया तो वह जिमनास्टिक्स की बहुत बड़ी सितारा थी। एक साल पहले आयोजित यूरोपीय चैंपियनशिप में उन्होंने चार स्वर्ण और एक रजत पदक जीता था लेकिन मोंट्रियल ओलिंपिक खेलों में जो उन्होंने कर दिखाया उसकी अपेक्षा किसी ने नहीं करि थी। उन खेलों के दौरान Nadia Comaneci ने परफेक्ट 10 का स्कोर हासिल किया और ऐसा करने वाली वह पहली इतिहास की पहली जिम्नास्ट बनीं।

Comaneci ने 14 वर्ष की आयु में तीन स्वर्ण पदक जीते थे।

सीबीइस स्पोर्ट से बात करते हुए उन्होंने बताया, "मेरे जीवन में जो कुछ भी हुआ और हो रहा है, उसका श्रेय मोंट्रियल में घटे उस एक क्षण के कारण है।"

"मुझे किसी ने भी नहीं बताया था की ओलिंपिक में आज तक कभी परफेक्ट 10 नहीं बनाया गया था और शायद इसी कारण मैंने वही किया जिसकी मैंने योजना बनायी थी।"

KITAMURE Kusuo, 14 (जापान, तैराकी)

1932 लॉस एंजेलेस ओलिंपिक खेलों में स्वर्ण जीतने के बाद जापान के KITAMURA Kusuo दर्शकों का अभिवादन करते हुए।
1932 लॉस एंजेलेस ओलिंपिक खेलों में स्वर्ण जीतने के बाद जापान के KITAMURA Kusuo दर्शकों का अभिवादन करते हुए।
© 1932 / International Olympic Committee (IOC) / United Archives - All rights reserved.

जापान के लिए ओलिंपिक खेलों में हिस्सा लेने वाले सबसे काम आयु के खिलाड़ी बने KITAMURA Kusuo जिन्होंने 1932 लॉस एंजेलेस ओलिंपिक खेलों में तैराकी की 1500 मी फ्रीस्टाइल प्रतियोगिता में स्वर्ण जीता था। चौदह वर्ष और 309 दिन की आयु में Kitamura ओलिंपिक स्वर्ण जीतने वाले सबसे काम आयु वाले तैराक बने और यह कीर्तिमान 1988 सोल ओलिंपिक खेलों में Krisztina Egerszegi ने तोड़ा।

जापान के यह धावक जिनका निधन 1996 में हुआ आज भी तैराकी में ओलिंपिक स्वर्ण जीतने वाले सबसे कम आयु के नर तैराक हैं।

Noël Vandernotte 12 (फ़्रांस, रोइंग) और नीदरलैंड के एक रहस्यमयी नौकाचालक

बर्लिन 1936 में पुरुषों की आठ-दौड़ के दौरान अग्रभूमि में इटली की टीम।
बर्लिन 1936 में पुरुषों की आठ-दौड़ के दौरान अग्रभूमि में इटली की टीम।
© 1936 / International Olympic Committee (IOC)

हम ओलिंपिक खेलों में जीतने गए थे।

हमें पता था हम बहुत तेज़ जायेंगे।

इस वर्ष जून में फ्रांस के ओलिंपिक खिलाड़ी और रोइंग में स्वर्ण जीतने वाले Noël Vandernotte का निधन हो गया और वह सबसे कम आयु में भाग लेने वाले खिलाड़ियों में से एक थे। उन्होंने 1936 बर्लिन खेलों में 12 वर्ष, सात महीने और 20 दिन की आयु में भाग लिया और फ्रांस के लिए ओलिंपिक में सबसे युवा खिलाड़ी होने का कीर्तिमान उनके पास है।

तेज़ हवा से भरे वातावरण के बीच 42 किग्रा के इस फ्रेंच नौकाचालक ने एक ही दिन में दो कांस्य पदक जीते और उनके अनुसार यह होना स्वाभाविक था।

"हम ओलिंपिक खेलों में जीतने के लिए गए थे और हमने एक विशेष नाव बनायी थी जो बिलकुल सटीक बैठी। हमें पता था हम बहुत तेज़ जायेंगे।"

अगर इतिहासकारों की मानें तो Vandernotte शायद ओलिंपिक इतिहास के सबसे कम आयु वाले नौकाचालक नहीं थे। 1900 पेरिस ओलिंपिक खेलों की एक फोटो में नीदरलैंड के एक युवा नौकाचालक हैं जो बहुत लोगों के अनुसार केवल सात साल के थे और उन्होंने प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था। उस युवा नौकाचालक की सही आयु और नाम आज भी एक रहस्य है।

आपको बताते हैं दो ऐसे युवा सितारों के बारे में जो टोक्यो 2020 ओलिंपिक खेलों में भाग लेंगे। 

Hend Zaza, 11 (सीरिया, टेबल टेनिस)

ITTF.com

यह मेरे देश सीरिया के लिए एक उपहार है।

अगले साल होने वाले टोक्यो ओलिंपिक खेलों में भी कई बाल प्रतिभाएं भाग लेंगी और उनमे से एक है सीरिया की Hend Zaza जो 11 वर्ष की आयु में टेबल टेनिस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले सबसे काम आयु की खिलाड़ी बनेंगी। पश्चिमी एशिया ओलिंपिक क्वालिफिकेशन प्रतियोगिता में भाग लेते हुए उन्होंने इस साल मार्च में पांच में से चार मैच जीते।

सीरिया की यह अद्भुत युवा खिलाड़ी अगले साल टोक्यो 2020 के माध्यम से अपने देश के लिए कुछ करना चाहती हैं।

ओलिंपिक खेलों में क्वालीफाई करने के बाद Zaza ने कहा, "यह मेरा उपहार है अपने देश, माता पिता और मित्रों के लिए।"

Sky Brown, 12 (ग्रेट ब्रिटेन, स्केटबोर्डिंग)

मेरा लक्ष्य 2021 में स्वर्ण जीतना है और मुझे कोई रोक नहीं पायेगा।

ग्रेट ब्रिटेन की युवा सितारा और स्केटबोर्डर Sky Brown टोक्यो 2020 ओलिंपिक खेलों में भाग लेने का प्रयास करेंगी। इस 12 वर्षीय खिलाड़ी के पिता ब्रिटेन के हैं और माँ जापानी है और ओलिंपिक खेलों में पहली बार होने वाली स्केटबोर्डिंग प्रतियोगिता में क्वालीफाई करने के लिए लड़ रही हैं।

ब्रिटेन की इस युवा ने खेल अपने आप सीखा है और कुछ ही समय पहले एक गहरी चोट से उभरी हैं लेकिन वह ओलिंपिक खेलों में अपनी जगह पक्की करने के लिए तत्पर हैं।

"मेरा लक्ष्य 2021 में स्वर्ण जीतना है। मैं लड़कियों के लिए तय की गयी सीमाओं को पार करुँगी और सब बदल दूंगी। मेरा लक्ष्य 2021 में स्वर्ण जीतना है और मुझे कोई रोक नहीं पायेगा।"