रोड टू टोक्यो 2020: पिछले हफ्ते के कुछ मुख्य बयानों पर आइए डालते हैं एक नज़र

हंगरी के बुडापेस्ट में 2020 जूडो ग्रैंड स्लैम के दौरान रूसी संघ के Adamian Arnand के खिलाफ Shady El Nahas
हंगरी के बुडापेस्ट में 2020 जूडो ग्रैंड स्लैम के दौरान रूसी संघ के Adamian Arnand के खिलाफ Shady El Nahas

दुनियाभर के एथलीट ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों के लिए खुद को तैयार करने में व्यस्त हैं, जो एक साल से भी कम समय में आयोजित किए जाएंगे।

टोक्यो 2020 ने कई एथलीट्स से बात की जिनकी ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों की यात्रा धीरे-धीरे गति पकड़ रही है।

Shady El Nahas: ओलंपिक चैंपियन बनने की तलाश में

कनाडा के Shady El Nahas वर्तमान में ओलंपिक रैंकिंग में 7वें स्थान पर हैं।
कनाडा के Shady El Nahas वर्तमान में ओलंपिक रैंकिंग में 7वें स्थान पर हैं।
©Thomas Taylor

“जापान में निप्पॉन स्थल शायद सबसे अच्छी जगह है जहाँ आप ओलंपिक स्वर्ण जीत सकते हैं। यह एक सपने के सच होने जैसा है।”

कनाडा के Shady El Nahas ने दुनिया के सर्वश्रेष्ठ जुडोका में से एक के रूप में अपनी वृद्धि जारी रखी। वह खुद को बड़े मंच पर साबित कर रहे हैं और अब ओलंपिक खेलों में पदार्पण करने की राह पर हैं जहाँ वह खुद को टोक्यो में सबसे कठिन प्रतिद्वंदियों, जूडो की भूमि पर लड़ते हुए देखते हैं।

आगे पढने के लिए यहाँ क्लिक करें

2021 में रिकॉर्ड तोड़ने के लिए रेडी हैं Emma Coburn

रजत पदक विजेता, यूनाइटेड स्टेट्स की Emma Coburn ने 2019 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप दोहा में महिलाओं के 3,000 मीटर स्टीपलचेज फाइनल में प्रतिस्पर्धा के बाद जश्न मनाया। (Christian Petersen/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
रजत पदक विजेता, यूनाइटेड स्टेट्स की Emma Coburn ने 2019 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप दोहा में महिलाओं के 3,000 मीटर स्टीपलचेज फाइनल में प्रतिस्पर्धा के बाद जश्न मनाया। (Christian Petersen/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2019 Getty Images

“मैं वास्तव में बहुत कम तनाव के साथ एक बेहतर, मजबूत एथलीट बनने की कोशिश पर ध्यान केंद्रित कर रही हूँ।”

Emma Coburn, एक रियो 2016 ओलंपिक 3,000 मीटर स्टीपलचेज़ कांस्य पदक विजेता, 2021 में कुछ बड़ा कर पाने के लिए नजर जमाए हुई हैं। उनकी निगाहें ओलंपिक खेलों टोक्यो 2020 के लिए टीम यूएसए पर एक सुरक्षित जगह तलाश करना और अमेरिकी रिकॉर्ड पर फिर से दावा करना हैं।

आगे पढने के लिए यहाँ क्लिक करें

BABA Mika : चीन की ओलंपिक टेबल टेनिस के वर्चस्व को खत्म करने की जापान की योजना क्या है?

(c) ITTF

“मुझे वास्तव में उम्मीद है कि हम जापान के टेबल टेनिस समुदाय के लंबे समय से चले आ रहे सपने को पूरा करने और पदक जीतने के लिए कितने ही चीनी खिलाड़ियों को हरा सकते हैं।”

सियोल 1988 में ओलंपिक खेलों में टेबल टेनिस की शुरुआत के बाद से, पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना ने पदक पर कब्जा कर लिया है, लेकिन 2021 में, मेजबान राष्ट्र जापान उन स्वर्ण पदक में से कुछ पर कब्जा करना चाहता है। मुख्य कोच BABA Mika के संचालन में, जापान की महिला राष्ट्रीय टीम वह हासिल करने के लिए तैयार है जो उन्होंने पहले कभी नहीं किया है - ‘महिला टेबल टेनिस एकल स्पर्धा में ओलंपिक पदक जीतना’।

आगे पढने के लिए यहाँ क्लिक करें

Yusra Mardini : "खेल ही हमारा रास्ता था"

2016 में Wasserfreunde Spandau 04 प्रशिक्षण पूल ओलंपियापार्क बर्लिन में एक प्रशिक्षण सत्र के दौरान सीरिया की Yusra Mardini (IOC के लिए Alexander Hassenstein/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2016 में Wasserfreunde Spandau 04 प्रशिक्षण पूल ओलंपियापार्क बर्लिन में एक प्रशिक्षण सत्र के दौरान सीरिया की Yusra Mardini (IOC के लिए Alexander Hassenstein/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2016 Getty Images For IOC

“मैं अपनी कहानी बताती हूँ क्योंकि मैं चाहती हूँ कि लोग यह समझें कि खेल ने मेरी जान बचाई।”

जैसे-जैसे वर्ष 2020 से 2021 तक निकल गया और ओलंपिक खेलों का समय निकट आ गया, रियो 2016 शरणार्थी ओलंपिक टीम की सदस्य, Yusra Mardini आगे के महीनों के लिए एक सकारात्मक मानसिकता रखती रही हैं। तैराक ने अपनी कहानी साझा की है - उन्होंने 'बटरफ्लाई' नामक एक सबसे अधिक बिकने वाली पुस्तक के रूप में और आगामी बायोपिक जारी की है - जो खेलों के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए, न केवल खेल की शक्ति के बारे में, बल्कि यह कि शरणार्थी समाचारों में कहानियों से कहीं अधिक हैं।

आगे पढने के लिए यहाँ क्लिक करें