The Mawem Brothers: एक ही सपने का पीछा करते हुए दो चैंपियन

Mawem_Brothers_-thumbnail_1587661574485.jpg

दुनिया के किसी भी एथलीट के लिए ओलंपिक खेलों में भाग लेना एक सपने के सच होने जैसा है। लेकिन यह सपना तब और बड़ा हो जाता है जब दो भाई एक साथ क्वालीफाई करते हैं। फ्रेंच स्पोर्ट क्लीम्बर्स Mickaël और Bassa Mawem के साथ ऐसा ही हुआ।

जब 2016 में टोक्यो 2020 के लिए क्लाइम्बिंग को एक नए ओलंपिक अनुशासन के रूप में चुना गया था, तो Mawem भाइयों ने कैलेंडर पर तारीखों को मार्क किया, और घोषणा की कि वे ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करेंगे। फ्रांस के लोगों ने सोचा होगा कि ये दोनों भाई पागल हैं, लेकिन बहुत कम लोग जानते थे कि ये दोनों ही महत्वाकांक्षी थे।

उन्होंने जो कुछ कहा, उसे हासिल किया - दोनों भाइयों ने ओलंपिक खेलों के लिए क्वालीफाई किया। Mickaël ने अगस्त में 2019 के क्लाइंबिंग वर्ल्ड कप में 7वें स्थान पर रहकर पहले क्वालीफाई किया, जबकि, Bassa ने नवंबर के अंत में फ्रांस के Tournefeuille में ओलंपिक क्वालीफायर टूर्नामेंट के माध्यम से क्वालीफाई किया।

"जब Mickaël ने क्वालीफाई किया, तो यह मेरे लिए एक राहत की बात थी," Bassa ने Tokyo2020.org को बताया। “तब से, मुझे सिर्फ अपने बारे में सोचना था। यह विशेष है क्योंकि हम भाई हैं, हम बहुत करीब हैं, हमारे बीच कोई प्रतिस्पर्धा नहीं है, हम हमेशा एक दूसरे का समर्थन करते हैं।”

परिवार का सपना

Bassa की योग्यता एक क्षण है जिसे Mickaël कभी नहीं भूलेगा। “यह एक जादुई क्षण था। हमने कुछ ऐसा किया, जिसमें हम और हमारे परिवार के केवल दो लोगों का विश्वास था। हमने इसके लिए कड़ी मेहनत की।"

दो भाइयों में सबसे बड़े, Bassa ने स्कूल के एक कार्यक्रम के दौरान चढ़ाई करनी शुरू कर दी थी जब वह 15 साल के थे। स्वाभाविक रूप से, Mickaël, जो उनसे छह साल छोटे हैं, ने उनके नक्शेकदम पर चलना शुरू किया। उन्होंने शक्ति के आधार पर प्रशिक्षित करने का एक नया तरीका ढूंढा।

"हमने लकड़ी के 1 मीटर x 3 मीटर बोर्ड पर कुछ क्लाइम्बिंग-होल्ड्स सेट की और हम अपने पैरों का उपयोग किए बिना दौड़ रहे थे। हमने अपने साथ कुछ इलेक्ट्रोड भी जोड़े और कुछ पुल-अप भी किए। ये वो चीजें थीं जो उस समय कोई नहीं करता था, अब हर कोई इसे कर रहा है,” Bassa ने कहा।

मुख्य कारणों में से एक वे उच्चतम स्तर तक पहुंचना चाहते थे क्योंकि वे अपने परिवार से प्राप्त समर्थन को चुकाना चाहते थे, जिसमें उनका क्लाइम्बिंग परिवार भी शामिल थे। “हमारे माता-पिता ने हमेशा हमारा समर्थन किया, हर चीज में जो हम करना चाहते थे। वे हमेशा हमारे साथ खड़े रहे। जिन लोगों के साथ हमने प्रशिक्षण लिया, वे हमारे साथ निष्पक्ष, दयालु और सीधे थे। हमारे माता-पिता भी ऐसे ही हैं। उन्होंने हमेशा हमें अपना रास्ता खोजने में मदद की,” Bassa ने बताया।

सफलता मिली, लेकिन थोड़ी देर बाद...

लंबे समय तक प्रतीक्षा करने के बाद, भाइयों को आखिरकार फ्रेंच नेशनल टीम (2011 में Bassa, 2014 में Mickaël) के लिए चुना गया। Bassa ने स्पीड में विशेषज्ञता हासिल की, राष्ट्रीय चैंपियन बने और 5 "52 के समय में फ्रेंच रिकॉर्ड समय को भी तोड़ा। बाद में, उन्होंने 2018 विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीता और 2018 और 2019 में विश्व रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया।

"गति मेरे लिए एक दूसरे जीवन की तरह है। मैं बेहतर होने के लिए बहुत सारे प्रयास कर रहा हूं। जब गति की बात आती है, तो आप जितना इसे दोहराते हैं, उतने ही मजबूत हो जाते हैं। जिस क्षण से मैंने शुरू किया था, मैं चाहता था की में दुनिया में सर्वश्रेष्ठ बनकर दिखाऊं।"

Mickaël, जो कम शक्तिशाली और अधिक तकनीकी है, बोल्डरिंग में उत्कृष्टता प्राप्त करता है, और 2018 में राष्ट्रीय चैंपियन भी बन गया है। "मुझे बोल्डरिंग में प्रशिक्षण की विविधता से प्यार है, यह हमेशा बदलता रहता है। काम करने के लिए कई चीजें हैं, यह हमेशा नया होता है, मुझे यह पसंद है।"

जैसा कि टोक्यो ओलंपिक खेलों 2020 को एक साल के लिए स्थगित कर दिया गया है, और हर कोई अपने घरों के अंदर रह रहा है - यह एक ऐसी स्थिति है जो दोनों भाइयों को बहुत परेशान नहीं कर रही है। Mickaël फ्रेंच आल्प्स में Voiron में आधारित है जबकि Bassa न्यू कैलेडोनिया में है। वे हर दिन संपर्क में हैं.

खुद को मोटीवेट करने का समय आ गया

"हम बुनियादी प्रशिक्षण करने पर वापस आ गए हैं," Mickaël कहते हैं। "तरीकों में बदलाव लाना अच्छी बात है, और अपने आप को घर पर रहते हुए अभ्यास और प्रशिक्षण करते रहने के लिए प्रेरित करना चाहिये। घर पर अभ्यास करना आसान नहीं है, लेकिन हमें इसे जारी रखना होगा और बेहतर करना होगा।"

"हम ट्रैन करना पसंद करते हैं, इसलिए हम एक साल तक और ट्रैनिंग करेंगे," Mickaël ने हंसते हुए कहा। “मेरे लिए, यह वास्तव में अच्छी खबर थी। दो साल से, नियमों के बारे में कई निर्णय लिए जा रहे थे और हम शांति से आगे नहीं बढ़ सकते थे। अब, हमारे पास खेलों के लिए पूरी तरह से प्रशिक्षित करने के लिए एक वर्ष है और हम उस पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं,” Bassa कहते हैं।

और दोनों भाई टोक्यो के लिए योग्यता को अंतिम लक्ष्य नहीं मानते हैं। “मेरे जैसे विशेषज्ञों के लिए फॉर्मेट नहीं बनाया गया है। Mike पहले स्थान के लिए जा सकता है और मैं तीसरे स्थान के लिए लक्ष्य बनाऊंगा,” Bassa स्वीकार करते हैं। “मेरा लक्ष्य फाइनल में पहुँचना है। उसके बाद, सब कुछ संभव है। मैं पहला ओलंपिक स्पीड रिकॉर्ड भी स्थापित करना चाहूंगा।”

“मेरा लक्ष्य स्वर्ण पदक जीतना है, मेरी बहुमुखी प्रतिभा मुझे इसके लिए लक्ष्य बनाने की अनुमति देती है, Mickaël कहते हैं। मैं उसके लिए प्रशिक्षण ले रहा हूं और अब जबकि हमारे पास एक और वर्ष है, यह और भी बेहतर है। हम बहुत सारी चीजों पर काम करेंगे। मैं तकनीकी और शारीरिक रूप से सर्वश्रेष्ठ हूं, लेकिन मैं और भी बेहतर होना चाहता हूं। मैं प्रथम स्थान प्राप्त करने या कम से कम पोडियम पे आने के लिए प्रयास करूंगा।"

टोक्यो में साथ में

एक फायदा यह होगा कि वे टोक्यो में एक साथ रहेंगे। खेलों में भाग लेने वाले काफी एथलीटों के विपरीत, वे वहां प्रतियोगियों के रूप में नहीं जाएंगे। Bassa ने कहा, "खेलों के दौरान, यह कूल होगा। हमें किसी और के साथ नहीं रहना है, हम साथ रहेंगे। हम एक साथ अपना अभ्यास करेंगे और सब कुछ अच्छा होगा।"

“मैं अपने भाई को जीतते देखना चाहता हूं और वह मुझे जीतते हुए देखना चाहता है। अगर हम दोनों जीतते हैं, तो यह शानदार बात होगी। लेकिन अगर हम में से केवल एक ही जीतता है, तो भी जीत हम दोनों की होगी। हम खेलों से दो या तीन हफ्ते पहले जापान जाएंगे और ट्रैन करेंगे, कोई दबाव नहीं होगा,” Mickaël का कहना है।

Bassa के दृष्टिकोण से, पोडियम फिनिश हासिल करना मुश्किल होगा क्योंकि वह Mickaël से कम बहुमुखी है। लेकिन ओलंपिक खेलों में, कुछ भी हो सकता है। "मैं फाइनल में पहुंचना चाहता हूं और फिर सब कुछ हो सकता है।"

Mawem ब्रांड

"Mawem brothers", जिनके इंस्टाग्राम अकाउंट पर 82,000 से अधिक फॉलोअर्स हैं, वे अब एक ब्रांड हैं, वे टोक्यो में कुछ भी हासिल कर सकते हैं। तथ्य यह है कि वे अब 29 और 35 वर्ष की आयु के हैं, निश्चित रूप से कुछ ऐसा नहीं है जो उन्हें चिंतित करता है।

हम दृढ़ता के लिए जाने जाते हैं। जब हमने शुरुआत की थी, हमारे पास कुछ भी नहीं था, हमारे माता-पिता क्लीम्बर्स नहीं थे, हमें संघर्ष करना पड़ा। हम अपनी कार्यप्रणाली पर टिके रहे: ताकत। हमने उस पर बहुत काम किया और जिसकी वजह से हम इस स्तर तक पहुंचने में कामयाब रहे हैं,” Bassa बताते हैं।

"बहुत से लोग मुझसे पूछते हैं कि हम कब रिटायर होंगे, Bassa 35 के हैं और मेरी उम्र 29 है। हमने कुछ एथलीट्स को जल्दी रिटायरमेंट लेते देखा है क्योंकि एक निश्चित उम्र के बाद इसे जारी रखना आसान नहीं है। लेकिन हमने बाद में शुरुआत की और हम अभी भी यहां हैं। लगता है कि यह हमारे दृढ़ संकल्प के कारण है,” Mickaël ने कहा।