यकीनन ज़िंदादिल 'Joe Frazier’- जिन्होंने टूटे हुए अंगूठे के साथ स्वर्ण पदक पर अपनी जीत की मुहर लगाई!

अमेरिकी बॉक्सर Joe Frazier ने 1964 के टोक्यो ओलंपिक, 21 अक्टूबर 1964 के दौरान कोराकुइन आइस पैलेस में ओलंपिक सुपर हैवीवेट बॉक्सिंग सेमीफाइनल में अपने सोवियत प्रतिद्वंद्वी Vadim Yemelyanov को गिरा दिया। (कीस्टोन / गेटी इमेज के साथ फोटो)
अमेरिकी बॉक्सर Joe Frazier ने 1964 के टोक्यो ओलंपिक, 21 अक्टूबर 1964 के दौरान कोराकुइन आइस पैलेस में ओलंपिक सुपर हैवीवेट बॉक्सिंग सेमीफाइनल में अपने सोवियत प्रतिद्वंद्वी Vadim Yemelyanov को गिरा दिया। (कीस्टोन / गेटी इमेज के साथ फोटो)

अक्टूबर 1964 में, टोक्यो ने अपने पहले ओलंपिक खेलों की मेजबानी की थी। उन ऐतिहासिक पलों को याद करते हुए टोक्यो 2020 आपको कुछ सबसे अविश्वसनीय और जिंदादिल घटनाओं से रूबरू कराएगा, जो आज से 56 साल पहले हुई थी। श्रृंखला के पहले भाग में, हम Joe Frazier के उल्लेखनीय हैवीवेट मुक्केबाज़ी स्वर्ण पदक पर एक नज़र डालते हैं।

बैकग्राउंड

Joe Frazier बॉक्सिंग की दुनिया में नामी-गिरामी हस्ती हैं। उन्होंने 1970 और 1973 के बीच निर्विवादित विश्व हैवीवेट खिताब अपने नाम किया और खेल के इतिहास में सबसे यादगार जोड़ी में से कुछ से मुकाबला किया - जिसमें महान, Muhammad Ali के खिलाफ एक त्रिकोणीय खेल और खूंखार George Foreman के खिलाफ दो मुकाबले शामिल थे। आश्चर्य की बात यह है कि, यह दोनों ही खिलाड़ी आधिकारिक तौर पर ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता थे।

लेकिन जब जिंदादिल Joe एक शानदार करियर के लिए आगे बढ़े, उन्हें ओलंपिक खेलों के रोमांचक क्षणों का आनंद लेने का मौका भी नहीं मिला जो मुक्केबाज़ी की दुनिया के शीर्ष पर अपनी यात्रा को शुरू कर रहे थे।

Frazier ने एक शानदार शौकिया करियर का आनंद लेते हुए, टोक्यो 1964 में पसंदीदा में से एक के रूप में ओलंपिक ट्रायल में प्रवेश किया जिसमें उनके लिए तीन गोल्डन ग्लव्स चैंपियनशिप जीतें शामिल थीं। लेकिन फाइनल में उनका सामना 19 साल के Buster Mathis से हुआ, जो कि एक भारी-भरकम खिलाड़ी था, जिसका वजन 295 पाउंड था - जो Frazier से लगभग 100 प्रतिशत ज्यादा ताकतवर साबित हुआ।

Frazier, 6'1" पर थे और अभी भी अपने भविष्य के फ्रेम में आगे बढ़ रहे थे, एक क्रूजरवेट की तरह वह अगले खिलाड़ी से अधिक दिख रहे थे, जबकि उनके खिलाफ सामने भारी भरकम और विशालकाय Buster Mathis रिंग में मौजूद थे। और निश्चित रूप से यह तय था, जो तीन दौर के बाउट के बाद सामने आया, जिसमें Frazier आश्चर्यजनक रूप से, कमतर नजर आए, उनका पलड़ा झुकता नजर आया और अंततः वे हारते हुए नजर आए। Mathis को जीत से सम्मानित किया गया था और इसके साथ ही टोक्यो 1964 ओलंपिक खेलों में टीम यूएसए पहले स्थान पर जीत की खुशी को मनाते हुए दिखी।

इसलिए Frazier ने एक विकल्प के रूप में टोक्यो की यात्रा की; वह स्टैंडबाय पर थे, और उन्हें केवल तभी भाग लेने के लिए कहा जाएगा जब उनकी टीम का कोई सदस्य घायल हो गया हो। और ठीक इसी तरह का कुछ हुआ - Mathis प्रशिक्षण में घायल हो गए।

Joe Frazier ने टीम में अपनी जगह बना ली और बाकी कहते हैं न, ”इतिहास गवाह है।”

‘जीत’ के कभी ना भूलने वाले पल!!

उनके करियर के दौरान, यह कहना गलत नहीं होगा कि, Joe Frazier के लिए कुछ भी आसान नहीं था। यहां तक ​​कि ओलंपिक के लिए उनकी यात्रा भी काफी कठिन थी, क्योंकि वह पृथ्वी पर सबसे बड़ी खेल प्रतियोगिता ओलंपिक में पिछले दरवाजे से आए थे।

लेकिन जब बात आती है मुक्केबाज़ी की, तो Frazier एक कड़े मुकाबले के खूंखार प्रतियोगी थे। उन्होंने अपने स्टाइल में अपना ओलंपिक अभियान शुरू किया। उन्होंने पहले दौर के नॉकआउट पर अपना पहला बाउट युगांडा के George Oywello के खिलाफ जीता, इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के Athol McQueen के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में जीत दर्ज की। हालाँकि, McQueen के खिलाफ लड़ाई आसान बिल्कुल नहीं थी। ऑस्ट्रेलियाई मुक्केबाज़ ने अपने करियर की पहली नॉकडाउन लड़ाई के पहले दौर में Smokin’ Joe के आगे हथियार डाल दिए। हाल ही में एक साक्षात्कार में, 73 वर्षीय McQueen ने घोषणा की, "अगर मुझे उस समय वह सब पैंतरे मालूम होते, जो कि मैं आज जानता हूं, तो मैं उस पर बैठ जाता और उसे उठने नहीं देता।"

दुर्भाग्य से McQueen के लिए, Frazier उठ गया और उसे एकतरफा प्रतियोगिता में आने से रोक दिया।

"मुझे इस बात का बहुत अफसोस है कि, मैंने उसे ज्यादा नहीं मारा था।” उन्होंने कहा कि, “वह अच्छा - खासा आया, और मुझे पीटता चला गया, और खुद स्वर्ण पदक जीतता चला गया," McQueen ने 2011 में Frazier की मौत पर ‘द ऑस्ट्रेलियन’ को बताया।

सेमी-फाइनल में, Frazier को खूंखार सोवियत खिलाड़ी, Vadim Yemelyanov के खिलाफ सामना करना पड़ा। Frazier ने अपनी सामान्य विनाशकारी शैली में अपने चैलेंजर का निपटारा किया, उन्होंने     Vadim Yemelyanov पर लगातार मुक्कों की बौछार कर दी, जिसे देख कर रेफरी को लड़ाई को रोकने के लिए बीच-बचाव करना पड़ा।

रिंग से बाहर निकलने के बाद, Frazier को अपने बाएं अंगूठे में दर्द का एहसास हुआ। चिकित्सा सहायता लेने के बजाय उन्होंने दर्द को सुन्न करने के लिए अपने अंगूठे को ठंडे पानी में भिगोया। यह बाद में पता चला कि उनका अंगूठा टूट गया था - लेकिन इससे पहले Frazier धरती पर सबसे बड़ी शौकिया मुक्केबाज़ी प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीत चुके थे और वह थी - ओलंपिक खेल हैवीवेट फाइनल इवेंट।

अपने पहले तीन विरोधियों के विपरीत, और शायद उस चोट की वजह से, उसके कारण Joe Frazier ने नॉकआउट से फाइनल नहीं जीता था। उसने अपना ट्रेडमार्क बायां हुक फेंकने से परहेज किया और अपने प्रतिद्वंद्वी को अपने बाँयीं ओर की जगह दाँयीं ओर झुकाने पर ध्यान केंद्रित किया। जर्मन मुक्केबाज़, Hans Huber, एक बस मैकेनिक, जो एक पहलवान के रूप में प्रतिस्पर्धा करना चाहता था, के खिलाफ तीन-राउंड के फैसले में बाउट जीतकर, Joe ने स्वर्ण पदक जीता था।

ओलिंपिक स्वर्ण पदक Frazier का था और केवल छह साल बाद वह वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियन बने।

मैडिसन स्क्वायर गार्डन, न्यूयॉर्क में एक शीर्षक लड़ाई में, Muhammad Ali 15वें दौर में विश्व हैवीवेट चैंपियन Joe Frazier के खिलाफ लड़ते हुए। । (Keystone/ गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)
मैडिसन स्क्वायर गार्डन, न्यूयॉर्क में एक शीर्षक लड़ाई में, Muhammad Ali 15वें दौर में विश्व हैवीवेट चैंपियन Joe Frazier के खिलाफ लड़ते हुए। । (Keystone/ गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)

ब्रेकिंग न्यूज़

Joe Frazier, अपने समय के सबसे प्रसिद्ध मुक्केबाज़ों में एक सितारे की तरह उभरे, और ओलंपिक खेलों ने उस यात्रा की शुरुआत का प्रतिनिधित्व किया। 2011 में लिवर कैंसर से उनकी मौत के बाद, Joe Frazier को टीम यूएसए के मुख्य कोच द्वारा "बॉक्सिंग में मानक स्थापित करने वाले लोगों में से एक" के रूप में बताया गया था। विपरीत समय में अपना सर्वश्रेष्ठ बनाए रखने और ऊपर उठने की उनकी क्षमता ने Zanders को भी यह कहने पर मजबूर कर दिया, “उन्होंने एथलेटिक के उस युग में बॉक्सिंग की, जहां उस समय के दिग्गज खिलाड़ी मौजूद थे। लेकिन किसी के पास Joe Frazier जैसा दिल नहीं था।”

1970 में, Frazier ने विश्व मुक्केबाज़ी का खिताब WBA चैंपियन, Jimmy Ellis पर पांचवें दौर की TKO जीत के साथ जीता। उन्होंने यह नतीजा तब हासिल किया जब Angelo Dundee, जो Jimmy के प्रशिक्षक थे, ने दो चौथे-दौर के नॉकडाउन के बाद Jimmy को रिंग में वापसी करने से मना कर दिया।

अगले वर्ष, एक बाउट में जिसे ’फाइट ऑफ द सेंचुरी’ के रूप में करार दिया गया था, Frazier ने महान Muhammad Ali को उनके करियर की पहली हार सौंपी; उन्होंने सर्वसम्मत 15 दौर के फैसले से जीत हासिल की। बाद में, Joe ने 1973 में 1968 के ओलंपिक चैंपियन, George Foreman से हारने से पहले 29-0 के रिकॉर्ड को हासिल किया।

Frazier ने Ali के साथ दो और मुकाबलों के बाद अपनी विरासत का निर्माण किया - जिसमें मनीला में थ्रिला भी शामिल है - जिसे बॉक्सिंग इतिहास में सबसे प्रसिद्ध मुकाबलों में से एक माना जाता है।

Foreman के हाथों दूसरी हार झेलने के बाद, Frazier 1976 में मुक्केबाज़ी से रिटायरमेंट ले ली, हालांकि बाद में, उन्होंने Floyd “Jumbo” Cummings के खिलाफ 1981 में एक अंतिम बाउट के लिए रिंग में वापसी की।

लेकिन यह सब उस दिन से शुरू हुआ जब उन्होंने 1964 में टोक्यो में ओलंपिक खेलों में एक विकल्प के रूप में यात्रा की। 2004 के एक साक्षात्कार में जब उनसे पूछा गया कि उनके स्वर्ण पदक के साथ क्या हुआ था, तो Frazier ने जवाब दि“मैंने अपने ओलंपिक स्वर्ण पदक को ग्यारह टुकड़ों में काट दिया और मेरे सभी बच्चों को एक- एक टुकड़ा विरासत के रूप में दिया जिससे प्रभावित होकर, उनके अंदर हमेशा एक विजेता जिंदा रहे।”