छह विश्व रिकॉर्ड और Cathy Ferguson की अद्भुत स्वर्ण जीत

Ferguson_IOC

वर्ष 1964 के अक्टूबर महीने में टोक्यो ने पहली बार ओलिंपिक खेलों की मेज़बानी करि थी और हम आपको बताएंगे उस प्रतियोगिता के कुछ ऐतिहासिक क्षण जो 56 साल बाद आज भी याद किये जाते हैं। इस बार हम आपको बताएंगे की कैसे 16 वर्षीय Cathy Ferguson ने सर्वोच्च स्तर के प्रतिद्वंदियों को हरा कर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। 

पहले की कहानी

Cathy Ferguson की कुशलता और प्रतिभा बहुत काम आयु में उभरे और उन्होंने ओलिंपिक सफलता प्राप्त करने में देर नहीं लगाई।

वर्ष 1948 में जन्मी Ferguson सिर्फ 16 साल की थी जब उन्होंने ओलिंपिक खेलों में भाग लेने के लिए टोक्यो गयी।

उनकी काम आयु ने Ferguson की स्वर्ण दावेदारी को प्रभावित नहीं किया और वह 1964 टोक्यो ओलिंपिक खेलों में भाग ले रही तैराकों में से सबसे कुशल थी। Ferguson को चुनौती दे रही थी एक और 16 वर्षीय तैराक और फ्रांस की बैकस्ट्रोक विश्व रिकॉर्ड धारक Christine Caron जो की बेहतरीन फॉर्म में थी।

Ferguson के नाम 200 मी बैकस्ट्रोक विश्व रिकॉर्ड था लेकिन फिर भी वह 100 मी प्रतियोगिता में स्वर्ण जीतने कि प्रबल दावेदारों में नहीं गिनी जा रही थी।

फाइनल से पहले हुई चार हीट में तीन विश्व रिकॉर्ड बनाये गए और उनमें से एक बनाया गया Ferguson की साथी अमेरिका की Ginny Duenkel द्वारा। Ferguson ने Duenkel के 1:08.9 सेकंड समय को परास्त कर विश्व रिकॉर्ड स्थापित किया लेकिन Caron ने उसे भी तोड़ 1:08.5 सेकंड का नया रिकॉर्ड बना दिया।

एक ऐतिहासिक फाइनल के लिए मंच तैयार था और तीन विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले तैराक उसमे भाग लेने वाले थे।

अहम् क्षण

फाइनल के दिन सभी को विश्वास था कि एक नया विश्व रिकॉर्ड फिर से बनाया जायेगा क्योंकि विश्व के सर्वश्रेष्ठ बैकस्ट्रोक तैराक एक दुसरे का मुकाबला करने वाले थे।

प्रतियोगिता की पहले भाग में मुकाबला बहुत कड़ा था लेकिन दुसरे भाग में स्वर्ण के लिए लड़ाई Ferguson, Caron और Duenkel के बीच था।

अंत में Ferguson ने पूल की दीवार को पहले छुआ और स्वर्ण अपने नाम कर दिखाया। दूसरा स्थान Caron को मिला और Duenkel तीसरे स्थान पर आयी।

जिसकी अपेक्षा थी वही हुआ और Ferguson ने 1:07.7 सेकंड के समय के साथ एक नया विश्व रिकॉर्ड स्थापित किया और 1:08 सेकंड से काम समय में यह दूरी तैरने वाली पहली महिला तैराक बनीं।

टोक्यो 1964 ओलिंपिक खेलों में 100 मी बैकस्ट्रोक स्वर्ण जीतने वाली अमरीका की Cathy Ferguson lane 5 में शुरुआत करती हुई।
टोक्यो 1964 ओलिंपिक खेलों में 100 मी बैकस्ट्रोक स्वर्ण जीतने वाली अमरीका की Cathy Ferguson lane 5 में शुरुआत करती हुई।

आगे की कहानी

फाइनल के बाद Ferguson ने बताया कि उनकी जीत का कारण एक खास युक्ति थी जिसका वह कई समय से अभ्यास कर रही थी।

Ferguson ने अपनी स्वर्ण जीत के बारे में कहा, 'मैं आठ तैराकों में अकेली थी जिसने कभी भी दीवार को नहीं खोजै और मुझे वापस मुड़ने की कला आती थी। मुड़ना और गति के साथ तैरना बहुत महत्वपूर्ण होता है।'

बैकस्ट्रोक प्रतियोगिता में जीत के बाद Ferguson ने 4x100 मी मेडले रीले में भी स्वर्ण अपने नाम किया।

अगले ओलिंपिक खेलों के पहले Ferguson ने 19 वर्ष की आयु में ही विवाह कर लिया और खेल से सन्यास। उनके करियर में दो ओलिंपिक स्वर्ण और 15 राष्ट्रीय ख़िताब शामिल थे।

आने वाले वर्षों में उन्होंने एक कोच के रूप में कई युवा तैराकों के साथ काम किया और अपनी खास युक्तियों के बारे में भी बताया।

'अगर आप मुझसे पूछें तो मैं कहूँगी की ओलिंपिक खेलों में भाग लेना स्वर्ण पदक जीतने से ज़्यादा महत्वपूर्ण है।'

'जीवन में संघर्ष जीत से ज़्यादा ज़रूरी होता है और अगर हम अपनी युवा पीढ़ी को यह सिखाएंगे तो हमारे देश में अनेकों चैंपियन होंगे।'