Reem Al Shammary - एक ऐसी फाइटर जो कभी पीछे नहीं हटी

जॉर्डन की मुक्केबाज Reem Al Shammary ने टोक्यो 2020, अम्मान के लिए एशियाई / महासागरीय क्वालीफायर में प्रतिस्पर्धा की।
जॉर्डन की मुक्केबाज Reem Al Shammary ने टोक्यो 2020, अम्मान के लिए एशियाई / महासागरीय क्वालीफायर में प्रतिस्पर्धा की।

जॉर्डन की मुक्केबाज, Reem Al Shammary को अपने जीवन में बहुत सारी कठिनाइयों को पार करना पड़ा। सबसे पहले, उन्हें Bedouin समुदाय के खिलाफ लड़ना पड़ा, जो खेल में हिस्सा लेने वाली महिलाओं के गैर-समर्थक थे। फिर, उनकी एक नस नष्ट होने के बाद उन्हें व्हीलचेयर का उपयोग करने के लिए मजबूर होना पढ़ा। इस समय, वह टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों में प्रदर्शन करने का लक्ष्य बना रही है।

कुछ हफ्ते पहले अम्मान में आयोजित ओलंपिक क्वालीफाइंग स्पर्धा के दौरान Al Shammary अकेली महिला जॉर्डन बॉक्सर थीं जिन्होंने इसमें हिस्सा लिया था। उन्होंने कहा, "मैं उन लड़कियों के लिए प्रेरणा बनना चाहती हूं जो अरबी देशों और दुनिया भर में मुक्केबाजी का अभ्यास करना चाहती हैं।..

दो साल के भीतर व्हीलचेयर से उठकर रिंग में उतरने वाली रीम अल शमरी की कहानी
01:59

बाधाएं जो उसके रास्ते में आईं

वह अब 30 साल की है और अभी भी हर दिन अभ्यास करती है। जब वह ऐसा नहीं कर रही है, तो वह आसपास के बच्चों को प्रशिक्षित करती है। जॉर्डन की मुक्केबाज ने 2009 में मुक्केबाजी शुरू की, जो उनके समुदाय की परंपराओं के खिलाफ था।

"Bedouin समाज बहुत रूढ़िवादी है, यह बहुत ही बंद है और उनकी परंपराएं बहुत प्रतिबंधात्मक हैं। उनकी परंपराओं में से एक यह है कि लड़कियों को खेल का अभ्यास करने की अनुमति नहीं है। लेकिन मैंने इस परंपरा को तोड़ने का फैसला किया।“

फिर भी वह तब तक मुक्केबाजी करती रही जब तक कि कोई नई बाधा सामने नहीं आ गई। इस बार कहानी थोड़ी अलग थी। 2018 में, उन्हें एक नर्व डिसऑर्डर का सामना करना पड़ा, जिसके कारण उन्हें व्हीलचेयर का उपयोग करने के लिए मजबूर होना पड़ा। “मुझे एक अप्रत्याशित बीमारी थी लेकिन मेरे पास किसी तरह वापस आने की इच्छाशक्ति थी। मैं चाहती हूं कि लोगों को पता चले कि इच्छाशक्ति और दृढ़ संकल्प के साथ आप अपने लक्ष्यों को प्राप्त कर सकते हैं।”