इंग्लैंड में अभ्यास करने के बाद Sindhu अगले साल कोर्ट में वापसी के लिए तैयार 

CHOFU, JAPAN - JULY 26: Pusarla V. Sindhu of India competes in the Women's Singles Quarterfinal match against Akane Yamaguchi of Japan on day four of the Daihatsu Yonex Japan Open Badminton Championships, Tokyo 2020 Olympic Games test event at Musashino Forest Sport Plaza on July 26, 2019 in Chofu, Tokyo, Japan. (Photo by Matt Roberts/Getty Images)
CHOFU, JAPAN - JULY 26: Pusarla V. Sindhu of India competes in the Women's Singles Quarterfinal match against Akane Yamaguchi of Japan on day four of the Daihatsu Yonex Japan Open Badminton Championships, Tokyo 2020 Olympic Games test event at Musashino Forest Sport Plaza on July 26, 2019 in Chofu, Tokyo, Japan. (Photo by Matt Roberts/Getty Images)

भारत की नंबर एक बैडमिंटन खिलाड़ी ने लॉकडाउन जीवन और इंग्लैंड दौरे के अनुभव के बारे में बताया। 

कुछ दिन पहले किये गए एक ट्वीट के द्वारा पूरे खेल जगत में सनसनी मचाने के बाद भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी और विश्व चैंपियन PV Sindhu एशिया टूर की तैयारी कर रही हैं और प्रशंसक उन्हें कोर्ट पर वापस देखने के लिए उत्सुक हैं। इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए Sindhu ने लॉकडाउन, टोक्यो 2020 ओलिंपिक और सकारात्मक रहने के बारे में बताया।

Sindhu के जीवन पर लॉकडाउन का प्रभाव

कोरोना महामारी के कारण लगे लॉकडाउन ने हर खिलाड़ी के जीवन को एक बड़े तरीके से प्रभावित किया लेकिन PV Sindhu का दृष्टिकोण काफी सकारात्मक रहा और उन्होंने घर पर शारीरिक ट्रेनिंग जारी रखी।

लॉकडाउन में अपने जीवन के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, "सबके जीवन पर प्रभाव पड़ा चाहे वह अभ्यास के या यात्रा के दृष्टिकोण से हो। सब कुछ रुक गया था लेकिन मैं घर पर अभ्यास कर रही थी और मेरे ट्रेनर ने मुझे एक अनुसूची दी थी जिसका पालन मैं करती रही।"

"मैं बैडमिंटन बहुत समय तक नहीं खेल पायी लेकिन जब स्थिति में बदलाव आया और कोर्ट पर जाने के दो सप्ताह के अंदर ही मेरा खेल सामान्य स्तर पर आ गया।"

Sindhu ने अक्टूबर में आयोजित डेनमार्क ओपन में भाग नहीं लिया था लेकिन वह हैदराबाद में लगातार अभ्यास कर रही हैं और अगले साल ओलिंपिक खेलों से पहले होने वाले एशिया टूर में अपनी वापसी करेंगी।

इंग्लैंड में अभ्यास और विशेष लक्ष्य

विश्व के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी कड़े परिश्रम के साथ कुछ विशेष चीज़ों पर ध्यान देते हैं जो उनके खेल स्तर में निरंतर सुधार लाते रहते हैं और Sindhu इसका सबसे प्रत्यक्ष उदाहरण हैं। अगले साल होने वाले ओलिंपिक खेलों के लिए अपने आप को तैयार करने के लिए उन्होंने अपने पोषण और रिकवरी पर विशेष ध्यान देने का निर्णय लिया।

विशेषज्ञों के साथ इन पहलुओं पर काम करने के लिए Sindhu कुछ सप्ताह इंग्लैंड गयी थी और वहां स्थित गेटोरेड खेल विज्ञानं संस्था में समय बिताया। इसी बारे में बात करते हुए उन्होंने बताया, "यह एक लम्बी प्रतिक्रिया है और मैं पिछले चार साल से जीएसएसआई के साथ मिल कर काम कर रही हूँ। मेरे खेल के आलावा कई और विषयों पर मैं काम कर रही हूँ।"

इंग्लैंड में Sindhu ने स्थानीय बैडमिंटन खिलाड़ियों के साथ अभ्यास किया और उनकी अलग तकनीक से लाभ भी उठाया है।

"नकारात्मकता से सन्यास, खेल से नहीं"

Sindhu के एक ट्वीट जिसमे उन्होंने अपने सन्यास के बारे में लिखा था सोशल मीडिया पर आग की तरह फ़ैल गया था लेकिन वह एक बड़ा संदेश देने के उद्देश्य से किया गया था। 

उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, "मैंने लिखा था कि यह सन्यास कोरोना महामारी से जुड़ी नकारात्मकता से था और मेरा उद्देश्य था कि सबका ध्यान इस चीज़ पर आकर्षित करूँ और समाज को एक सकारात्मक सोच का संदेश दूँ।"

भारत और विश्व बैडमिंटन के लिए अच्छा समाचार है कि Sindhu टोक्यो ओलिंपिक में खेलने के लिए तैयार हैं और कड़ा अभ्यास कर रही हैं। उन्होंने कहा, "ओलिंपिक खेलों से पहले कुछ और प्रतियोगिताएं हैं जिनमे मुझे हिस्सा लेना है, मेरा ध्यान अभी उनके ऊपर है। टोक्यो ओलिंपिक खेलों में पदक जीतना मेरा लक्ष्य है और मैं भाग्य लेने के लिए उत्सुक हूँ।"

वर्ष 2020 का अंत होने में अब डेढ़ माह बाकी है और अगले साल एक नयी उम्मीद के रूप में आएगा और भारत आशा करेगा कि PV Sindhu 2016 रियो ओलिंपिक खेलों से बेहतर प्रदर्शन दिखाएँ।