टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पर रहेगी विश्व चैंपियन PV Sindhu की निगाहें

PV Sindhu (Matt Roberts / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
PV Sindhu (Matt Roberts / गेटी इमेज द्वारा फोटो)

भारत का प्रदर्शन ओलंपिक खेलों में बहुत अच्छा नहीं रहा है पर कुछ ऐसे सितारे भी हैं जिनसे न केवल पदक की अपेक्षा है पर स्वर्ण से कम की चर्चा भी नहीं की जा सकती। उनमे से ही एक नाम हैं बैडमिंटन खिलाड़ी और विश्व चैंपियन PV Sindhu, जो भारत के खेल जगत के अव्वल नामों में से एक हैं। कोरोना महामारी के चलते टोक्यो ओलंपिक्स में हुए विलम्भ के कारण Sindhu का स्वर्ण जीतने का सपना रुका ज़रूर है पर सिर्फ थोड़े समय के लिए।

कैसे बढ़ा Sindhu का आत्मविश्वास

विश्व चैंपियनशिप जीतने के बाद Sindhu का आत्मविश्वास काफी बढ़ गया है और उनकी माने तो टोक्यो में होने वाले खेलों में इस जीत से उन्हें बहुत फायदा होगा।

Sindhu ने Sportstar मैगज़ीन से बात करते हुए बताया की विश्व चैंपियन का ख़िताब उनके लिए एक बेहद ज़रूरी पड़ाव था जिसको पार करने के बाद उनका अगला लक्ष्य अब टोक्यो में स्वर्ण जीतना होगा। 

'मैं ओलंपिक स्वर्ण जीतने की तैयारी कर रही हूँ और इसमें कोई शक नहीं है की विश्व चैंपियन का ख़िताब होने से मुझे काफी सहायता मिलेगी। मेरा लक्ष्य अगले साल स्वर्ण हासिल करना है,' Sindhu ने Sportstar से कहा।

 'सबसे बड़ी बात यह है की विश्व चैंपियन होने की वजह से मेरा आत्मविश्वास बहुत बढ़ गया है बावजूद इसके के विश्व प्रतियोगिता जीतने के बाद मुझे कुछ असफलताओं का सामना करना पड़ा था।'

लॉकडाउन, कोरोना और अभ्यास

कोरोना महामारी ने दुनियाभर के खेलों पर रोक लगा दी थी पर अब धीरे धीरे स्थिति सामान्य हो रही है और Sindhu ऐसा मानती हैं की यह रूकावट उनके लिए एक सकारात्मक रूप में आयी।

Sportstar से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा, 'इस महामारी के कारण जो ब्रेक हमें मिला है उसे मैं एक सकारात्मक अवसर मानती हूँ और सारे खिलाड़ियों के लिए भी ऐसा ही होगा। अपनी सेहत पर मैंने बहुत काम किया है और जब भी प्रतियोगिता होगी मैं कोर्ट पर जाने को तैयार हूँ।'

क्या नया सीख रही हैं Sindhu?

टोक्यो खेलों में सबकी निगाहें Sindhu पर होगी और इसी कारण उनके ऊपर दबाव भी सामान्य से अधिक होगा पर वह पूरी तैयारी कर रही हैं अपने प्रतिद्वंदियों को परास्त करने के लिए।

'मैं अपने कोरियाई कोच के साथ काम कर रही हूँ और नए शॉट्स का अभ्यास कर रही हूँ। मुझे अपनी गलतियों से भी सीखना पड़ेगा और एक बेहतर खिलाड़ी होने के लिए यह ज़रूरी है,' Sindhu ने कहा।

PV Sindhu ने बहुत कम उम्र में बैडमिंटन का शिखर हासिल कर लिया है और अब वहां रहने के लिए पूरा प्रयास कर रही हैं।

2016 रियो ओलंपिक्स में उनका Carolina Marin के साथ ऐतिहासिक मुकाबला भारतीय खेल के सर्वश्रेष्ठ मुक़ाबलों में से एक था और हालांकि Sindhu स्वर्ण नहीं जीत पायी, उन्होंने ओलंपिक्स शिखर की तरफ पहला कदम ज़रूर ले लिया था।

अब अगला लक्ष्य - टोक्य।