प्लेबैक रियो - जब Haruka Tachimoto ने अपनी बहन के लिए जीता स्वर्ण पदक

रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 5वें दिन पर महिला -70 किग्रा स्वर्ण पदक बाउट के दौरान कोलंबिया की Yuri Alvear के खिलाफ कार्रवाई में जापान की Haruka Tachimoto
रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 5वें दिन पर महिला -70 किग्रा स्वर्ण पदक बाउट के दौरान कोलंबिया की Yuri Alvear के खिलाफ कार्रवाई में जापान की Haruka Tachimoto

ओलंपिक खेलों रियो 2016 में जापान ने कुल 41 पदक (12 स्वर्ण, 8 रजत और 21 कांस्य) जीते। लेकिन, ओलंपिक खेलों में प्रतिस्पर्धा के दौरान जापानी एथलीट्स के दिमाग में क्या विचार आए? इस श्रृंखला में, हम चार साल पहले ब्राजील में जापानी खिलाड़ियों के कुछ शानदार प्रदर्शनों पर एक नज़र डालते हैं।

Tachimoto ने महिला जूडो गोल्ड जीता
01:40

महिलाओं के 70 किग्रा जूडो फाइनल का परिणाम

Haruka Tachimoto (जापान)

(Ippon gachi, awase-waza; 2:19)

Yuri Alvear (कोलम्बिया)

"मैं उसे जाने नहीं दूंगी, चाहे कुछ हो जाए।" यह वह ख्याल था जो Haruka के दिमाग में आया, जब वह अपनी प्रतिद्वंद्वी को yoko-shiho-gatame (साइड फोर-कॉर्नर होल्ड) के साथ पिन कर रही थी। ऐसा करके, उन्होंने Yuri के खिलाफ एक इपॉन (एक पूर्ण पॉइंट) स्कोर किया और मैच जीत लिया। Tachimoto बहुत खुश थी।

हालांकि दुनिया में तीसरी रैंक की खिलाड़ी के रूप में, वह चार साल पहले ओलंपिक खेलों लंदन 2012 में स्वर्ण पदक के लिए पसंदीदा में से एक थी, लेकिन वह निराशाजनक प्रदर्शन के चलते सातवें स्थान पर रही और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देने में असमर्थ रही।

इसके बाद के महीनों में, जापानी जूडोका किसी भी प्रतियोगिता में संतोषजनक परिणाम हासिल करने में विफल रही। आलम तो यहां तक था कि अगर उन्हें वहां हार का सामना करना पड़ता तो वह टूर्नामेंट में रिटायर होने के लिए तैयार थी।

रियो 2016 में, दूसरे राउंड में, उनका सामना नीदरलैंड की Kim Polling से हुआ, जो उस समय दुनिया में नंबर 1 स्थान पर थी।

उन्होंने मैच से पहले खुद से कहा, "मुझे स्वर्ण पदक जीतने में सक्षम होना चाहिए, अगर मैं उसे हरा सकती हूं"।

मैच के शुरुआती चरणों के दौरान, डच जुडोका ने एक युको (प्रभावी / मध्यम लाभ) स्कोर किया। लेकिन Tachimoto ने अपने कंधों को गिरने नहीं दिया और ओवरटाइम अवधि के दौरान अपनी पसंदीदा चाल - osoto-gari (बड़े बाहरी रीप) की मदद से एक यूको स्कोर किया। ऐसा करके उनके डच जुडोका के खिलाफ मैच जीत लिया।

स्वर्ण पदक विजेता, जापान की Haruka Tachimoto रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 5वें दिन महिला -70 किग्रा जूडो के लिए पदक समारोह के दौरान मंच पर खड़ी हैं।
स्वर्ण पदक विजेता, जापान की Haruka Tachimoto रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 5वें दिन महिला -70 किग्रा जूडो के लिए पदक समारोह के दौरान मंच पर खड़ी हैं।
Patrick Smith/Getty Images

Tachimoto ने क्वार्टर फाइनल में ओवरटाइम जीत को दोहराया। सेमीफाइनल में, उन्होंने एक और osoto-gari के साथ waza-ari (एक आधा अंक) अर्जित किया, जिसके परिणामस्वरूप yusei-gachi (निर्णय द्वारा जीत) हुई। फाइनल तक पहुंचने के लिए अपने प्रतिद्वंद्वियों को पछाड़ते हुए, वह जानती थी कि वह यहां पदक जीतेगी। लेकिन वह अंतिम पुरस्कार - स्वर्ण पदक जीतने पर अड़ी रही।

"मैंने खुद से कहा कि मुझे चैंपियन बनना था, चाहे जो भी हो, दुनिया के सबसे महान मंच पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना है," उन्होंने बाद में खुलासा किया।

Tachimoto के पास हार न मानने का एक विशेष कारण था - उनकी बड़ी बहन, Megumi. बहनें, बचपन से ही एक साथ ओलंपियन बनने का लक्ष्य रखती थीं। दुर्भाग्यवश, लंदन 2012 खेलों या रियो 2016 खेलों के लिए Megumi का सिलेक्शन नहीं हुआ और वह अपने सपने को पूरा करने में असमर्थ रही। फिर भी, जब बड़ी बहन को पता चला कि उन्हें राष्ट्रीय टीम के लिए नहीं चुना गया है, तो उन्होंने Haruka का समर्थन करना शुरू कर दिया।

"Megumi का समर्थन मेरे लिए आवश्यक था। उन्होंने अपनी भावनाओं को साइड पर रखा और मुझे पूरा समर्थन दिया। मुझे थोड़ा अजीब लगा क्यूंकि इससे पहले वह मेरे प्रति इतनी दयालु नहीं थी। लेकिन, उनकी दया ने मुझे बहुत प्रेरित किया," Tachimoto ने कहा।

फाइनल में, Tachimoto को पहली बार एक shido (मामूली उल्लंघन) प्राप्त हुआ। हालांकि, मैच में सिर्फ दो मिनट के साथ, उन्होंने Alvear के अटैक को काउंटर किया और लंदन 2012 कांस्य पदक विजेता को 20 सेकंड के अंदर पिन कर दिया, और मैच को जीत लिया।

पदक समारोह के बाद, प्रत्येक पदक विजेता को एक व्यक्ति को मैच क्षेत्र में बुलाने की अनुमति दी जाती है। Tachimoto ने अपनी बहन, Megumi को बुलाया और उनके गले में स्वर्ण पदक डाल दिया।

आंसू भरी आंखों के साथ, Megumi ने चैंपियन से कहा, "मैं वास्तव में खुश हूं। मेरे पास व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं हैं।” उनकी बहन के ये शब्द सुनकर, Tachimoto ने भी आँसू बहाए।