वर्ल्ड हेल्थ डे: ओलंपिक जूडो चैंपियन Paula Pareto, जो सभी के लिए प्रेरणा हैं

अर्जेंटीना की Paula Pareto ने रियो 2016 ओलंपिक खेलों में महिला -48 किग्रा जूडो में स्वर्ण पदक जीतने के बाद जश्न मनाया। (Laurence Griffiths/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
अर्जेंटीना की Paula Pareto ने रियो 2016 ओलंपिक खेलों में महिला -48 किग्रा जूडो में स्वर्ण पदक जीतने के बाद जश्न मनाया। (Laurence Griffiths/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

आज, 7 अप्रैल 2021, वर्ल्ड हेल्थ डे है। इस अवसर को चिह्नित करने के लिए, टोक्यो 2020 उन लोगों को याद करता है जो अभी भी COVID-19 के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। उनमें से एक Paula Pareto भी हैं - एक रियो 2016 की स्वर्ण पदक विजेता, जो एक डॉक्टर के रूप में भी काम करती हैं।

2020 को दुनिया को बदलने वाले वर्ष के रूप में याद किया जाएगा।

न केवल COVID-19 महामारी दुनिया भर में कई अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों के रद्द होने का कारण बनी, बल्कि इसने इतिहास में पहली बार ओलंपिक खेलों को भी स्थगित करवा दिया।

पिछले एक साल में, एथलीटों ने घर पर प्रशिक्षण द्वारा अपने सपनों के लिए लड़ना जारी रखते हुए सभी को प्रेरित किया और अब, 2021 में, उनके प्रयासों के परिणाम दिखाई दे रहे हैं।

2021 में होने वाले टोक्यो 2020 खेलों तक केवल चार महीनों के साथ, हम उन एथलीटों की सराहना करते हैं जो COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में शामिल हुए और अभी भी दुनिया को बेहतर जगह बनाने के लिए काम कर रहे हैं।

उन एथलीटों में से एक Paula Pareto भी हैं। एक ओलंपिक चैंपियन जुडोका, जो एक ट्रॉमेटोलॉजिस्ट भी हैं। हालाँकि वह COVID-19 वार्डों में काम नहीं करती थी, लेकिन उनका कामकाजी जीवन महामारी से बहुत प्रभावित था।

उनकी कहानी के बारे में जानें -

जरूरी जानकारी

  • नाम : Paula Pareto
  • आयु : 35
  • देश : अर्जेंटीना
  • खेल : जूडो

दुनिया की जुडो दिग्गजों में से एक, अर्जेंटीना की Paula Pareto की सर्वश्रेष्ठ उपलब्धियों के ट्रॉफी कैबिनेट में एक स्वर्ण पदक (रियो 2016), एक रजत पदक (बीजिंग 2008) और एक ओलंपिक डिप्लोमा (लंदन 2012) शामिल हैं। यह उस तरीके को दर्शाता है जिसमें उन्हें एक दशक में -48 किग्रा भार वर्ग में अपना वर्चस्व कायम करने दिया, जिसमें उन्हें 2015 में विश्व चैंपियन का ताज भी पहनाया गया था।

एक जीत, जो एक चोट से लौटने के बाद हासिल की गई - उसने उन्हें 10 वर्षों में जूडो वर्ल्ड चैंपियनशिप का खिताब जीतने वाली पहली गैर-एशियाई खिलाड़ी बना दिया । 

कुल मिलाकर, Pareto Pareto ने विभिन्न अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में लगभग 50 पदक जीते हैं, जिसमें 20 स्वर्ण पदक शामिल हैं। रियो 2016 में, उन्होंने स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली अर्जेंटीना महिला बनकर इतिहास रचा और वह व्यक्तिगत खेलों में दो ओलंपिक पदक जीतने वाली देश की पहली महिला एथलीट भी हैं।

अब वह टोक्यो 2020 में अपने चौथे ओलंपिक खेलों में प्रतिस्पर्धा करने का लक्ष्य बना रही हैं। उनकी योग्यता लगभग सुरक्षित हो गई है, क्योंकि वह IJF ओलंपिक विश्व रैंकिंग में पाँचवें स्थान पर हैं। हालांकि, उन्हें अभी भी कुछ महीनों तक इंतजार करने की आवश्यकता होगी, क्योंकि अंतिम रैंकिंग 28 जून तक बदल सकती है।\

Paula Pareto जूडो खेलने और दवा का अध्ययन करने के बारे बात करती हैं
01:41

बेशक Paula Pareto अर्जेंटीना के लिए व्यक्तिगत ओलंपिक जूडो स्वर्ण जीतने वाली पहली महिला हैं, लेकिन कुछ और भी है जो उनके लिए उतना ही महत्वपूर्ण है।

उनका पेशेवर जीवन

रियो में 2016 में Pareto की जीत ने उन सभी को और अधिक चकित कर दिया जिन्होंने उन्हें खेलों के इस मुकाम तक पहुंचने के लिए जद्दोजहद करते हुए देखा था।

उस समय अपने जीवन में, Pareto का ध्यान न केवल ओलंपिक पर था, बल्कि चिकित्सा में उनके विश्वविद्यालय के अध्ययन पर भी था।

लेकिन Pareto का मानना है कि जूडो ने उनकी मदद की थी जब वह पढ़ रही थी।

"मैंने उन कक्षाओं में भाग लेने और कई बार घायल होने से काफी व्यक्तिगत अनुभव प्राप्त किया ... यह कुछ ऐसा था जो मेरे पास नहीं था, लेकिन मेरी टीम की साथी के पास था। अच्छी बात यह है कि अब हम जानते हैं कि हम किस बारे में बात कर रहे हैं और हमे क्या करना हैं," उन्होंने 2018 में ओलंपिक चैनल को बताया।

अब वह अर्जेंटीना के एक अस्पताल में एक ट्रूमैटोलॉजिस्ट के रूप में काम करती हैं। पिछला साल Pareto के लिए विशेष रूप से कठिन था, क्योंकि उन्हें रद्द किए गए टूर्नामेंट के संयोजन, ओलंपिक के स्थगन और COVID -19 से जूझने के फ्रंट-लाइन अनुभव से निपटना था।

"भले ही हम आघात विज्ञान में काम करते हैं, हम मेडिकल टीम पर अन्य डॉक्टरों की मदद भी कर रहे थे। जाहिर है, हम अपने विभाग के रोगियों को भी अटेंड कर रहे हैं। हमारे पास कुछ ऐसे रोगी थे जो कि कोरोनोवायरस के लिए पॉजिटिव पाए गए थे, इसलिए हमें अतिरिक्त सावधानी बरतनी थी। उनकी मदद करने के साथ-साथ हमे खुद प्रत्येक संभव तरीके से वायरस को फैलने से रोकने और इसका इलाज करने का तरीका अपनाना था,“ उन्होंने समझाया।

हालांकि इन दोनों स्थितियों से निपटना किसी के लिए भी मुश्किल होगा, Pareto ने एक बार फिर दिखाया है कि वह जो कुछ भी सोचती हैं उसे कर पाने और सफल होने में सक्षम हैं। अक्टूबर में उन्होंने प्रतियोगिता में वापसी की और नवंबर में लगातार चौथी बार पैन-अमेरिकन चैम्पियनशिप जीतने से पहले बुडापेस्ट ग्रैंड स्लैम में रजत पदक जीता।

एक महामारी से लड़ने से भी इस एथलीट का संकल्प कमजोर नहीं हुआ, और वह अभी भी टोक्यो 2020 में एक बार फिर स्वर्ण पदक जीतने का लक्ष्य रखतीं हैं।