एकलौता ओलंपिक पदक - पैराग्वे का सबसे महान गोल

पैराग्वे के Julio Cesar Enciso ने एथेंस 2004 ओलंपिक खेलों के दौरान इराक और पैराक्वे के बीच मेंस फुटबॉल सेमीफाइनल मैच में जीत का जश्न मनाया। (Mike Hewitt/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
पैराग्वे के Julio Cesar Enciso ने एथेंस 2004 ओलंपिक खेलों के दौरान इराक और पैराक्वे के बीच मेंस फुटबॉल सेमीफाइनल मैच में जीत का जश्न मनाया। (Mike Hewitt/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

ओलंपिक मेडल जीतना हजारों एथलीट्स के लिए एक लक्ष्य है, लेकिन इन 24 देशों के लिए यह एक सपना है जो केवल एक बार ही सच हुआ है। Tokyo2020.org उन शानदार क्षणों पर एक नज़र डालता है।

बैकग्राउंड

हालांकि पैराग्वे ने मेक्सिको खेलों 1968 के दौरान अपना ओलंपिक डेब्यू किया था, लेकिन यह एथेंस 2004 में था जब उन्होंने अपना पहला ओलंपिक पदक जीता था। एथेंस में तेईस परागुआयन एथलीट्स ने भाग लिया, जो बार्सिलोना 1992 के बाद उनका दूसरा सबसे बड़ा प्रतिनिधिमंडल था, जहां 27 एथलीट्स ने भाग लिया था।

आश्चर्यजनक रूप से, पैराग्वे ने अपना पहला और एकमात्र पदक एक ऐसे खेल में जीता जिसमें कई एथलीट्स की आवश्यकता होती है - फुटबॉल।

एथेंस 2004 में स्वर्ण पदक मैच तक पहुंचने से पहले, पैराग्वे ने चार मैच जीते और केवल एक गेम गंवाया था।

ग्रुप चरण में, टीम ने जापान (4-3) और इटली (1-0) को हराया, जबकि घाना (1-2) से हार गई।

इस हार के बावजूद, पैराग्वे क्वार्टर फाइनल में पहुंच गया, जहां उन्होंने दक्षिण कोरिया (3-2) को हराया।

जब वे सेमीफाइनल में पहुंचे, तो उन्होंने खुद को ओलंपिक खेलों में पदक जीतने का सबसे अच्छा मौका दिया।

इतिहास बनाना

उनका सेमीफाइनल मैच इराक के खिलाफ था, जिसे उन्होंने हराया और ओलंपिक इतिहास में अपने पहले फुटबॉल फाइनल में प्रवेश किया।

वे ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने से सिर्फ एक कदम दूर थे।

इतना ही नहीं बल्कि फाइनल में पहुंचकर, पैराग्वे की टीम ने सुनिश्चित किया कि वे कम से कम ओलंपिक पदक जीतेंगे।

फाइनल में, Albirroja टूर्नामेंट की सबसे बड़ी टीम, अर्जेंटीना के खिलाफ थी - जिन्होंने दक्षिण अमेरिकी क्वालीफाइंग टूर्नामेंट जीता था और इसमें कुछ महान नाम शामिल थे जैसे कि Fabián Ayala, Javier Mascherano, Javier Saviola और Carlos Tevez. इस बीच, सभी को दिग्गज Marcelo Bielsa द्वारा प्रशिक्षित किया गया था।

हालांकि, दक्षिण अमेरिकी टीम ने अर्जेंटीना के खिलाफ शानदार प्रदर्शन किया लेकिन 0-1 से मैच हार गई। Carlos Tevez के एकमात्र गोल ने अर्जेंटीना को स्वर्ण पदक मैच जीतने में मदद की।

हालांकि वे फाइनल हार गए थे, फिर भी पैराग्वे ने अपना पहला ओलंपिक पदक - जो की रजत पदक था।

मेंस फ़ुटबॉल फ़ाइनल एथेंस 2004
04:00

जीवन बदलने वाला प्रभाव

पैराग्वे के हीरोज के नाम थे: Diego Barreto, Rodrigo Romero, Emilio Martínez, Julio Manzur, Carlos Gamarra, José Devaca, Celso Esquivel, Pedro Benítez, Ernesto Cristaldo, Édgar Barreto, Diego Figueredo, Aureliano Torres, Julio César Enciso, Osvaldo Díaz, Pablo Giménez, Fredy Bareiro, Julio González Ferreira और José Cardozo.

उनमें से हर एक अपने देश के लोगों के लिए एक नायक की तरह था।

भीड़ ने भी शानदार अंदाज में खिलाड़ियों का स्वागत किया।

पैराग्वे में कोई भी नहीं भूल पाया है कि उन खिलाड़ियों ने उस दिन क्या हासिल किया था। पदक जीतने के 15 साल बाद भी, फाइनल की सालगिरह पर, उनके देश की मीडिया ने इन नायकों के बारे में कई लेख जारी किए। और टीम उस शानदार पल की यादों को साझा करने के लिए एकत्र हुई।

Carlos Gamarra ने कहा, "पैराग्वे को फिर से पदक जीतने में लंबा समय लगेगा।"

"यह एक अद्भुत ग्रुप था, हम बहुत सारी आशाओं के साथ गए और सपना बढ़ता गया। अंत में, हमने अपने फुटबॉल के लिए कुछ शानदार हासिल किया," Fredy Bareiro ने कहा।

अब क्षितिज पर टोक्यो 2020 के साथ, पैराग्वे के पास अपने शानदार अतीत को दोहराने की उम्मीद में सपने देखने का एक और मौका होगा।