सेलिंग

Photo by Laurence Griffiths/Getty Images
Photo by Laurence Griffiths/Getty Images

1964 ओलंपिक के वेन्यू Enoshima Yacht Harbour को सेलिंग का विरासत स्थल माना जाता है, इस खेल में खिलाड़ियों के पास पानी और मौसम की स्थिति के अनुकूल बदलने की कला होनी चाहिए

टोक्यो 2020 प्रतियोगिता एनीमेशन "एक मिनट, एक स्पोर्ट"

हम आपको एक मिनट में सेलिंग के नियम और हाइलाइट दिखाएंगे। चाहे आप नौकायन से परिचित हों या इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हों, "एक मिनट, एक स्पोर्ट" खेल की व्याख्या करता है। नीचे वीडियो में देखें कि ये कैसे काम करता है..

वन मिनट, वन स्पोर्ट | सेलिंग
01:28

अवलोकन

ओलंपिक खेलों में सेलिंग का पुराना इतिहास रहा है। इस खेल को 1900 के ओलंपिक खेलों में शामिल किया गया, उसके बाद 1904 ओलंपिक को छोड़कर ये खेल प्रत्येक ओलंपिक का हिस्सा रहा है। सिडनी 2000 ओलंपिक में इसका नाम याकिंग (Yachting) से सीलिंग (Sailing) में बदल दिया गया।

टोक्यो 2020 सेलिंग प्रतियोगिता में छह प्रारूप होंगे, उनमें से चार (लेजर, RS:X, 470 और 49er) प्रारुपों में पुरुष और महिलाए प्रतिस्पर्धा करेंगी। हेलसिंकी 1952 ओलंपिक में खेली गई फिन ओलंपिक कार्यक्रम में सबसे पुराना प्रारुप है, जो केवल पुरूषों के लिए होत है। इस खेल के दो प्रारूप ओलंपिक खेलों में दूसरी बार अपनी उपस्थिति दर्ज कराएंगे। 49er FX Skiff महिलाओं के लिए और नैक्रा 17 (एक कटमरैन और मिश्रित इवेंट) ने रियो 2016 में अपनी शुरुआत की थी। टोक्यो 2020 के लिए, नैक्रा 17 सबसे हल्की नाव बनी है, जो पानी की सतह पर हवा के माध्यम से चलती नज़र आएगी।

कार्यक्रम

  • RS:X - विंडसर्फर (पुरुष/महिला)
    लेजर – एक आदमी डिंग्ही (पुरुष)
    लेजर रेडियल - एक परसन डिंग्ही (महिला)
    फिन - एक परसन डिंग्ही (हैवीवेट) (पुरुष)
    470 – 2 परसन डिंग्ही (पुरुष / महिला)
    49er - स्किफ (पुरुष)
    49er FX - स्किफ (महिला)
    NACRA 17 फोमिंग - मिक्स्ड मल्टीहल

49er FX स्किफ महिलाओं के लिए और नैक्रा 17 (मिश्रित इवेंट) ने रियो 2016 में अपनी शुरुआत की थी। 

प्रत्येक इवेंट में रेस की एक श्रृंखला होती है। प्रत्येक रेस में अंकों के आदार पर एथलीट्स की पोजिशन तय होती है, जैसे - विजेता को एक अंक, दूसरे स्थान पर रहने वाले को दो अंक मिलते हैं, इसी प्रकार सभी को पोजिशन दी जाती है। अंतिम रेस को मेडल रेस कहा जाता है, जिसमें लिए अंक दोगुने दिए जाते हैं। पदक की दौड़ के बाद सबसे कम अंक वाले खिलाड़ी या टीम को विजेता घोषित किया जाता है। रेस के दौरान नौकाओं को एक त्रिकोण के आकार का कोर्स नेविगेट करना होता है, तिनों ओर से आने वाली हवाओं से टकराते हुए फिनिश लाइन के लिए बढ़ना होता है। खिलाड़ियों को एक निश्चित संख्या में पूर्व निर्धारित क्रम में रखे मार्कर बॉउस (खिलाड़ी रास्ते को निर्देशित करने वाला) को पार करना होता है।

खेल का सार

समुंद्री जल पर विजय प्राप्त करना

सेलिंग न केवल अन्य नौकाओं के खिलाफ एक रेस है, बल्कि प्रकृति के साथ एक लड़ाई है: इसमें लहरों की ऊंचाई, ज्वार की तनाव, हवा की ताकत और अन्य जलवायु फैक्टर्स से खिलाड़ियों का लड़ना होता है। इस प्रतियोगिता के सभी लेग में प्रत्येक नाव को सीधी रेखा में चलाना संभव नहीं होता। जब हेडविंड या बीम विंड के साथ नौकायन किया जाता है, तो नाव को ज़िग-ज़ैग पैटर्न में करके हवा के सहारे चलाना होता है।

कोर्स नेविगेटिंग के दौरान शाहसी बदलाव करने की आवश्यकता होती है, जिसमें चालक दल अपने शरीर की स्थिति को बदलकर अपने जहाजों को नियंत्रित करते हैं। इस खेल में पर्यावरण में परिवर्तन और अपने प्रतिद्वंदियों की रणनीति के खिलाफ लड़ने के लिए मज़बूत मानसिक शक्ति की ज़रुरत होती है।

रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 14: ग्रेट ब्रिटेन के Hannah Mills (helm) और ग्रेट ब्रिटेन की Saskia Clark 14 अगस्त 2016 को Marina da Gloria में रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 9 वें दिन महिला 470 वर्ग में प्रतिस्पर्धा करते हैं, रियो डी जनेरो, ब्राज़ील। (Clive Mason / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
रियो डी जनेरियो, ब्राजील - अगस्त 14: ग्रेट ब्रिटेन के Hannah Mills (helm) और ग्रेट ब्रिटेन की Saskia Clark 14 अगस्त 2016 को Marina da Gloria में रियो 2016 ओलंपिक खेलों के 9 वें दिन महिला 470 वर्ग में प्रतिस्पर्धा करते हैं, रियो डी जनेरो, ब्राज़ील। (Clive Mason / गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2016 Getty Images

टोक्यो 2020 खेलों के लिए आउटलुक

वैश्विक पारंपरिक खेल

ग्रेट ब्रिटेन ने सेलिंग में सबसे अधिक स्वर्ण पदक जीते हैं, जो उस देश की छवि को दर्शाने के लिए काफी है जहां ये खेल विकसित हुआ। इसके बाद अमेरिका है, जबकि दूसरे लगातार पदक जीतने वाले देशों में Norway , Spain और France शामिल हैं। हाल ही में ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड ने यूरोपीय और संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रभुत्व को तोड़ने का प्रयोस किया है।

पुरुषों की 470 – टू परसन डिंग्ही श्रेणी में दो-एथलीट 4.7 मीटर की लंबी नाव को चलाते हैं। देखा जाए तो ऑस्ट्रेलिया, यूएसए और ग्रेट ब्रिटेन ने ज्यादातर इस खेल के स्वर्ण पदक को अपनी झोली में डाला है, हालांकि क्रोएशिया ने रियो 2016 में स्वर्ण पदक पर कब्जा किया था। महिलाओं की 470 – टू परसन डिंग्ही में ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड, ग्रेट ब्रिटेन और नीदरलैंड की टीमें पिछले तीन ओलंपिक्स में स्वर्ण के लिए लड़ती नज़र आई हैं।

'The Finn' - एक पर्सन डिंग्ही का सबसे पुराना इवेंट है। ग्रेट ब्रिटेन वो देश है जिसने लगातार 5 गोल्ड मेडल जीतकर इस खेल की शुरूआत की, जबकि ऑस्ट्रेलिया ने लेजर में दो लगातार स्वर्ण पदक जीते हैं - एक पर्सन डिंग्ही में एक ऐसे नाव का प्रयोग होता है जो दुनिया भर में लोकप्रियता प्राप्त करती है। 2017 से 2020 तक नौकायन विश्व कप सीरीज़ के लिए जापान को वेन्यू के तौर पर चुना गया है। जिससे एथलीट वहां के पानी के साथ खुद का तालमेल बैठा सकें, जिसके आधार पर उन्हें प्रतियोगिता खेलनी है। इन इवेंट्स से 2020 ओलंपिक के लिए खिलाड़ियों को पुर्वानुमान मिल जाएगा कि वहां का मौसम और पानी कैसा रहने वाला है।

Trivia

डाटा उपलब्ध नहीं