रोड

Rio 2016 Athletics - Women's 100m Hurdles (Track)

एथलेटिक्स खेलों का सबसे बड़ा एकल खेल है, जिसमें प्रतियोगिताओं को ट्रैक, फ़ील्ड और रोड इवेंट में विभाजित किया गया है। अपने प्रतिद्वंदियों की तुलना में तेज़ दौड़कर आगे निकलने की बात कहना आसान है, लेकिन स्वर्ण जीतने के लिए एक खिलाड़ी के प्रदर्शन के हर पहलू को सही होना चाहिए।

टोक्यो 2020 प्रतियोगिता एनीमेशन "एक मिनट, एक स्पोर्ट"

हम आपको एक मिनट में रोड के नियम और हाइलाइट दिखाएंगे। चाहे आप रोड से परिचित हों या इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हों, "एक मिनट, एक स्पोर्ट" खेल की व्याख्या करता है। नीचे वीडियो में देखें कि ये कैसे काम करता है..

वन मिनट, वन स्पोर्ट | एथलेटिक्स ट्रैक
01:23

अवलोकन

Olympic Stadium में एथलेटिक्स ट्रैक 400 मीटर अंडाकार है। सभी ट्रैक घटनाओं के लिए फिनिश लाइन एक ही स्थान पर है, 'होम स्ट्रेट' के अंत में।

ट्रैक में तीन तरह के प्रोग्राम होते हैं: स्प्रिंट्स, मिडिल डिस्टेंस (बीच दूरी ) और लॉन्ग डिस्टेंस (लम्बी दूरी ) इन सभी में पुरुष और महिलाएं प्रतिस्पर्धा करती हैं। हर्डल्स और स्टीपलचेज़ रेस और रिले। ज़्यादातर इवेंट्स हीट्स से शुरू होते हैं, जिसमें से सबसे तेज़ एथलीट या टीम को सेमीफ़ाइनल्स में जगह मिलती है और फिर वहां से फ़ाइनल्स में प्रवेश होता है।

एक निर्धारित दूरी वाले वर्ग में दुनिया सबसे तेज़ धावक बनने के लिए आपको सिर्फ़ तेज़ दौड़ नहीं लगानी होती बल्कि पूरी तरह से फ़िट भी होना ज़रूरी होता है। साथ ही ताक़त और किस तरह से चुनौतियों का सामना करना है इसकी रणनीति बनाना भी शामिल होता है। ताकि आप किस तरह स्प्रिंट में दौड़ें और कैसे हर्डल्स और स्टीपलचेज़ को पार करें।

कम दूरी की स्प्रिंट दौड़ 100 मीटर, 200 मीटर और 400 मीटर होती हैं। ये 6 (3 पुऱुष और 3 महिला ) इवेंट में होता है जिनमें पुरुष और महिलाएं शामिल होती हैं, साथ ही साथ चार हर्डल्स इवेंट होते हैं और इसमें भी पुरुष और महिलाएं दोनों ही एथलीट प्रतिस्पर्धा करते हैं।

100 मीटर दौड़ वह होती है जिसे जीतने वाला दुनिया का सबसे तेज़ धावक कहलाता है, और ये एक ऐसा इवेंट होता है जिसका इंतज़ार सभी खेलों में सभी को रहता है। इस दूरी को 1896 गेम्स में 12 सेकंड्स में पूरा किया गया था, जबकि अमेरिका के Jim Hines दुनिया के पहले धावक थे जिन्होंने ये दौड़ 10 सेकंड्स के अंदर पूरी की थी। उन्होंने ये कारनामा मेक्सिको 1968 में किया था, और तब से ये रिकॉर्ड अमेरिका या जमैका के एथलीट के ही पास रहता आया है।

मौजूदा वक़्त में ये विश्व रिकॉर्ड 9.58 सेकंड्स का है जो इतिहास के सबसे सर्वश्रेष्ठ धावक कहे जमैका के Usain Bolt नाम है। Bolt ने 2009 में हुए IAAF विश्व चैंपियनशिप में ये रिकॉर्ड अपने नाम किया था। कोई भी एथलीट जो 10 सेकंड्स के अंदर इस दौड़ को पूरा करता है, वह एक सेकंड में 10 मीटर दौड़ लगाने में सक्षम होता है।

कार्यक्रम

  • -100 मीटर (पुरुष/महिला) 
  • -200 मीटर (पुरुष/महिला) 
  • -400 मीटर (पुरुष/महिला) 
  • -800 मीटर (पुरुष/महिला) 
  • -1,500 मीटर (पुरुष/महिला) 
  • -5,000 मीटर (पुरुष/महिला) 
  • -10,000 मीटर (पुरुष/महिला) 
  • -110 मीटर हर्डल्स (पुरुष) 
  • -100 मीटर हर्डल्स (महिला) 
  • -400 मीटर हर्डल्स (पुरुष/महिला) 
  • -3,000 मीटर स्टीपलचेज़ (पुरुष/महिला) 
  • -4 x 100 मीटर रिले (पुरुष/महिला) 
  • -4 x 400 मीटर रिले (पुरुष/महिला) 
  • -4 x 400 मीटर मिश्रित रिले

खेल का सार

रणनीति और तकनीक

मिडिल और लॉन्ग डिस्टेंस दौड़ 800 मीटर से लेकर 10, 000 मीटर के बीच होती है। इसमें से सबसे छोटी दूरी में एथलीट शुरुआती 100 मीटर में अपने अपने लेन में दौड़ते हैं। जिसके बाद वह किसी भी लेन में जा सकते हैं, 1500 मीटर और उससे ज़्यादा की दूरी वाली दौड़ में एथलीट क्रेसेंट के आकार की स्टार्ट लाइन पर खड़े होते हैं जहां सभी लेन में दौड़ने के लिए एथलीट स्वतंत्र होते हैं।

बीच दूरी दौड़ में अक्सर ऐसा देखा जाता है कि आख़िरी कुछ मीटर जब बचे रहते हैं तो एथलीट बहुत तेज़ी से दौड़ लगाते हुए फ़िनिश लाइन को सबसे पहले छूना चाहते हैं। लेकिन ज़्यादा दूरी की दौड़ में ये तकनीक कभी भी काम नहीं आती है।

3000 मीटर स्टीपलचेज़ में एथलीट के सामने एक अतिरिक्त चुनौती होती है कि उन्हें बाधाओं के ऊपर से छलांग लगाते हुए दौड़ना होता है। जो ट्रैक पर पांच जगहों पर रखे होते हैं, इन बाधाओं की लंबाई 36 इंच (91.4 सेंटीमीटर) पुरुषों के लिए फ़िक्स होती है, जबकि महिलाओं के लिए 30 इंच (76.2 सेंटीमीटर) रहती है। पांच में से एक बाधा पानी की भी होती है, जिसे छलांग लगाने के लिए एक एथलीट को और भी ज़्यादा उत्साह और ताक़त की ज़रूरत होती है।

चार बाधाएं हैं: महिलाओं की 100 मीटर, पुरुषों की 110 मीटर और पुरुषों की महिलाओं की 400 मीटर। छोटी घटनाओं को एक सीधी पटरी पर चलाया जाता है, एक गोद में लंबी दौड़, सभी पर काबू पाने के लिए दस बाधाएं।

4 लोगों के रिले इवेंट में जीत सिर्फ़ रहने और सबसे तेज़ दौड़ने से ही नहीं मिलती। जिसका ताज़ा उदाहरण है रियो 2016 में पुरुष जापानी टीम की जीत, जिन्होंने तेज़ी से ज़्यादा तकनीक पर ध्यान दिया।

जहां टीमों के पास ऐसे ऐसे एथलीट थे जो 100 मीटर की दौड़ 10 सेकंड्स में पूरी करने की महारत रखते थे, वहां जापानी टीम के पास ऐसा कोई एथलीट नहीं था। लेकिन इसके बावजूद जापान की रिले टीम जमैका के बाद दूसरे स्थान पर रही थी। कैसे ? जापान ने हाथ के नीचे से बैटन पास पर ध्यान दिया, एक ऐसी तकनीक जो बेहतरीन है लेकिन उसे करना बहुत ही मुश्किल है। टीम ने इस तकनीक पर पहले ख़ूब रिसर्च किया और फिर इसे आमली जामा पहनाया।

टोक्यो 2020 में एक नया इवेंट भी शामिल किया जा रहा है, जो मिश्रित 4x400 रिले होगा। जिसमें हर टीम में दो पुरुष और दो महिला शामिल होंगी, इसे एक बेहतरीन और शानदार पहल के तौर पर देखा जा रहा है।

टोक्यो 2020 खेलों के लिए आउटलुक

प्रसिद्ध सितारे और कुछ नए नाम

नॉर्थ अमेरिका और कैरेबियाई एथलीट हमेशा से कम दूरी की दौड़ में जीत हासिल करते आए हैं। जबकि मिडिल और लॉन्ग डिस्टेंस की दौड़ में दबदबा अफ़्रीकी एथलिटों का रहा है।

ऐतिहासिक Usain Bolt के संन्यास लेने के बाद पुरुष पोडियम पर एक स्थान ख़ाली रह गया है। उन्हीं के युग के एथलीट में महिला स्टार Shelly-Ann Fraser-Pryce (जमैका) भी हैं जिन्होंने लंदन 2012 में 100 मीटर में स्वर्ण पदक हासिल किया था, तो वहीं 6 बार की गोल्ड मेडलिस्ट अमेरिका की Allyson Felix भी शामिल हैं। 

इनके साथ साथ जमैका के ऊभरते हुए धावक Elaine Thompson पर सभी की निगाहें होंगी, जिन्होंने रियो 2016 में भी 100 और 200 मीटर दौड़ में दोहरा पदक जीता था। तो वहीं दक्षिण अफ़्रीका के Wayde van Niekerk भी मौजूद रहेंगे जिन्होंने सर्वकालिक दिग्गज Michael Johnson's के 17 सालों के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए रियो 2016 में 400 मीटर में गोल्ड मेडल सिर्फ़ 24 साल की उम्र में अपने नाम किया था। 

रियो 2016 में महिलाओं की 5000 मीटर और 10000 मीटर दौड़ का सभी पदक इथोपिया और केन्या की एथलिटों के नाम रहा था। इथोपिया की Almaz Ayana ने 10 हज़ार मीटर में गोल्ड मेडल हासिल किया था और ऐसा करते हुए उन्होंने वर्ल्ड रिकॉर्ड भी तोड़ डाला था और वह भी 14 सेकंड्स के बड़े फ़ासले के साथ।

सामान्य ज्ञान


डाटा उपलब्ध नहीं