डिकैथलॉन और हेप्टाथलॉन

Photo by Cameron Spencer/Getty Images
Photo by Cameron Spencer/Getty Images

*पुरुषों की डिकैथलॉन और महिलाओं की हेप्टाथलॉन में दो दिनों तक चलने वाले कठोर परीक्षा के बाद मुख्य एथलीट्स चुने जाते हैं।  *

टोक्यो 2020 प्रतियोगिता एनीमेशन "एक मिनट, एक स्पोर्ट"

हम आपको एक मिनट में डिकैथलॉन और हेप्टाथलॉन के नियम और हाइलाइट दिखाएंगे। चाहे आप डिकैथलॉन और हेप्टाथलॉन से परिचित हों या इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हों, "एक मिनट, एक स्पोर्ट" खेल की व्याख्या करता है। नीचे वीडियो में देखें कि ये कैसे काम करता है..

वन मिनट, वन स्पोर्ट | डेकाथलॉन और हेप्टाथलॉन
01:23

अवलोकन

ग्रीस में हुए प्राचीन ओलंपिक खेलों के इस प्रारुप में सबसे बेहतरीन ऑल-राउंड एथलीट्स की खोज होती है। पांच ईवेंट वाला पेंटाथलॉन पहली बार 18वीं शताब्दी में 708 ईसा पूर्व प्राचीन ओलंपियाड के आसपास आयोजित किया गया था। इसमें लंबी कूद, डिस्कस थ्रो, भाला, स्प्रिंट और कुश्ती शामिल थे।

आधुनिक खेलों में दस-इवेंट वाला पुरुषों का डिकैथलॉन और सात-इवेंट वाला महिलाओं का हेप्टाथलॉन ( संयुक्त इवेंट्स के रूप में जाना जाता है) खेला जाता है। दोनों प्रतियोगिताओं में एथलेटिक्स के सभी स्पर्धाओं को दो दिन में कवर करने के लिए डिज़ाइन की गई हैं, जिसमें स्प्रिंट, मध्यम दूरी और लम्बी दूरी की ट्रैक रेस के साथ-साथ जंपिंग और थ्रोइंग इवेंट्स शामिल हैं। टोक्यो 1964 खेलों में महिलाओं की पेंटाथलॉन इवेंट को पहली बार शामिल किया गया था, जिसमें पांच स्पर्धा शामिल की गई थीं। Los Angeles 1984 के खेलों में भाला फेंक और 800 मीटर रेस के साथ ये हेप्टाथलॉन बन गया।

ये आयोजन प्रसिद्ध ओलंपिक भावना का भी उदाहरण है। जहां एथलीटों के बीच साझा किया गया अनुभव एकजुटता के बंधन को दर्शाता है, जो जीत और हार से परे होता है।

पुरुष डिकैथलॉन

पहले दिन : 100 मीटर रेस, लौंग जंप, शॉट पुट, हाई जंप, 400 मीटर रेस

दूसरे दिन : 110 मीटर हर्डल रेस, डिस्कस थ्रो, पोल वॉल्ट, जेवेलिन थ्रो, 1,500 मीटर रेस

महिला हेप्टाथलॉन
पहले दिन: 100 मीटर हर्डल रेस, हाई जंप, शॉट पुट, 200 मीटर रेस
दूसरे दिन: लौंग जंप, जेवेलिन थ्रो, 800 मीटर रेस

प्रतियोगी प्रत्येक स्पर्धा में अपने प्रदर्शन अनुसार अंक अर्जित करते हैं, स्कोरिंग टेबल ये बताता है कि एथलीट के पास कितने अंक हैं। जो सबसे अधिक अंक अर्जित करता है वो वीजेता होता है।

कार्यक्रम

  • डिकैथलॉन (पुरुष)
  • डिकैथलॉन (महिला)

खेल का सार

शाररिक और दिमागी चुनौती

क्योंकि इस तरह की स्पर्धाओं में अलग-अलग चुनौतिया होती हैं, उन सभी में से खुद को सबसे ऊपर स्थापित करना बहुत ही मुश्किल काम है। एथलीटों को रणनीतिक रूप से इवेंट्स को खेलना चाहिए। इस खेल में कुछ एथलीट पूरे इवेंट में उच्च स्तर के प्रदर्शन को बनाए रखने की कोशिश करते हैं, तो कुछ विषेश स्पर्धाओं अपना बेहतर प्रदर्शन करते हैं। दुनिया के कई प्रमुख डिकैथलिट्स और हेप्टैथलिट्स एक या अधिक स्पर्धाओं में एक विशिष्ट स्तर पर व्यक्तिगत रूप से प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम हैं।

दोनों प्रतियोगिताओं में लंबी ट्रेक रेस एक विशेष स्पर्धा है। डिकैथलॉन के लिए 1500 मीटर और हेप्टाथलॉन के लिए 800 मीटर। ये केवल इसलिए नहीं है कि वे दो दिन के कार्यक्रम को समाप्त कर फाइनल स्टैंडिंग पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सके, बल्कि इसलिए क्योंकि वो एक साथ एक ही रूटीन को फॉलो करते हैं। जहां फिनिश लाइन को पार करने पर मुस्कुराहट, हाथ मिलाने, गले लगाने और, स्टेडियम में दर्शकों की जोरदार तालियां और एथलीटों के नाम की गूंज देखने को मिलती है।

टोक्यो 2020 खेलों के लिए आउटलुक

टोक्यो में मल्टी-इवेंट का महाराज बनने की लड़ाई

डिकैथलॉन में यूरोपीय और अमेरिकी एथलीट लगातार शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। USA के Ashton Eaton लंदन 2012 और रियो 2016 सबसे आगे रहे और 2017 में विश्व और संयुक्त ओलंपिक रिकॉर्ड धारक के रूप में संन्यास ले लिया। 9,000 से अधिक के अंक प्राप्त करने वाले एथलिट्स में से एक है जो बहुत कम पुरुष एथलिट्स ऐसा कारनामा कर पाते हैं। ।

हेप्टाथलॉन में 7,000 से अधिक के कुल अंक को असाधारण माना जाता है। Los Angeles 1984 में रजत पदक हासिल करने के बाद अमेरिका के Jackie Joyner-Kersee ने सियोल 1988 और बार्सिलोना 1992 में स्वर्ण पदक जीता। संन्यास लेने से पहले उन्होंने 6 बेहतरीन टाइम का रिकॉर्ड बनाया, जिसमें पहली बार ओलंपिक का खिताब जितते वक्त बनाया गया 7291 का स्कोर भी शामिल था। Joyner-Kersee विश्व स्तर की लौंग जम्पर भी थीं, उन्होंने सियोल 1988 में गोल्ड जीतने के साथ साथ बार्सिलोना 1992 और अटलांटा 1996 में कांस्य पदक अपने नाम किया था।

लंदन 2012 में जीत दर्ज करने वाली ग्रेट ब्रिटेन की Jessica Ennis-Hill(Open in a new window), सहित यूरोपीय हेप्टाथलिट्स रैंकिंग में हावी हैं। बेल्जियम के Nafissatou Thiam एथलेटिक्स में सबसे रोमांचक प्रतिभाओं में से एक है, जिन्होंने रियो 2016 में स्वर्ण पदक जीता था।

सामान्य ज्ञान


डाटा उपलब्ध नहीं