एकलौता ओलंपिक पदक - जब Obadele Thompson ने किया बारबाडोस का नाम ऊंचा

First medal: Barbados 

ओलंपिक मेडल जीतना हजारों एथलीट्स के लिए एक लक्ष्य है, लेकिन इन 24 देशों के लिए यह एक सपना है जो केवल एक बार ही सच हुआ है। Tokyo2020.org उन शानदार क्षणों पर एक नज़र डालता है।

बैकग्राउंड

बारबाडोस - वेस्टइंडीज में एक अपेक्षाकृत छोटा द्वीप, रोम 1960 के बाद से ओलंपिक खेलों का एक हिस्सा रहा है, हालांकि उन्होंने 1980 खेलों में भाग लेने का विकल्प नहीं चुना था।

लेकिन किसी को नहीं पता था कि ओलंपिक पदक जीतने में उन्हें चार दशक लग जाएंगे।

Obadele Thompson वह व्यक्ति थे जिन्होंने 2000 में सिडनी खेलों में देश का पहला ओलंपिक पदक जीता था।

ओलंपिक खेलों में पदक जीतने से पहले भी, Thompson एक प्रसिद्ध स्टार थे, जिन्होंने खुद के लिए नाम कमाया था।

उन्होंने वार्षिक Carribean CARIFTA Games में पांच स्वर्ण पदक जीते और 1994 में 100 मीटर में एक नया जूनियर विश्व रिकॉर्ड भी तोड़ा। 1996 में, उन्होंने NCAA (US Collegiate NCAA) इनडोर 200 मीटर जीता - जो उन्होंने 20.36 में हासिल किया।

उन्होंने 1996 में अटलांटा खेलों में ओलंपिक की शुरुआत की और प्रतियोगिता शुरू होने से पहले कमर और हैमस्ट्रिंग की चोटों से पीड़ित होने के बावजूद वह चौथे स्थान पर रहे।

इतिहास बनाना

Thompson के लिए - सिडनी 2000, 100 मीटर फाइनल वह रात थी जिसने उनके ट्रैक और फील्ड करियर को परिभाषित किया।

और 100,000 लोगों के सामने जो सिडनी ओलंपिक स्टेडियम में उपस्थित थे, और 11 मिलियन लोग जो इसे दुनियाभर में अपने घरों से देख रहे थे - 22 वर्षीय Thompson यह साबित करना चाहते थे कि वह दुनिया में सबसे अच्छे स्प्रिंटर्स में से एक क्यों हैं।

हालांकि, सिडनी में ओलंपिक खेलों में प्रवेश करने से ठीक पहले, Thompson अपने इलाज के लिए अमेरिका गए थे। मोनाको गोल्ड लीग के दौरान, जहां वह 100 मीटर में दूसरे स्थान पर रहे, बारबाडोस के एथलीट की पैर की अंगुली घायल हो गई थी।

इसके बावजूद, उन्होंने सिडनी में वास्तव में अच्छा प्रदर्शन किया। Thompson हीट्स में पहले स्थान पर रहे, और सेमीफइनल में, वह 10.15 के समय के साथ दूसरे स्थान पर रहे।

हालांकि, फाइनल में, Thompson को Greene सहित सर्वश्रेष्ठ एथलीट्स का सामना करना पड़ा - जो वर्तमान विश्व रिकॉर्ड धारक और डबल विश्व चैंपियन थे।

दौड़ को फिर से शुरू किया गया था क्यूंकि स्प्रिंटर्स में से एक ने पहले एक फॉल्स शुरुआत की थी।

दूसरी शुरुआत पर, सभी बहुत तेज़ी से भागे। Thompson ने भी अच्छी शुरुआत की और दौड़ के दौरान गति भी प्राप्त की, लेकिन पहला स्थान हासिल नहीं कर सके।

Greene पहले स्थान पर रहे जबकि त्रिनिदाद और टोबैगो के Ato Boldon दूसरे स्थान पर रहे। हालांकि, Thompson तीसरे स्थान पर रहे, लेकिन महत्वपूर्ण रूप से उन्होंने कांस्य पदक जीता - ओलंपिक खेलों में बारबाडोस के लिए पहला ओलंपिक पदक।

इतना ही नहीं, बल्कि Thompson 200 मीटर में भी चौथे स्थान पर रहे।

जीवन बदलने वाला प्रभाव

Thompson की कांस्य पदक जीत ने उन्हें बहुत प्रसिद्ध बना दिया। जब वह घर पहुंचे, तो एक हजार से अधिक लोग उनके स्वागत के लिए आए। खेल में उनके योगदान के लिए, Thompson को बारबाडोस सरकार द्वारा एम्बेसडर ऑफ़ स्पेशल एन्वॉय फॉर द युथ के खिताब से नवाजा गया।

जहां उन्होंने Reuters से कहा, "घरेलू धरती पर वापस आना वास्तव में सुखद लगता है क्यूंकि मैंने मूल रूप से वापसी की योजना बनाई थी, वापस आकर में बहुत खुश हूं।"

सिडनी 2000 खेलों के बाद, Thompson ने एथेंस 2004 में भी भाग लिया था, लेकिन चोटों के कारण, वह केवल 100 मीटर के फाइनल में 10.10 सेकंड के साथ सातवें स्थान पर रहे।

अपने पूरे एथलेटिक करियर में चोटों से परेशान, Thompson ने 2009 में प्रतियोगिता से रिटायर होने का फैसला किया।

बाद में, उन्होंने इकोनॉमिक्स और मार्केटिंग में डिग्री हासिल की और टेक्सास विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री भी प्राप्त की। वह अब एक प्रेरक वक्ता और एक व्यक्तिगत प्रदर्शन सलाहकार हैं।

लेकिन खेल हमेशा उनकी विरासत का हिस्सा होगा और वह बारबाडियन खेलों को बढ़ावा देना जारी रखेंगे।

2019 के बारबाडोस सेकेंडरी स्कूलों के एथलेटिक चैंपियनशिप में नेशनल न्यूज के साथ एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा, "बारबाडोस में हमारे पास एथलीट हैं, उन्हें बस सही प्रणाली और सही समर्थन की आवश्यकता है ताकि वह राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय चरणों में अच्छा प्रदर्शन कर सकें।"

Obadele Thompson ने बारबाडोस के लिए पहली बार सिडनी 2000 में ओलंपिक पदक जीता |
00:36