Koji MurofushiI - 'अपने अवसरों को मत गवाओ, ज़िन्दगी में चुनौती लेना सीखो'

जापान के Koji Murofushi ने लंदन 2012 ओलंपिक खेलों में मेंस हैमर थ्रो में कांस्य पदक जीता। (Streeter Lecka/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
जापान के Koji Murofushi ने लंदन 2012 ओलंपिक खेलों में मेंस हैमर थ्रो में कांस्य पदक जीता। (Streeter Lecka/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

Koji MurofushiI पुरुषों के हैमर थ्रो में स्वर्ण पदक विजेता है। वह इस स्पर्धा में (ओलंपिक खेलों एथेंस 2004 के दौरान) जीतने वाले जापान के पहले एथलीट बने और उन्होंने 37 वर्ष की आयु में लंदन 2012 में भी कांस्य पदक जीता। Koji वर्तमान में ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों (टोक्यो 2020) की टोक्यो आयोजन समिति के खेल निदेशक के रूप में काम कर रहे हैं और इसके बावजूद, वह टोक्यो मेडिकल और डेंटल यूनिवर्सिटी में एक प्रोफेसर के रूप में युवा एथलीट्स को विकसित करने में भी मदद करते हैं।

Koji जापान में एक लीजेंड हैं और उनके शब्द वास्तव में हर किसी को इस कठिन समय से लड़ने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

जीवन में नई चुनौतियों को खोजें

Koji एक ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता हैं, उन्होंने विश्व चैम्पियनशिप का खिताब जीता था और जापान एथलेटिक्स चैंपियनशिप में लगातार 20 जीत हासिल की थी। 2003 में 84.86 मीटर का उनका सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड अभी भी इतिहास में चौथे सबसे लंबे हैमर थ्रो के रूप में दर्ज है।

Koji को उनके पिता Shigenobu ने ट्रैन किया था, जो उनके कोच भी थे। उनके पास जो प्राकृतिक प्रतिभा थी, उसके साथ मिलकर Koji अंतरराष्ट्रीय मंच पर इतना अच्छा प्रदर्शन कर सके। इसके अलावा, जापानी एथलीट एक अकादमिक रि-सर्चेर (बायोमैकेनिक्स में PhD के साथ) भी हैं।

जब उन्होंने 2012 में लंदन खेलों में कांस्य पदक जीता था, तब Koji 38 साल के थे। उन्होंने 41 साल की उम्र तक शीर्ष स्तर पर प्रतिस्पर्धा की।

हैमर थ्रो एक इस तरह का खेल है जिसमें बहुत अधिक शक्ति और ताकत की जरूरत होती है। इस खेल में, पुरुषों के लिए मेटल की गेंद का वजन लगभग 7.26 किलोग्राम होता है जिसे 80 मीटर की दुरी तक फेंकना होता है और यह 29 मीटर/सेकंड की गति से ट्रेवल करती है। तो आप कल्पना कर सकते हैं कि मेटल की गेंद को फेंकने के लिए कितनी ताकत की आवश्यकता होती होगी। हालांकि उस उम्र में यह Koji के लिए आसान नहीं था, फिर भी उन्होंने ऐसा किया।

तो उन्होंने यह कैसे किया? Koji ने टोक्यो 2020 से उस क्षण के बारे में बात की, जो उनके करियर का अहम मोड़ बन गया।

"एथेंस और बीजिंग ओलंपिक खेलों में प्रतिस्पर्धा के बाद, जापान एथलेटिक्स चैंपियनशिप के अलावा, मैंने कम से कम एक साल तक किसी भी और टूर्नामेंट में भाग नहीं लिया। जब तक मैं 30 साल का हुआ, तब तक हैमर थ्रो ने मेरे शरीर पर टोल ले लिया था। इसलिए मुझे कुछ आराम की ज़रूरत थी, मेरे शरीर को कुछ आराम की ज़रूरत थी। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि मैंने कुछ नहीं किया, मैंने अपना समय किसी और चीज़ में लगाया।"

“मैंने जो चुनौतियाँ लीं, उससे मुझे नई प्रशिक्षण विधियों को खोजने और विकसित करने में मदद मिली। मेरे करियर को अगले कदम पर ले जाने के मामले में यह ब्रेक बहुत सार्थक साबित हुआ।”

जापान के Koji Murofushi ने एथेंस 2004 ओलंपिक खेलों में पुरुषों के हैमर थ्रो फ़ाइनल में प्रतिस्पर्धा की। (Michael Steele/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
जापान के Koji Murofushi ने एथेंस 2004 ओलंपिक खेलों में पुरुषों के हैमर थ्रो फ़ाइनल में प्रतिस्पर्धा की। (Michael Steele/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2004 Getty Images

चीजों को सही क्रम में करना ही सुधार की कुंजी है

इस बीच, Koji ने रोड साइकिलिंग, लॉन्ग-डिस्टेंस रनिंग और तैराकी जैसे अन्य खेल खेले और वहाँ पर अपनी मांसपेशियों को बेहतर बनाने की कोशिश की। साथ ही, उन्होंने कुछ नई तरकीबें सीखीं जैसे की नेट कास्टिंग का अध्ययन। उन्होंने यह भी सीखा कि कैसे निंजा उपकरण जैसे कि makibishi (caltrops) और shuriken (throwing stars) का हैमर थ्रोइंग के टाइम उपयोग करना है।

“सब कुछ एक खोज थी। मूल बातें सभी चीजों में मौजूद हैं। उदाहरण के लिए, तैराकी में भी - यदि आपके पास तैराकी के लिए सही पोजीशन और पोश्टर है, तो आप सुधार कर सकते हैं। यदि आप मूल बातें समझ लेते हैं तो आप तेजी से सुधार कर सकते हैं। यह एक आदत है। मुझे याद दिलाया गया कि सही तरीके से ट्रेनिंग करना कितना महत्वपूर्ण है।”

रूढ़ियों से छुटकारा पाने के लिए एक व्यापक परिप्रेक्ष्य प्राप्त करें

यदि आप एक अनुशासन में महारत हासिल कर सकते हैं, तो यह बहुत अच्छा है। हालांकि जीवन मैं सिर्फ एक ही चीज करने से आपकी सोच नहीं बढ़ेगी, हां यह नैरो-माइंडेड जरूर बन सकता है। इस तरह से, Koji का जीवन भी हैमर थ्रो के इर्द-गिर्द घूमता रहा, लेकिन अन्य चीजों में अपना समय लगाने से उनका नजरिया बदल गया।

"काम पर भी, अगर आप हर दिन एक ही काम करते रहते हैं, तो यह एक रूटीन बन जाता है। कुछ नया नहीं होता है। आप कुछ भी नया नहीं सोचते हैं, आप बस उसी चीज़ को उसी तरीके से करने के बारे में सोचते हैं। आपको अलग तरह से सोचना होगा, जैसे कि यह काम अलग तरीके से कैसे किया जा सकता है। मैंने इसे सीखा क्योंकि मैं लंबे समय से प्रतिस्पर्धा कर रहा हूं। जब चीजें जीवन में आगे नहीं बढ़ रहीं हो, तो कोशिश करें कुछ और करने की, अपने रूटीन को तोड़ें। मेरे मामले में, मैंने हैमर थ्रोइंग से एक साल का ब्रेक लिया था लेकिन मैंने अपनी ऊर्जा का उपयोग कहीं और किया। मैंने अलग-अलग चुनौतियां का सामना किया।”

यदि आप हर बार सिर्फ एक ही काम कर रहे हैं, तो आपको रचनात्मक विचार नहीं आएंगे, Koji का दावा है।
"यदि आप हर बार सिर्फ एक ही काम कर रहे हैं, तो आपको रचनात्मक विचार नहीं आएंगे," Koji का दावा है।
Tokyo 2020 / Shugo TAKEMI

अपनी कमजोरियों को दूर करने के लिए अपने आप का निष्पक्ष रूप से विश्लेषण करें

उसी समय जब वह प्रतिस्पर्धा कर रहे थे, Koji ने चुकोओ यूनिवर्सिटी ग्रेजुएट स्कूल में पढ़ाई की और 2007 में अपनी डॉक्टरेट प्राप्त की। उन्होंने खेल बायोमैकेनिक्स में अकादमिक रिसर्च किया और इससे उन्हें अपने खेल और कौशल को निष्पक्ष रूप से देखने की अनुमति मिली।

"उस समय, बहुत कम सक्रिय एथलीट थे जो ग्रेजुएट स्कूल जाते थे। मेरे लिए अपने खेल पर ध्यान केंद्रित करना बहुत मुश्किल था, और आपको रिसर्च और पढ़ाई के लिए अपने ट्रेनिंग के समय में से कटौती करनी होती थी। लेकिन आप कभी नहीं जानते कि एक एथलीट के रूप में आपका करियर कब खत्म होने वाला है, इसलिए मैंने दोनों को आगे बढ़ाने का फैसला किया। एक एथलीट के रूप में, आप अच्छे दिन और बुरे दिन दोनों देखेंगे। जब मेरा दिन खराब होता था, तो मैं वापस जाता था और अपनी रिसर्च पर काम करता था। आखिरकार, मेरी स्थिति बेहतर हो जाती थी और फिर मैं ट्रेनिंग पर वापस लौटता था। एक ऑब्जेक्टिव दृष्टिकोण रखने का मतलब है कि आपको कभी-कभी अपने नकारात्मक पक्ष को भी देखना होगा। लेकिन अगर आप बदलना चाहते हैं, तो आपको अपनी कमजोरियों को दूर करना होगा। अपने आप को पूरी तरह से विश्लेषण करना महत्वपूर्ण है, इसलिए ग्रेड स्कूल में मेरी रिसर्च बेहद मददगार थी।"

अपने भविष्य के लिए हमेशा कई सारे विकल्प रखें

Koji इस बात पर भी जोर देते हैं कि आप अपने समय का किस तरह उपयोग करते हैं यह भी बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। COVID-19 के प्रकोप के कारण, कंपनियां रिमोट-वर्क को बढ़ावा दे रही हैं और इस प्रवृत्ति से हमारी जीवन शैली और हमारे काम करने के तरीके में बदलाव की उम्मीद है। हमें अपने समय का प्रभावी उपयोग कैसे करना चाहिए?

"मैं हमेशा युवा एथलीट्स को यह बताता हूं, "आप जीवन भर सिर्फ खेल नहीं खेलेंगे। कोई नहीं जानता कि दस साल बाद क्या होगा। दुनिया की स्थिति कभी भी बदल सकती है जैसे अभी बदल गई है। अभी से दस साल बाद हमारे पास कम से कम तीन विकल्प होने चाहिए न की एक। अपनी क्षमता का एहसास करने में समय लगता है, यह एक या दो साल में नहीं होता। जब आप थोड़े जवान होते हैं, तो आप नहीं जानते कि जीवन में कौन सा रास्ता अपनाना है। उस तरह की स्थिति में, अधिक विकल्प रखना बेहतर है। इसलिए जीवन में अपने अवसरों को बर्बाद मत करो, कोशिश करो और नई चुनौतियां लेना सीखो।

जापान के Koji Murofushi ने लंदन 2012 ओलंपिक खेलों के 9वें दिन पुरुष हैमर थ्रो फ़ाइनल में प्रतिस्पर्धा की।
जापान के Koji Murofushi ने लंदन 2012 ओलंपिक खेलों के 9वें दिन पुरुष हैमर थ्रो फ़ाइनल में प्रतिस्पर्धा की।
Reinhard Krause - IOPP Pool /Getty Images

स्थिति की मांग होने पर रचनात्मक होना महत्वपूर्ण है

Koji ने ग्रेजुएट स्कूल से अपनी डॉक्टरेट की पढ़ाई पूरी की और बाद में यूनिवर्सिटी में एक प्रोफेसर लग गए। वह जानते थे कि किसी दिन उन्हें प्रतिस्पर्धी खेल से संन्यास लेना होगा और फिर उन्हें कुछ और करने की आवश्यकता होगी। Koji ने कहा, "स्थिति की मांग होने पर रचनात्मक होना महत्वपूर्ण है।"

“जब आपका समय सीमित होता है, तो आप कुशल होने की कोशिश करते हैं और चीजों को पाने के सबसे प्रभावी तरीके के बारे में सोचते हैं। अपने हाथों में बहुत समय होना कोई बहुत अच्छी बात नहीं। वही आपके पर्यावरण के लिए जाता है। यदि आप एक ही वातावरण में लंबे समय तक प्रशिक्षण और प्रतिस्पर्धा करते रहेंगे तो आप बेहतर नहीं होंगे। रचनात्मक होकर, आप बढ़ सकते हैं और आप सुधार कर सकते हैं।

यदि आप अपना दिमाग इसमें लगाते हैं और कड़ी मेहनत करते हैं, तो आपको रास्ता मिल जाएगा

टोक्यो 2020 के खेल निदेशक के रूप में, Koji ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों टोक्यो 2020 पर कड़ी मेहनत कर रहे हैं - जो इस साल COVID-19 के कारण एक साल के लिए स्थगित कर दिए गए थे।

"मुझे लगता है कि प्रत्येक कार्य में अपनी स्पिरिट डालना और सर्वोत्तम प्रयास करना महत्वपूर्ण है। आप आगे बढ़ेंगे और रास्ता खोजेंगे। जब मैं सक्रिय रूप से प्रतिस्पर्धा कर रहा था तब यह मेरा उद्देश्य था, और मैं अभी भी इस मार्गदर्शक सिद्धांत का पालन करता हूं। ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों को कभी स्थगित नहीं किया गया है, लेकिन मुझे यकीन है कि हम कई लोगों को उम्मीद दे सकते हैं अगर हम अगले साल सफलतापूर्वक खेलों की मेजबानी करते हैं। और मुझे आशा है कि मैं इसमें किसी भी तरह से योगदान कर सकता हूं।"

टोक्यो 2020 के खेल निदेशक के रूप में, Koji अगले साल खेलों की सफलतापूर्वक मेजबानी करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।
टोक्यो 2020 के खेल निदेशक के रूप में, Koji अगले साल खेलों की सफलतापूर्वक मेजबानी करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।
Tokyo 2020 / Shugo TAKEMI