अतीत को जाने - Matthew Emmons का अद्भुत ओलंपिक सफर

2012 लंदन ओलिंपिक खेलों के तीसरे दिन अमरीका के Matthew Emmons मेंस 10 मी एयर राइफल प्रतियोगिता में हिस्सा लेते हुए। (Lars Baron/गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)
2012 लंदन ओलिंपिक खेलों के तीसरे दिन अमरीका के Matthew Emmons मेंस 10 मी एयर राइफल प्रतियोगिता में हिस्सा लेते हुए। (Lars Baron/गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)

ओलिंपिक खेलों की कहानियां महान खिलाडियों और उनके कीर्तिमानों के बारे में हैं पर कुछ ऐसी कहानियां भी होती हैं जो आपको भावुक या हैरतअंगेज कर देती हैं। हम लाएं हैं ऐसी कुछ कहानियां जो आपको न केवल हसाएंगी बल्कि आपको भावुक भी कर देंगी। इस सप्ताह की कहानी एक ऐसे अमरीकी शूटर और स्वर्ण पदक विजेता के बारे में है जिनको हमेशा उन पदकों के लिए याद किया जायेगा जो वह नहीं जीत पाए।  

बैकग्राउंड

सन 1981 में जन्मे, Matthew Emmons अमरीका के इतिहास में सबसे कुशल निशानेबाज़ों में से एक हैं। अपने 23 साल के करियर में Emmons ने अनेक पदक और ख़िताब जीते हैं, जिनमे तीन ओलिंपिक पदक (एक स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य) और 2 विश्व प्रतियोगिता के पदक शामिल हैं।  

लेकिन फिर भी Emmons को शायद उनकी विफलताओं के लिए याद किया जायेगा। लगातार तीन ओलंपिक फाइनल में अद्भुत प्रदर्शन दिखने के बाद उन्होंने मज़ाक में एक बार कहा था की शायद वह अमरीका से ज़्यादा चीन में प्रसिद्ध होंगे। 

लेकिन उन्होंने ऐसा क्यों कहा?

ATHENS, GREECE - AUGUST 20:    Schiessen: Olympische Spiele Athen 2004, Athen; Kleinkaliber liegend 50m / Maenner / Sieger; Matthew EMMONS / USA - Gold 20.08.04.  (Photo by Friedemann Vogel/Bongarts/Getty Images)
ATHENS, GREECE - AUGUST 20: Schiessen: Olympische Spiele Athen 2004, Athen; Kleinkaliber liegend 50m / Maenner / Sieger; Matthew EMMONS / USA - Gold 20.08.04. (Photo by Friedemann Vogel/Bongarts/Getty Images)
Bongarts

फाइनल प्रतियोगिता

साल 2004 में 23 वर्षीय ओलंपिक खेलों में पहली बार निशानेबाज़ी के मैदान में उतरे थे और उनकी शुरुआत भी अच्छी रही। जब उनकी खुद की राइफल ख़राब हो गई तो उन्होंने अपने एक साथी की राइफल से 50 मी राइफल प्रोन प्रतियोगिता में स्वर्ण जीता। उस अनुभव के बारे में बात करते हुए उन्होंने अलास्का के कैपिटल सिटी ऑनलाइन अख़बार को 2016 में बताया, 'मुझे आज तक नहीं पता की मेरी राइफल किसने ख़राब करी पर मिल कर ज़रूर उनको धन्यवाद देना चाहूंगा।'

इस अभूतपूर्व अनुभव के साथ शायद Emmons का सारा सौभाग्य समाप्त हो गया। 

स्वर्ण पदक जीतने के ठीक 2 दिन बाद, Emmons फिर से एक फाइनल में भाग ले रहे थे और मेंस 50 मी राइफल थ्री- पोजीशन के अंतिम चरन में उन्होंने बहुत अच्छी बढ़त बना ली थी। आखिरी निशाना लेने से पहले Emmons के पास तीन अंकों की बढ़त थी पर उसी समय कुछ अनोखा हुआ। 

Emmons ने अपने आखरी निशाने में बिलकुल चूक गए और एक प्रतिद्वंदी के लक्ष्य पर लगा बैठे। न केवल उन्होंने तीन अंकों की बढ़त खो दी, वह आठवे स्थान पर गिर गए और चीन के JIA Zhanbo अंत में विजेता बन गए। सबसे बड़ी हैरानी की बात यह है की वह दुर्भाग्यपूर्ण भूल Emmons की ओलंपिक्स सफर की सिर्फ पहली थी।

2008 बीजिंग खेलों में Emmons फिर से 50 मी राइफल थ्री-पोजीशन के फाइनल में पहुँच गए और उससे पहले वह एक स्वर्ण पदक जीत चुके थे। इतिहास ने अपने आपको दोहराया और नौवें निशाने के बाद उन्होंने पहले स्थान पर रहते हुए 4 अंकों की बढ़त बना ली थी। Emmons को स्वर्ण पदक जीतने के लिए आखरी निशाने में सिर्फ 6.7 अंक की ज़रूरत थी और उनके जैसे प्रतिभाशाली निशानेबाज़ के लिए यह काम आसान था। लेकिन सबको चौंकाते हुए, Emmons ने गलती से ट्रिगर दबा दिया और अंत में स्वर्ण पदक चीन के QIU Jian के गले में पहनाया गया।

दो बार स्वर्ण के इतने करीब आने के बाद भी उन्हें हारने से Emmons पर बहुत दबाव बन गया और उनको काफी मानसिक तनाव भी हुआ। इस वजह से उन्हें मनोवैज्ञानिकों की सलाह भी लेनी पड़ी। 

अगर Emmons को तब लगा होगा की उनका दुर्भाग्य अब समाप्त हो गया तो वह गलत थे।

2012 लंदन ओलिंपिक खेलों में Emmons तीसरी बार 50 मी राइफल थ्री-पोजीशन के फाइनल में पहुँच गए और उन्होंने फिर से नौवें निशाने के बाद पहले स्थान पर एक अंक की बढ़त बना ली थी। लेकिन फिर एक बार उन्होंने अंतिम निशाने में चूक कर दी और सिर्फ 7.6 बनाए जिसकी वजह से उन्हें स्वर्ण की जगह कांस्य हासिल हुआ।

अमरीका के Matthew Emmons (बाएं) को उनकी पत्नी Katerina Emmons 2008 बीजिंग ओलिंपिक खेलों में मेंस 50 मी राइफल प्रोन प्रतिगयोगिता में रजत जीतने के बाद बधाई देती हुई।
अमरीका के Matthew Emmons (बाएं) को उनकी पत्नी Katerina Emmons 2008 बीजिंग ओलिंपिक खेलों में मेंस 50 मी राइफल प्रोन प्रतिगयोगिता में रजत जीतने के बाद बधाई देती हुई।
2008 Getty Images

परिणाम

Emmons ने रियो 2016 खेलों में भी भाग लिया पर उनका प्रदर्शन बेहद ख़राब रहा और 50 मी राइफल थ्री-पोजीशन में वह केवल उन्नीसवां स्थान प्राप्त कर पाए और पहले राउंड में ही बाहर हो गए। ओलंपिक खेलों के नतीजे शायद Emmons के हक़ में न गए हों पर उन्हें इसी प्रतियोगिता के कारण एक परिवार हासिल हुआ। 

2004 में स्वर्ण हारने के बाद Emmons प्रतियोगिता स्थल के एक कोने में बैठे थे और अपने दुख में लीन थे तभी उन्हें किसी ने कंधे पर हाथ रख पुकारा। चेक रिपब्लिक की निशानेबाज़, Katerina Kurkova (जो अब उनकी पत्नी हैं), और उनके पिता ने Emmons को सान्तवना दी और सौभाग्य के लिए एक चेन दी। उसी समय शायद Emmons का जीवन बदल गया और 2007 दोनों निशानेबाज़ों ने शादी कर ली।

अपने सन्यास की घोषणा Emmons ने 11 सितम्बर 2019 को इंस्टाग्राम पर करी और बताया की मार्च 2020 के बाद वह निशानेबाज़ी नहीं करेंगे। अब जब Emmons अपने सफर के बारे में सोचते हैं तो ओलिंपिक खेलों पर मिली निराशाएं उनके लिए नकारात्मक अनुभव नहीं हैं। उन्होंने यह बात USA टुडे को बताई और कहा, 'अगर मैंने वह गलती न करी होती तो शायद मेरी शादी Katy से नहीं होती। सारी विफलताएं और निराशाएं मेरे जीवन में एक सीख की तरह है और मेरा करियर बहुत ही संतोषजनक रहा है।'

View this post on Instagram

The time has come to announce my retirement from sport shooting as an athlete. I actually decided in March, but only now was I able to get my family together and do it the way I wanted. The picture here not only shows all of my international medals, but more importantly, my family. These are the people who helped make it happen. Thanks mom and dad for, well, everything! I can never thank you enough for your guidance, encouragement, teaching me good morals and habits, support, and love. I hope I can be half the parent to my kids as you were to me. My wife, Katy, and my children - for always believing in me, encouraging me, and certainly giving me some good advice along the way. I also must thank a ton of other people. Shooting is mainly an individual sport, but success does not come alone. I may miss some people, but here’s the short list: my coaches: Paul Adamowski, Ed Shea, Randy Pitney, Dave Johnson, and Dan Durben. All of them helped shape me as an athlete and person. Thank you! My teammates and competitors. It was fun and you all helped make it that way. My sponsors: Anschutz, Bleiker, Pardini, Walther, Eley, RWS, Champion, AHG, Kustermann, Hitex, Shaklee, Salon Samui, among others. USA Shooting and the USOPC. Without those two organizations, none of this would have happened. The University Of Alaska Fairbanks. Drs. Hana Grégrová, Yuman Fong, and Ashok Shaha - these three saved my life and helped me get back to competing when I had thyroid cancer. Heather Linden and the staff at Sports Med in Colorado Springs - they put me back together after some serious physical issues before and after London. Because of them, my career not only continued, but got even better. Per Sandberg - my best friend. You’ve always been there in every situation and you’ve had such a positive impact on my life. The world needs more people like you. Lastly, thanks to all the fans out there! So why retire a year before the next Olympics? Simply put, it’s time. Sure, there’s logic to it, but it’s also a feeling. It’s time to move on to other things, to exercise other talents and grow as a person. I’m ready and excited for it. I had a great run. I shot for 23 years, 22 of which were

A post shared by Matt Emmons (@mattemmonsusa) on