इज़राइल की बेसबॉल टीम: सपने देखने से ओलंपियन बनने तक का अनोखा सफर

इज़राइल की टीम ओलंपिक खेलों टोक्यो 2020 के लिए अपनी योग्यता हासिल करने के बाद जश्न मनाती है
इज़राइल की टीम ओलंपिक खेलों टोक्यो 2020 के लिए अपनी योग्यता हासिल करने के बाद जश्न मनाती है

अक्सर भारी हिटर्स की इस दुनिया में अंडरडॉग्स के रूप में जाने जाते, इज़राइल की यह बेसबॉल टीम अगले साल के ओलंपिक खेलों के लिए तैयार है।

जब 2018 में Peter Kurz ने इज़राइल ओलंपिक समिति के साथ बात की, तो इज़राइल एसोसिएशन ऑफ़ बेसबॉल (IAB) के पूर्व अध्यक्ष ने अपना विचार प्रस्तुत किया कि इज़राइल ओलंपिक खेलों टोक्यो 2020 में बेसबॉल के लिए कैसे योग्य होगा।

"मैंने कहा हमें टूर्नामेंट की आवश्यकता है। मैं टीम को मजबूत बनाने में मदद करने के लिए इज़राइल में कुछ लोगों को लाने की कोशिश कर रहा हूं," Kurz, जो वर्तमान में राष्ट्रीय टीम के जनरल मैनेजर हैं, ने कहा। "वे मुझे देख रहे थे और वे अपना सिर हिला रहे थे, कह रहे थे कि मैं एक सपने देखने वाला व्यक्ति हूं।"

"बहुत से लोगों ने सोचा कि मैं सपना देख रहा था।"

दरअसल, 2015 में, Kurz ने वास्तव में एक योजना बनाई कि कैसे इज़राइल टोक्यो खेलों 2020 के लिए क्वालीफाई करेगा।

"मैं उस समय अपने मैनेजर के साथ बैठा था और हमने सभी परिदृश्यों पर चर्चा की। उन्होंने मेरी ओर देखा और कहा," तुम पागल हो लेकिन मैं तुम्हारे साथ हूँ।"

खैर, सपना सितंबर 2019 में सच हो गया, जब वे मेजबान देश जापान के बाद टोक्यो 2020 के लिए क्वालीफाई करने वाली दूसरी टीम बन गए।

यह मॉन्ट्रियल 1976 खेलों के बाद पहली बार होगा - जहां इज़राइल ने एक फुटबॉल टीम भेजी थी - एक बेसबॉल टीम एक ओलंपिक में राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करेगी। इसका मतलब यह भी है कि टोक्यो जाने वाला इज़राइल का प्रतिनिधिमंडल अब तक का सबसे बड़ा होगा।

उम्मीदों के परे

इज़राइल की बेसबॉल टीम की ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने की कहानी कोई साधारण कहानी नहीं है।

इज़राइल ने यूरोपीय बेसबॉल बी-पूल टूर्नामेंट जीतकर अपनी यात्रा शुरू की, जहां वे अपराजित रहे।

उसके बाद उन्होंने B-पूल ग्रुप 1 विजेता लिथुआनिया का सामना किया। फिर से वे जीत गए और छह सप्ताह बाद जर्मनी में 2019 यूरोपीय बेसबॉल चैंपियनशिप के लिए क्वालीफाई किया।

"यह होना आसान बात नहीं थी ... यह हमारे लिए बहुत सार्थक था," Kurz ने समझाया। "लेकिन हमें इस टूर्नामेंट में सफलता मिली।"

इस आयोजन में चौथे स्थान पर रहते हुए उन्हें अफ्रीका / यूरोप 2020 ओलंपिक क्वालीफिकेशन टूर्नामेंट में स्थान मिला। कुछ दिनों बाद, उन्होंने टोक्यो 2020 में एक स्थान के लिए इटली के लिए उड़ान भरी।

वहाँ पर, उन्होंने 2008 के ओल्य्म्पियन्स, नीदरलैंड्स को हराया और टोक्यो के लिए अपने टिकट हासिल करने से एक कदम दूर थे।

हालांकि उन्हें चेक गणराज्य से हार मिली, लेकिन इज़राइल की टीम ने दक्षिण अफ्रीका गणराज्य (11-1) को हराकर टोक्यो खेलों 2020 के लिए बेसबॉल में क्वालीफाई करने वाली पहली टीम बन गई।

Kurz ने कहा, "मेरी आंखों में आंसू थे और यूरोपीय टीम को हराकर ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना हमारे लिए अविश्वसनीय था।"

"हम ओलंपिक खेलों 2020 के लिए क्वालीफाई करने वाली पहली टीम बन गए। हमारे लिए यह एक बड़ी उपलब्धि है क्यूंकि यह यह बताता हैं कि हम कहां आए थे और आज हम कहां हैं।"

ओलंपिक सपने के लिए फंड-रेजिंग

जबकि इज़राइल ओलंपिक समिति ने राष्ट्रीय बेसबॉल टीम को कुछ वित्तीय सहायता प्रदान की है, IAB को बाकी धनराशि जुटानी थी।

"जब तक हम ओलंपियन नहीं बने, हमें सरकार से कोई मदद नहीं मिली", Kurz ने बताया। "इसलिए, हमने जो कुछ भी किया अपने दम पर किया।"

"अगर हमे पैसे नहीं मिलते, तो मैं नहीं सोचना चाहता की क्या होता।"

ओलंपिक खेलों को देखते हुए, फंड-रेजिंग के प्रयास जारी रहे हैं। जबकि इज़राइल ओलंपिक समिति खिलाड़ियों को टोक्यो जाने के लिए वजीफा देने में मदद कर रही है, टीम ओलंपिक से पहले संयुक्त राज्य अमेरिका और जापान दोनों में कुछ शिविरों में भाग लेना चाहती है, ताकि वे खुद को आर्थिक रूप से मदद कर सकें।

इज़राइल ने बेसबाल यूरोपीय अफ्रीका क्वालिफायर में इटली पर महत्वपूर्ण जीत का जश्न मनाया।
इज़राइल ने बेसबाल यूरोपीय अफ्रीका क्वालिफायर में इटली पर महत्वपूर्ण जीत का जश्न मनाया।
Credit: WBSC

इज़राइल सबको हैरान करने के लिए तैयार है

पिछले साल सितंबर में अफ्रीका / यूरोप 2020 ओलंपिक क्वालीफिकेशन टूर्नामेंट में उनके प्रदर्शन को देखने के बाद, जापान की राष्ट्रीय टीम के मैनेजर, Atsunori Inaba ने कहा कि वह इज़राइल टीम से सावधान है, जिसमें कुछ बहुत अच्छे खिलाड़ी हैं और वो प्रभावशाली हैं।

"यह सुनना अविश्वसनीय है कि एक जापानी कोच इज़राइल से सावधान है। यह एक अविश्वसनीय प्रशंसा है, जिसके बारे में सुनकर हमें बहुत सम्मानित महसूस हुआ। भावना पारस्परिक रूप से स्पष्ट है,” Kurz ने कहा।

इज़राइल के विपरीत, बेसबॉल एक ऐसा खेल है जो जापान में बहुत लोकप्रिय है। टीम दुनिया में नंबर 1 पर है और देश में 7.3 मिलियन से अधिक बेसबॉल खिलाड़ी हैं। ओलंपिक इतिहास में, जापान केवल एक बार पदक जीतने से चूका है।

“जापानी टीम हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी, इसमें कोई संदेह नहीं है। मुझे उम्मीद है कि हम फाइनल तक उनका सामना नहीं करेंगे,” Kurz ने कहा।

“इज़राइल भी जापान के बारे में बहुत नर्वस है, हम सभी टीमों के बारे में नर्वस हैं। मुझे लगता है कि हम अंडरडॉग्स हैं, हमारे पास ओलंपिक में कुछ भी करने का मौका है।”

सैद्धांतिक रूप से, इज़राइल के पास पदक जीतने का 50 प्रतिशत मौका है।

सिर्फ छह टीमें होंगी जो अगले साल ओलंपिक में पोडियम फिनिश के लिए लड़ रही होंगी। यदि इज़राइल, जो दुनिया में 18वें स्थान पर है, 2021 में खेलों में पदक जीतने में सक्षम होती है, तो बेसबॉल देश में और लोकप्रिय हो सकता है।

“हमें लगता है कि हम निश्चित रूप से पदक प्राप्त कर सकते हैं। हमारा लक्ष्य पदक के लिए चुनौती देने में सक्षम होना है,” Kurz ने कहा।

"बेसबॉल के खेल को विकसित करने के लिए, पदक जीतना हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। Biet Shemesh में एक मैदान के निर्माण के साथ उम्मीद है कि ओलंपिक 2020 खेल के बाद करीब 2,000 बच्चे भी बेसबॉल खेल पाएंगे।

"पुरानी कहावत है कि जब आप इसे बनाएंगे, तो वे आएंगे," Kurz ने कहा।

"यह सच है, जब आपके पास मैदान उपलब्ध होते हैं, तो बच्चे अधिक बाहर आते हैं और खेलते हैं। इसके अलावा, ओलंपिक से हमारे खेल के प्रचार के साथ, जहां हमारा लक्ष्य पदक जीतना है - और जब हम इसे हासिल करेंगे, तो यह अविश्वसनीय होगा क्योंकि इज़राइल उन सभी चीजों से प्यार करता है जो ओलंपिक से संबंधित हैं।"