अंतरराष्ट्रीय संघों ने ओलंपिक को स्थगित करने के निर्णय का समर्थन किया

टोक्यो, जापान - 21 जनवरी: टोक्यो के New National Stadium के बाहर ओलंपिक के रिंग देखे जाते हैं। (Clive Rose/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
टोक्यो, जापान - 21 जनवरी: टोक्यो के New National Stadium के बाहर ओलंपिक के रिंग देखे जाते हैं। (Clive Rose/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

अंतरराष्ट्रीय खेल महासंघों ने अगले साल टोक्यो ओलंपिक 2020 को स्थगित करने के निर्णय का समर्थन किया। घातक कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण यह निर्णय लिया गया था। यहां आप समाचार के संबंध में संघों की कुछ प्रतिक्रियाओं को देख सकते हैं।

वर्ल्ड बेसबॉल सॉफ्टबॉल कंफेडरेशन ने यह कहते हुए अपना समर्थन व्यक्त किया कि हालांकि यह स्थगन दुनिया भर के एथलीटों के लिए दिल तोड़ देने वाला है, अगले साल होने वाले ओलंपिक खेलों को स्थगित करना वैश्विक सुधार और एकजुटता का प्रतीक हो सकता है।

View this post on Instagram

Olympic #Baseball, #Softball and the #Tokyo2020 #Olympics have been postponed to 2021. The World Baseball Softball Confederation (WBSC) welcomed the difficult joint decision today of the International Olympic Committee (IOC), the Tokyo 2020 Organising Committee and Japan Prime Minister Abe Shinzo to postpone the Olympic Games Tokyo 2020 to a date no later than the summer of 2021. The IOC stated that the Tokyo 2020 Games will be rescheduled to a date beyond 2020 but not later than summer 2021, to safeguard the health of the athletes, everybody involved in the Olympic Games and the international community. Said WBSC President Riccardo Fraccari: "The WBSC welcomes and fully supports the joint decision taken by the IOC, Tokyo 2020 and Japan Prime Minister Abe Shinzo to postpone the start of the Olympic Games Tokyo 2020 due to the COVID-19 pandemic. “While the postponement is heartbreaking for athletes -- and our baseball and softball players -- around the world, the ‘Tokyo 2020’ Games in 2021 can be a symbol of global recovery and solidarity, and be one of the greatest worldwide celebrations and most anticipated moments in the history of sport. "The WBSC stands in solidarity with the Olympic Movement during this difficult time and will work closely with the IOC to manage the completion of the Olympic qualification process for baseball, which now has more time to be conducted, providing an equal opportunity for the teams and their players.”

A post shared by ⚾🥎 WBSC (@wbsc) on

NOC INDIA ने दोनों हाथों से इस फैसले का स्वागत किया है। देश में तालाबंदी खत्म होने के बाद अब वे अपने अगले कदम की तैयारी करेंगे ।

इस बीच, विश्व एथलेटिक्स संगठन ने एक नारा पोस्ट किया है, "2021 में मिलते है", और लोगों से घर पर रहने और एथलेटिक्स देखने में खुद को व्यस्त रखने का आग्रह किया है।

भारतीय हॉकी महासंघ ने भी फैसले का समर्थन किया। उन्होंने भविष्य के लिए भी सकारात्मक शब्द व्यक्त किए।

Fédération Equestre Internationale कई संघों में से एक था जिसने ओलंपिक खेलों के स्थगन के निर्णय का समर्थन किया था। खेल की भावना को व्यक्त करते हुए, द फेडरेशन ने उन एथलीटों के बारे में उल्लेख किया जो जानते हैं कि जब स्थिति कठिन होती है, तो परिस्थितियों से निपटना है और वापस लड़ना है।

View this post on Instagram

To our athletes, our fans & our whole community, ⠀ To say these are tough times is an understatement & while we are as disappointed as you are, it’s the right decision & sometimes difficult decisions need to be made to protect us all. But, we equestrians know how to hold on when things get rough & we know how to dust ourselves down, stand back up & keep on going. So that is what we will do. Let’s focus on our communities & loved ones as we work together to get through these times, supporting each other every step of the way. ⠀ There is no doubt, when the time is right we will celebrate our sport with the whole world. ⠀ @tokyo2020 – we will be ready. 💪 #Tokyo2020 #Olympics #Paralympics ⠀ ⠀ ⠀ ⠀ ⠀ ⠀ ⠀ ⠀ ⠀ ⠀ ©️📸FEI/ @richardjuilliart

A post shared by Official FEI 🐎 (@fei_global) on

अंतरराष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ ने IOC और टोक्यो 2020 आयोजन समिति के संयुक्त फैसले की सराहना करते हुए "इस चुनौतीपूर्ण समय के माध्यम से हमारे एथलीटों और प्रशंसकों के साथ एकजुटता से खड़े होने" का वादा किया।

दूसरी ओर, UCI का संदेश COVID-19 महामारी से लड़ने का था। यह संकट खत्म होने पर ओलंपिक खेलों का जश्न मनाने के अपने संदेश को भी दर्शाता है।

वर्ल्ड एंटी-डोपिंग एजेंसी ने इस फैसले को "समझदार" फैसला बताया।