प्रतिभा से लमलेट शूटर Saurabh Chaudhary टोक्यो में रच सकते हैं इतिहास

Saurabh Chaudhary (Photo by Burhaan Kinu/Hindustan Times via Getty Images)
Saurabh Chaudhary (Photo by Burhaan Kinu/Hindustan Times via Getty Images)

ओलिंपिक खेलों को शुरु होने में अब कुछ ही महीने रह गए हैं और विश्व के सबसे भव्य और महत्वपूर्ण खेल महोत्सव में भारत के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी पदक जीतने का प्रयास करेंगे। निशानेबाज़ी, कुश्ती, बैडमिंटन और भारोत्तोलन जैसे खेलों में भारत के अनेक खिलाड़ी पदक के दावेदार रहेंगे और हर सप्ताह टोक्यो 2020 आपको ऐसे ही खिलाड़ी के बारे में बताएगा।

इस हफ्ते हम जानेंगे की क्यों निशानबाज़ Saurabh Chaudhary आगामी खेलों में भारत के लिए पदक दावेदारों में से एक हैं।

बेशक यह सिलसिला 2004 के एथेंस खेलों में शुरू हुआ हो जहां भारत ने पहली बार निशानेबाज़ी में ओलिंपिक पदक जीता था (Rajyavardhan Singh Rathore ने रजत पदक जीता था), लेकिन अब, करीब एक दशक से भी ज्यादा समय के बाद, इस अनुशासन में भारतीय शूटर्स की कहानी कुछ और ही है।

आगामी ओलिंपिक खेलों को नज़र में रखते हुए हाल ही में भारतीय शूटिंग दल की घोषणा की गई और कई युवा निशानेबाज़ों ने इस सूची में खुद का नाम पाया, जिसमें से एक 18 वर्षीय, प्रतिभा से भरपूर शूटर Saurabh Chaudhary भी हैं।

मेरठ जिले के कलीना गांव में जन्में Saurabh Chaudhary ने 13 साल की उम्र से ही शूटिंग करना शुरू कर दिया था। प्रतिदिन 15 किलोमीटर तय करके वह Aryangateways Sports Foundation में ट्रेनिंग करने जाते थे और वहां से उनका यह सफर शुरू हुआ।

एक कदम उन्नति की ओर  

2018 वो साल था, जिसने इस युवा निशानेबाज़ को दुनिया में प्रसिद्ध कर दिया। एक के बाद एक पदक जीत कर, Saurabh ने न केवल सुर्खियां बटोरीं बल्कि इस बात का भी एहसास कराया की भारत का इस खेल में भविष्य बहुत की उज्जवल है।

अगर उनकी कामयाबी कुछ कह सकती तो यह जरूर कहती - 'दुनिया वालों, अब निशानेबाज़ी में भारत का डंका बोलेगा और आप सब इसकी सहराना करने के लिए तैयार हो जाओ।' 

सबसे पहले 2018 में ब्यूनस आयर्स में आयोजित यूथ ओलंपिक खेलों में 580 के स्कोर के साथ उन्होंने 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में अपना पहला स्वर्ण पदक जीता।

बाद में अपनी निरंतरता के लिए पहचाने जाने वाले Saurabh ने उसी साल जूनियर वर्ल्ड कप, एशियाई खेलों और वर्ल्ड जूनियर चैंपियनशिप में उसी स्पर्धा में स्वर्ण पदक अर्जित कर अपना और अपने देश का नाम दुनिया भर में रौशन किया।

इतना ही नहीं बल्कि मिक्स्ड टीम इवेंट में भी उन्होंने काफी वाहवाही कमाई। 2018 के जूनियर वर्ल्ड कप से लेकर इस साल हाल ही में समाप्त हुए ISSF शूटिंग वर्ल्ड कप तक में इस निशानेबाज़ ने आधे दर्जन से ज्यादा गोल्ड मैडल जीते हैं।

अन्य युवा भारतीय निशानेबाज़, Manu Bhaker के साथ एक शानदार साझेदारी करते हुए, इस जोड़े ने नई दिल्ली में हुए इस इवेंट में स्वर्ण पदक भी अपने नाम किया था।

अब आप खुद इस बात का अंदाज़ा लगाएं की आत्मविश्वास से भरे इस निशानेबाज़ को अपने सपने तक पहुंचने से कौन रोक सकता है।

पदक और ख़िताब

एक उभरते हुए नाम से लेकर पदक दावेदारों की सूची में आना अपने आप में एक बड़ी सफलता है। आइए एक नज़र डालते हैं उनकी अब तक की उपलब्धियों पर -

  • आज तक Saurabh ने कुल मिला कर 14 स्वर्ण, 5 रजत और 3 कांस जीते हैं, लेकिन ये कहना गलत नहीं होगा कि ये तो बस शुरुआत है।
  • वर्ष 2018 में आयोजित हुए वर्ल्ड जूनियर चैंपियनशिप में उन्होंने 10 मीटर एयर पिस्टल इवेंट में स्वर्ण जीता और मिक्स्ड टीम इवेंट में उन्होंने कांस पदक अपने नाम किया।
  • उसी साल Saurabh ने एशियाई खेलों और जूनियर वर्ल्ड कप में एकल और टीम इवेंट दोनों में स्वर्ण पदक का दावा भी किया।
  • 2019 के ISSF शूटिंग वर्ल्ड कप में एकल प्रतियोगिता और मिक्स्ड टीम इवेंट में अन्य पदक जीतकर अपना सिक्का जमाने के अलावा, इस निशानेबाज़ ने इस साल इसी इवेंट में भी धूम मचाई।

अब टोक्यो खेलों के लिए तैयार, Saurabh Chaudhary अपने देश के लिए इस अनुशासन में पदक जीतने के लिए दृढ़ हैं। क्या सफलता उनके हाथ लगेगी, ये तो वक़्त ही बताएगा।

अनुसूची

शूटिंग प्रतियोगिता शनिवार 24 जुलाई, 2021 को Asaka Shooting Range में शुरू होगी और आप सभी अपने पसंदीदा निशानबाज़ों को वहां प्रतिस्पर्धा करते देख सकते हैं।