टोक्यो खेलों 2021 में भारत को पदक जिताकर गौरवान्वित कर सकते हैं पहलवान Bajrang Punia

पहलवान Bajrang Punia से आगामी टोक्यो ओलंपिक में भारत के लिए पदक जीतने की उम्मीद है। (Photo by Vipin Kumar/Hindustan Times via Getty Images)
पहलवान Bajrang Punia से आगामी टोक्यो ओलंपिक में भारत के लिए पदक जीतने की उम्मीद है। (Photo by Vipin Kumar/Hindustan Times via Getty Images)

जैसा कि हम ओलंपिक वर्ष में प्रवेश कर चुके हैं, यह समय है कि हम टोक्यो खेलों में भारत के कुछ सबसे शानदार पदक दावेदारों पर एक नज़र डालें। हमारी नवीनतम श्रृंखला के पहले भाग में, हम जानेंगे कि Bajrang Punia - एक फ्रीस्टाइल पहलवान, जो 65 किलोग्राम वर्ग में भाग लेंगे, इस वर्ष ओलंपिक में पदक के लिए मजबूत दावेदारों में से एक क्यों हैं।

Bajrang Punia - एक नायाब हीरा!

पिछले कई वर्षों में, भारत ने अपने कुछ सर्वश्रेष्ठ फ्रीस्टाइल पहलवानों को ओलंपिक खेलों में भेजा, और सौभाग्य से, उनमें से कुछ ने ओलंपिक पदक भी अर्जित किए - चाहे वह 2008 में बीजिंग खेलों के रजत पदक विजेता बने - Sushil Kumar हो, या फिर Yogeshwar Dutt - जो चार साल बाद लंदन ओलंपिक में कांस्य जीतने में सफल रहे।

भारत के कई फ्रीस्टाइल पहलवान जिन्होंने टोक्यो खेलों में अपना टिकट अर्जित किया है, उनमें से एक 26 वर्षीय Bajrang Punia हैं - जो इस साल ओलंपिक में इस अनुशासन में पदक जीतने के लिए सबसे उज्ज्वल दावेदार लग रहे हैं।

65 किलोग्राम वर्ग में भाग लेने वाले Bajrang, टोक्यो में आयोजित होने वाले ओलंपिक खेलों में भी पदार्पण करेंगे। 2019 में हुई वर्ल्ड कुश्ती चैंपियनशिप में जीत दर्ज कर उन्होंने योग्यता हासिल की थी। हालांकि, पूर्व वर्ल्ड नंबर 2 Bajrang को शीर्ष एथलीटों में से एक माना जा रहा है, उन्हें अपने इस दबदबे को कायम रखने के लिए रूस के Gadzhimurad Rashidov और कजाकिस्तान के Daulet Niyazbekov के खिलाफ ओलंपिक में मोर्चा संभालने के लिए अपनी कमर कसनी होगी।

इस बीच, दिसंबर से क्लिफ़ कीन रेसलिंग क्लब में अपने कौशल पे काम करते हुए, भारतीय जांबाज़ अमेरिका में थे।

कोच, Emzarios ‘Shako’ Bentinidis के अनुसार, Bajrang अपने मानसिक और शारीरिक गुणों को मजबूत करने के लिए कड़ी ट्रेनिंग कर रहे थे।

“मैं Bajrang का ध्यान पूरी तरह से मैट पर फोकस रखने पर काम कर रहा हूं। मैं यह सुनिश्चित करता हूं कि जब वह लड़ते हैं तो वह अपनी एकाग्रता नहीं खोये,” Bentinidis ने कहा।

उन्होंने आगे कहा, "लेकिन जब वह ऐसा करते हैं, मैं उन्हें तुरंत रोक देता हूं, समस्या को ठीक करता हूँ और उन्हें फिर से शून्य से शुरू करने के लिए कहता हूं। जब तक वह इसे ठीक नहीं करते, हम एक ही कवायद को बार-बार जारी रखते हैं।

हालांकि, विभिन्न स्पर्धाओं में दर्जनों पदक बटोरने के बाद - जिसमें वर्ल्ड कुश्ती चैम्पियनशिप, राष्ट्रमंडल खेल, एशियाई खेल, एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप और कई और अधिक शामिल है, हरियाणा में जन्मे पहलवान अब खेल की सबसे बड़ी प्रतियोगिता में अपने धुआंधार प्रदर्शन से दुनिया को चकाचौंध करने के लिए तैयार हैं।

Bajrang की प्रमुख उपलब्धि और पदक -

यहां, अब हम पिछले कुछ वर्षों में Bajrang द्वारा जीते गए कुछ प्रमुख इवेंट्स पर नज़र डालेंगे।

  • पिछले कुछ वर्षों में, Bajrang ने छह एशियाई चैंपियनशिप में तीन अलग-अलग श्रेणियों (60 किग्रा, 61 किग्रा और 65 किग्रा) में भाग लिया, और इसमें उन्होंने दो स्वर्ण पदक (2017 नई दिल्ली, 2019 शीआन), दो रजत पदक (2014 अस्ताना, 2020 नई दिल्ली), और दो कांस्य पदक (2013 नई दिल्ली, 2018 बिश्केक) जीते हैं।
  • एशियाई खेलों में भी, Bajrang ने 2018 में जकार्ता में स्वर्ण पदक जीता था, लेकिन इंचियोन में चार साल पहले, उन्होंने रजत पदक अर्जित किया था।
  • वर्ल्ड कुश्ती चैंपियनशिप में, Bajrang ने तीन अवसरों पर पदक जीते थे। हालांकि उन्होंने बुडापेस्ट 2013 में और 2019 में नूर-सुल्तान में कांस्य जीता था, उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन बुडापेस्ट 2018 में आया था, जब उन्होंने रजत पदक अपने नाम किया था।
  • इसके अलावा, दो कॉमनवेल्थ खेलों में उन्होंने भाग लिया, और भारतीय पहलवान ने 2014 में ग्लासगो में रजत पदक और 2018 में ऑस्ट्रेलिया में गोल्ड कोस्ट में एक स्वर्ण पदक पर अपनी जीत का ठप्पा लगाया।

पिछले कुछ वर्षों में उनके असाधारण प्रदर्शन और भारतीय कुश्ती में उनके योगदान के लिए, Bajrang Punia को भारत सरकार द्वारा कुछ प्रतिष्ठित पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया था - जिसमें 2015 में अर्जुन पुरस्कार, 2019 में प्रतिष्ठित पद्म श्री, और देश में सर्वोच्च खेल पुरस्कार - 2019 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार शामिल हैं।

अनुसूची

6 अगस्त, 2021, शुक्रवार को आप भारत के Bajrang Punia को एक्शन में देख सकते हैं, जब वह मकुहारी मेस हॉल ए में पुरुष फ्रीस्टाइल 65 किग्रा 1/8 फाइनल में प्रतिस्पर्धा करेंगे।