कैसे मौसम बना Lynn 'the leap' Davies के टोक्यो 1964 में स्वर्ण पदक जीत का गवाह

ग्रेट ब्रिटेन के Lynn Davies ने ओलंपिक खेलों टोक्यो 1964 में लॉन्ग जम्प का स्वर्ण जीतने के लिए 8.07 मीटर की छलांग लगाई। (अनिवार्य क्रेडिट: Allsport Hulton/Archive)
ग्रेट ब्रिटेन के Lynn Davies ने ओलंपिक खेलों टोक्यो 1964 में लॉन्ग जम्प का स्वर्ण जीतने के लिए 8.07 मीटर की छलांग लगाई। (अनिवार्य क्रेडिट: Allsport Hulton/Archive)

अक्टूबर 1964 में टोक्यो ने अपने पहले ओलंपिक खेलों की मेजबानी की थी। उन ऐतिहासिक पलों को याद करते हुए टोक्यो 2020 आपको कुछ सबसे अविश्वसनीय और ज़िंदादिल इवेंट्स से रूबरू कराएगा, जो आज से 56 साल पहले हुए थे। श्रृंखला के नवीनतम भाग में, हम Lynn ‘the leap’ Davies की कहानी और खेलों में उनके विजयी क्षणों पर एक नज़र डालते हैं।

बैकग्राउंड

20 मई 1942 को ब्रिगेडेंड, वेल्स के पास नान्ट-वाई-माइल में एक कोयला खान कर्मी के घर एक लड़के का जन्म हुआ, जो आगे चलकर Lynn Davies के नाम से प्रसिद्ध हुए।

Davies, जो टोक्यो 1964 खेलों के बाद एक वैश्विक स्टार के रूप में निखर के आए, उन्होंने स्कूल की प्रतियोगिताओं के दौरान एथलेटिक्स में प्रतिस्पर्धा शुरू की। 18 साल की उम्र में उन्होंने एक लॉन्ग जम्प के खिलाड़ी के रूप में अपना करियर शुरू किया।

हालांकि, यह मान लेना सही होगा कि उन्होंने अपना करियर शुरू करने के सिर्फ चार साल बाद ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा की उम्मीद नहीं की थी।

पर्थ 1962 में राष्ट्रमंडल खेलों में वेल्श टीम का प्रतिनिधित्व करने के योग्य होने के बाद, Davies ने ब्रिटिश रिकॉर्ड को - पोडियम पर केवल 0.01 मीटर की दूरी से 7.72 मीटर की छलांग के साथ तोड़ा।

Davies सोवियत एथलीट, Igor Ter-Ovanesyan से बहुत ही प्रेरित थे और रितिक की दुनिया में कुछ नए सुधार लाने की खोज में लगे थे, जिन्होंने 1962 के यूरोपीय चैंपियनशिप में 'हिच किक' नामक एक अनूठी तकनीक का उपयोग करके स्वर्ण पदक जीता था - जिसमें एक एथलीट के हाथ और पैर प्रयाग से बाहर आने के बाद भी गति में रहते हैं।

यादगार पल...

हालांकि, Davies काफी तेजी से अपनी तकनीक में सुधार कर रहे थे, लेकिन अभी भी वह टोक्यो 1964 खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले पसंदीदा खिलाड़ियों की टक्कर में नहीं आए थे।

दूसरी सबसे लंबी कूद के साथ क्वालीफाई करने के बाद फाइनल में जगह बनाने के बावजूद, बहुत कम लोगों ने इस ब्रिटिश एथलीट को उस समय के चैंपियन Ralph Boston (यूएसए) या यहां तक ​​कि Ter-Ovanesyan के खिलाफ मौका दिया।

हालांकि फाइनल के दिन, जब सब कुछ दांव पर था, Davies ने पुरुषों की ओलंपिक लॉन्ग जम्प प्रतियोगिता में लगातार आठ संयुक्त राज्य अमेरिका की जीत का एक रन समाप्त करते हुए 8.07 मीटर की छलांग के साथ स्वर्ण पदक जीता।

लेकिन यह हुआ कैसे?

2014 में, Ralph Boston के साथ खेल की 50वीं वर्षगांठ को चिह्नित करने के लिए एक संयुक्त साक्षात्कार के दौरान, Davies ने याद किया कि बीबीसी रेडियो स्पोर्ट पर क्या हुआ था।

Davies ने कहा, "मैंने सुना कि, Ralph ने कहा कि “मुझे नहीं लगता कि आज कोई भी 8 मीटर कूद पाएगा।” मुझे लगा कि मेरे पास एक मौका है।

जिस पर Boston ने जवाब दिया: "अगर मुझे पता होता कि तुम सुन रहे हो तो मैं कहता ही न।"

हालांकि, यह कहानी का केवल एक छोटा सा हिस्सा है।

Davies के दिमाग में ये ही चल रहा था कि उन्होंने मौसम के कारण स्वर्ण पदक जीता और Lynn 'the leap' Davies का उपनाम पाया।

टोक्यो, एक शहर, जो अपने आर्द्र मौसम के लिए जाना जाता है, उस दिन बहुत अलग मौसम अनुभव कर रहा था। बारिश, ठंड की स्थिति, जो जापान में गर्मियों की तुलना में वेल्स में शरद ऋतु के लिए अधिक थी, Davies के लिए जीत का पैग़ाम बनी।

उन्हें यह कहते हुए भी सुना गया था: "अगर ऐसा नहीं होता और दिन गर्म होता तो, मुझे यकीन है कि मैं जीत नहीं हासिल कर पाता।"

बेशक यह उनके प्रयासों और दृढ़ संकल्प से अलग नहीं है। जीत के लिए अपने रास्ते में Boston (8.03 मीटर) और Ter-Ovanesyan (7.99 मीटर) को हराकर, उन्होंने स्वर्ण पदक जीता और इतिहास रच दिया।

ऐसा करने के साथ ही, वह व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले वेल्शमैन बन गए। लंदन में Greg Rutherford की जीत तकओलंपिक में लंबी कूद का स्वर्ण पदक जीतने वाले एकमात्र ब्रिटिश व्यक्ति को वेल्शमैन के ख़िताब से सम्मानित किया जाता है।

ग्रेट ब्रिटेन के Lynn Davies ने 1964 के टोक्यो ओलंपिक में लॉन्ग जम्प में स्वर्ण पदक जीता। (Express Newspapers/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
ग्रेट ब्रिटेन के Lynn Davies ने 1964 के टोक्यो ओलंपिक में लॉन्ग जम्प में स्वर्ण पदक जीता। (Express Newspapers/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

सफलता की सीढ़ी...

टोक्यो 1964 में अपनी जीत के झंडे गाड़ने के बाद, Davies अपनी सफलता लगातार बुलंदियों पर लेते चले गए, बुडापेस्ट में 1966 की यूरोपीय चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता और फिर तीन साल बाद रजत पदक।

1966 में, राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान, उन्होंने 1970 के राष्ट्रमंडल खेलों में अपने ख़िताब की रक्षा करने के लिए जाने से पहले स्वर्ण पदक जीता - और इस तरह वह बैक-टू-बैक ख़िताब जीतने वाले पहले व्यक्ति बन गए।

राष्ट्रमंडल खेलों में उनके प्रदर्शन की चमक ने, यूरोपीय चैंपियनशिप और ओलंपिक ने उन्हें दो बार 1964 और 1966 में_बीबीसी वेल्स स्पोर्ट्स पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर’ _पुरस्कार के विजेता का ताज पहनाया ।

हालांकि, मेक्सिको सिटी 1968 खेलों में Davies नौवें स्थान पर रहे और अपने ओलंपिक के ताज की रक्षा करने में सक्षम नहीं हो पाए, जबकि म्यूनिख 1972 खेलों में वह केवल 18वें स्थान पर ही रह सके।

1973 में अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा के बाद, Davies 1976 तक कनाडा के एथलेटिक्स के तकनीकी निदेशक के रूप में कार्यरत थे, और बाद में उन्होंने मास्को 1980 और लॉस एंजिल्स 1984 खेलों के लिए ग्रेट ब्रिटेन टीम तैयार की।

Davies ने कार्डिफ विश्वविद्यालय के वेल्स विश्वविद्यालय में शारीरिक शिक्षा में वरिष्ठ व्याख्याता के रूप में काम करने से पहले बीबीसी वेल्स के साथ एक प्रसारण करियर में अपना हाथ आज़माया। अंत में, Davies 2003-2011 तक यू. के. एथलेटिक्स सदस्य परिषद के अध्यक्ष थे।

78 वर्ष Lynn ‘the leap’ Davies, ब्रिटिश खेलों में सबसे सम्मानित नामों में से एक है।