महान ओलंपिक क्षण: रियो 2016 विमेंस कैनोइ K-1 स्लैलम फाइनल

रियो ओलंपिक खेलों में महिला कयाक (K1) फाइनल के दौरान फिनिश लाइन पार करने के बाद स्पेन की Maialen Chourraut ने प्रतिक्रिया व्यक्त की। (Jamie Squire/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
रियो ओलंपिक खेलों में महिला कयाक (K1) फाइनल के दौरान फिनिश लाइन पार करने के बाद स्पेन की Maialen Chourraut ने प्रतिक्रिया व्यक्त की। (Jamie Squire/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

जैसा कि टोक्यो 2020 अब सिर्फ एक साल दूर है, यह इतिहास के कुछ महानतम ओलंपिक क्षणों के आंनद उठाने का समय है। आज 28 जुलाई 2020 को, हम रियो 2016 विमेंस कैनोइ K-1 स्लैलम फाइनल पर नज़र डालते हैं।

अगले साल के टोक्यो ओलंपिक खेलों के शेड्यूल और आयोजन स्थलों की घोषणा की गई है, और जबकि दुनियाभर के एथलीट ओलंपिक 2020 के लिए क्वालीफाई करने की तैयारी में लगे हुए हैं, हम कुछ सबसे अविस्मरणीय, प्रेरक और रोमांचक ओलंपिक क्षणों पर एक नज़र डालते हैं।

रियो 2016 विमेंस कैनोइ K-1 स्लैलम फाइनल

रियो में Maialen Chourraut न केवल स्पेन की पहली ओलंपिक कैनोइ स्लैम चैंपियन बनीं, बल्कि वह प्रतियोगिता में इस तरह से हावी रहीं कि उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी से 3.17 सेकंड आगे रहते हुए आश्चर्यजनक रूप से समापन किया।

अपनी जीत के बाद, Chourraut ने कहा - "मैं बस एकाग्रचित्त होकर आगे बढ़ती रही। जब मैंने पैडलिंग शुरू की, तो मेरे कोच (Xabier Extaniz), जो अब मेरे पति हैं, ने हमारी छोटी टीम को दृढ़ता का महत्व सिखाया। मुझे लगता है कि यह सफलता की चाबी है।“

आखिरकार, यह केवल दृढ़ता थी जिसने Chourraut को इतिहास में सबसे यादगार ओलंपिक जीत हासिल करने में मदद की।

वुमेंस कैनोइ k -1 के स्लैलम फाइनल| रियो 2016 | ओलंपिक के सबसे ख़ास पल
35:20