हॉकी प्रो लीग टोक्यो खेलों से पहले टीम के लिए एक अच्छी परीक्षा होगी - Reid, Manpreet

हॉकी प्रो लीग अगले साल टोक्यो खेलों से पहले भारतीय टीम को लाभान्वित करेगी। (Ian MacNicol/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
हॉकी प्रो लीग अगले साल टोक्यो खेलों से पहले भारतीय टीम को लाभान्वित करेगी। (Ian MacNicol/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

भारतीय पुरुष हॉकी टीम के कोच, Graham Reid और कप्तान, Manpreet Singh को लगता है कि हॉकी प्रो लीग अगले साल टोक्यो में ओलंपिक खेलों से पहले टीम के लिए एक अच्छी परीक्षा होगी।

दोनों का मानना है कि ओलंपिक खेलों से ठीक पहले कड़ी प्रतिस्पर्धा से टीम को ग्रीष्मकालीन खेलों के लिए बेहतर तैयारी करने में मदद मिलेगी।

Reid ने कहा, "यह जानना बहुत उत्साहजनक है कि अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का आयोजन अगले साल से शुरू हो रहा है। हॉकी प्रो लीग हमें अगले साल होने वाले ओलंपिक खेलों से पहले शीर्ष स्तर की कड़ी प्रतिस्पर्धा देगा।"

हालांकि, भारत ने इस साल की शुरुआत में हॉकी प्रो लीग के पहले संस्करण में बढ़िया शुरुआत की। पूर्व ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता ने नीदरलैंड्स को 5-2 और 3-3 (3-1) से हराया; दूसरे चरण में हार (3-4) का सामना करने से पहले उन्होंने बेल्जियम (2-1) को भी हराया। इतना ही नहीं, बल्कि भारतीय टीम ने अपने लंबे समय के प्रतिद्वंद्वियों - ऑस्ट्रेलिया को भी 2-2 (3-1) से पराजित किया। फिर, COVID-19 महामारी के कारण प्रतियोगिता स्थगित हो गई थी।

भारत को अगले साल हॉकी प्रो लीग में कठिन टीमों का सामना करना है

भारतीय पुरुष हॉकी टीम को कुछ कठिन टीमों का सामना करना पड़ेगा जब वे अगले साल अपने अभियान को फिर से शुरू करेंगे।

नई अनुसूची के अनुसार, भारत अगले साल 10, 11 अप्रैल को अर्जेंटीना का सामना करेगा। टीम 12 और 13 मई को स्पेन की यात्रा करने से पहले 8 और 9 मई को ग्रेट ब्रिटेन से भिड़ेगी। बाद में, Manpreet Singh के नेतृत्व वाली टीम 18 और 19 मई को जर्मनी को अवे मैच में चुनौती देगी; और फिर वे 29 और 30 मई को न्यूजीलैंड का सामना करेंगे।

इस बीच, Reid ने एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी के बारे में भी बात की जो इस साल नवंबर में होने वाली है।

Reid ने कहा, "हम यह सुनिश्चित करने के लिए भी काम कर रहे हैं कि हमारे पास 2020 के उत्तरार्ध और 2021 के शुरुआती हिस्से में पर्याप्त टूर्नामेंट हों।"

"हमारे ACTC के अनुसार, एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी अभी भी नवंबर 2020 में होने की योजना है। उसके बाद हम नीदरलैंड को खेलने के लिए मलेशिया की यात्रा करेंगे और फिर अगले साल फरवरी में न्यूजीलैंड में 4 देशों का टूर्नामेंट भी होने वाला है।"

Manpreet Singh का कहना है कि हिल प्रो लीग के लिए एक संशोधित कार्यक्रम की खबर सुनकर वह खुश थे। (Dean Mouhtaropoulos/ गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)
Manpreet Singh का कहना है कि हिल प्रो लीग के लिए एक संशोधित कार्यक्रम की खबर सुनकर वह खुश थे। (Dean Mouhtaropoulos/ गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)
2018 Getty Images

नए शेड्यूल से खुश हैं Manpreet

जैसे ही भारत में COVID-19 के मामले बढ़ रहे हैं, Manpreet Singh को लगता है कि सभी के स्वास्थ्य और सुरक्षा को देखते हुए टूर्नामेंट को स्थगित करना महत्वपूर्ण था।

उन्हें लगता है, अब चूंकि नए शेड्यूल की घोषणा हो गई है, इसलिए टीम इसके लिए खुद को बेहतर तैयार कर सकती है।

उन्होंने आगे कहा कि टीम के लिए यात्रा की योजना सरकारी दिशानिर्देशों पर निर्भर करेगी। जैसा कि दुनिया में स्थिति इस समय अच्छी नहीं है, Manpreet का मानना है की एक टीम के रूप में उन्हें अपने लक्ष्य को देखने की जरूरत है और देखें कि वे कहां सुधार कर सकते हैं।

"हम हॉकी प्रो लीग के लिए एक संशोधित कार्यक्रम की खबर सुनकर खुश थे। भारत में मामलों की संख्या में वृद्धि को देखते हुए, भारत में यात्रा प्रतिबंध हटाए जाने में कुछ समय लग सकता है।"

"किसी भी टूर्नामेंट के लिए इस वर्ष हमारी यात्रा पूरी तरह से सरकारी दिशानिर्देशों पर निर्भर करेगी, इसलिए इन परिस्थितियों में, हमें अपने आस-पास जो भी हो रहा है, उसके प्रति संवेदनशील होने और तैयारी पर अपना ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है," Manpreet ने कहा।

बैक-टू-बैक मैचों से हमें फायदा होगा

Manpreet Singh यह भी सोचते हैं कि बैक-टू-बैक मैचों में कठिन टीमों का सामना करने से ओलंपिक खेलों से ठीक पहले भारतीय टीम को बेहतर होने में मदद मिलेगी। कप्तान ने कहा कि टीम को इस तरह की गति की जरूरत होगी।

"मुझे लगता है कि अर्जेंटीना और ग्रेट ब्रिटेन के खिलाफ हमारे मैचों के बीच 4 सप्ताह के अंतराल के बाद, हम मई के अंत तक लगभग हर सप्ताह के अंत में बैक-टू-बैक मैच खेलेंगे और ठीक इसी तरह की गति हम ओलंपिक खेलों से पहले चाह भी रहे थे।

"हम इस समय के दौरान अपने शरीर और दिमाग का परीक्षण करेंगे, यह देखने के लिए कि कैसे हम बैक-टू-बैक उच्च-तीव्रता वाले खेल खेलने के दबाव का सामना कर सकते हैं और भार को अच्छी तरह से प्रबंधित कर सकते हैं। यह ओलंपिक से पहले हमारे लिए आदर्श परीक्षा होगी," उन्होंने कहा।