George Eyser: पदक, रहस्य और ओलंपिक खेलों का पहला अपंग एथलीट

George Eyser [जो लंबी पैंट में बीच में खड़ा हैं] ने 1904 के सेंट लुइस ओलंपिक खेलों में जिमनास्टिक में छह पदक जीते - जिसमें तीन स्वर्ण पदक शामिल हैं।
George Eyser [जो लंबी पैंट में बीच में खड़ा हैं] ने 1904 के सेंट लुइस ओलंपिक खेलों में जिमनास्टिक में छह पदक जीते - जिसमें तीन स्वर्ण पदक शामिल हैं।

ओलंपिक खेल चैंपियन, रिकॉर्ड और कहानियों से भरे होते हैं, लेकिन वे उत्सुक, मजाकिया, भावनात्मक और दुखद क्षणों का एक अविश्वसनीय विश्वकोश भी हैं। हम आपके चेहरे पर एक मुस्कान या फिर आंखों को नम कर देने वाली कहानियां लेकर आएंगे। इस सप्ताह हम जानेंगे एक अमेरिकी जिमनास्ट, George Eyser के बारे में, जिन्होंने 1904 में सेंट लुइस में छह पदक जीते - जिनमें से तीन स्वर्ण थे - और वो भी केवल एक मांस-और-रक्त वाले पैर के साथ।

पहले की कहानी

ओलंपिक जिम्नास्ट, George Eyser के जीवन में बहुत सारी चीजें रहस्यमय हैं। उदाहरण के लिए, ऐसे कोई आधिकारिक रिकॉर्ड नहीं है कि कब उनके बचपन में उनके बाएं पैर का एक्सीडेंट हुआ था। हालांकि इस दुर्घटना के बारे में तारीखें स्पष्ट नहीं हैं, लेकिन जो बात स्पष्ट है वह है कि उन्होंने 1904 के ओलंपिक ग्रीष्मकालीन खेलों में सेंट लुइस, मिसौरी में एक ही दिन में छह पदक जीते थे।

30 अगस्त, 1870 को किएल, जर्मनी में जन्मे George Ludwig Friedrich Julius Eyser ने 14 साल की उम्र में अपने माता-पिता के साथ संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रवास किया था। डेनवर, कोलोराडो के आसपास के पहाड़ी देश में रुकने के बाद, Eyser सेंट लुइस, मिसौरी में बसे। यह जर्मन प्रवासियों के लिए एक लोकप्रिय मिडवेस्टर्न गंतव्य है। यहीं पर युवा George को एक स्थानीय निर्माण कंपनी में एक मुनीम के रूप में काम मिला।

अपनी शारीरिक कठिनाइयों से प्रभावित होकर, उन्होंने जिमनास्टिक्स में काम के बाद रुचि बनाए रखी, विशेष रूप से टर्नवरिन किस्म (जर्मन शब्दों से 'जिमनास्टिक्स का अभ्यास करने के लिए' और 'क्लब') में उनकी काफी रुचि रही। टर्नवरिन किस्म, 19वीं शताब्दी में अपने मूल देश में स्थापित, अमेरिकी संस्करण - टर्नर क्लब के रूप में जाना जाता है - यह जर्मन प्रवासियों के हर नए बैच के साथ संयुक्त राज्य अमेरिका में विकसित हुआ।

20वीं शताब्दी की शुरुआत में, अकेले सेंट लुइस शहर में ग्यारह टर्नर हॉल थे और देश भर में लगभग 316 क्लब थे जिनमें 42,000 से अधिक सदस्य थे।

सेंट लुइस पोस्ट-डिस्पैच ने 1904 के जिम्नास्टिक प्रतियोगिता को "टर्नर गेम्स" के रूप में संदर्भित किया, यह अतिशयोक्ति नहीं होगी कि, "यह [1904 प्रतियोगिता] बिना संदेह के टर्नर समाजों द्वारा आयोजित सबसे बड़ी प्रतियोगिता होगी।"

Eyser सेंट लुइस के दक्षिणी उपनगरों में कॉनकॉर्डिया टर्नवेरीन क्लब के सदस्य (जो आज भी मौजूद हैं) थे। कॉनकॉर्डिया के साथ उन्होंने 1904 खेलों में प्रतिस्पर्धा की थी, जिमनास्टिक प्रतियोगिता के रूप में तब क्लब टीमों में विभाजित किया गया था - राष्ट्र नहीं।

और जैसा कि कृत्रिम पैर जो उन्होंने उन खेलों में पहना था, यह घुटने के ऊपर जुड़ा हुआ था और ज्यादातर लकड़ी का बना था, जिसमें एक विस्तृत नक्काशीदार पैर भी शामिल था। जबकि हम इसे दुनिया के शुरुआत के कृत्रिम अंग कह सकते हैं, 1904 के खेलों से 40 साल पहले खत्म हुए अमेरिकी गृहयुद्ध की दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं के फलस्वरूप अमेरिका में उत्पाद के लिए एक बड़ा बाजार बनाने के साथ-साथ कृत्रिम अंगों के विज्ञान में भी उन्नति हुईं।

इवेंट

सेंट लुइस 1904 में आधुनिक युग के तीसरे ओलंपिक खेलों में Eyser ने धीरे-धीरे अपने कदम से छलांग लगानी शुरू कर दी। उन्होंने प्रतियोगिता में (जुलाई में) खराब प्रदर्शन किया। लेकिन उन्होंने इन क्षणों का पूरा फायदा उठाया। अक्टूबर में एक ही दिन के कार्यकाल में, जब उपकरण कार्यक्रम आयोजित किए गए थे, उन्होंने तीन स्वर्ण पदक जीते (1904 पहला वर्ष था जब ओलंपिक ने कप के आकार की ट्राफियों के बजाय स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक दिए थे)। Eyser ने पैरेलल बार्स, 25 फूट-रोप पर चढ़ने और लॉन्ग हॉर्स वॉल्ट इवेंट्स में तीन स्वर्ण पदक जीतें। हां, वॉल्ट, जो उन दिनों में एक स्प्रिंगबोर्ड की सहायता के बिना भी महान दूरी और ऊंचाइयों को तय करने और छलांग लगाने के लिए एथलीटों की आवश्यकता होती थी। 

उस दिन उनके अन्य स्वर्ण पदक के लिए श्रेय अकेले उनके ऊपरी-शरीर की ताकत को जाता है - या मुख्य रूप से - दिया जा सकता है, Eyser का वॉल्ट यह नहीं कर सकता था। 1904 के इवेंट में एथलीटों को लॉन्च करने और तीन अलग-अलग लैंडिंग करने की आवश्यकता थी।

Eyser ने पोमेल हॉर्स पर भी रजत पदक अर्जित किया, और चार-स्पर्धा में चारों ओर से प्रतिस्पर्धा करते हुए उन्होंने हॉरिजॉन्टल बार्स में कांस पदक भी जीता। उस दिन के उनके असाधारण प्रयासों ने उनके कॉनकॉर्डिया टर्नवेरीन क्लब को 1904 की टीम प्रतियोगिता में चौथे स्थान पर लाने में मदद की।

विरासत

बाद में, Eyser ने 1908 में (फ्रैंकफर्ट, जर्मनी में) और 1909 में (सिनसिनाटी, ओहियो में) अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धाओं में भी पदक जीतें।

दुर्भाग्य से Eyser, और जिमनास्टिक की दुनिया के लिए, उनका जीवन बहुत लंबा नहीं था। वर्षों की अनिश्चितता और उनकी अनुपस्थिति या मृत्यु का कोई सबूत नहीं मिलने के बाद, उनकी मृत्यु की तारीख को 6 मार्च 1919 के रूप में स्वीकार किया गया। वैसे ही कैसे उन्होंने अपने बाएं पैर के बड़े हिस्से को खो दिया था, यह भी बहुत अस्पष्ट था कि कैसे अविश्वसनीय जिम्नास्ट की मिर्त्यु हुई।

जबकि Eyser का निधन बहुत जल्द हुआ, उनकी विरासत लंबे और मजबूत समय तक बरकरार रहेगी। प्रोस्थेटिक लेग के साथ ओलंपिक खेलों में प्रतिस्पर्धा करने वाले पहले एथलीट के रूप में, उन्होंने दक्षिण अफ्रीकी तैराक, Natalie Du Toit जैसे खिलाड़ियों के बाद एथलीटों के लिए दरवाजा खोला, जिन्होंने 2008 के बीजिंग खेलों में भाग लिया था। 

अंत में उनके साथ जो कुछ भी हुआ, वह ओलंपिक रिकॉर्ड्स हमेशा के लिए George Eyser और उनकी 1904 की उपलब्धियों को याद रखेंगे।