Jessie Knight - ओलंपिक का सपना देखने वाली एक प्राइमरी स्कूल टीचर की कहानी

ग्रेट ब्रिटेन की Jessie Knight (Naomi Baker/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
ग्रेट ब्रिटेन की Jessie Knight (Naomi Baker/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

टोक्यो 2020 ने टीम ग्रेट ब्रिटेन की एथलीट और एक प्राइमरी स्कूल की टीचर के साथ एक चर्चा में लॉकडाउन से लेकर उनके स्कूल जीवन तक सभी चीजों के बारे में बात की, और अगले साल ओलंपिक खेलों को लेके उनकी क्या उम्मीदें हैं इस बारे में भी जाना।

पड़ोसियों को चौंकाना

जैसा कि ग्रेट ब्रिटेन लॉकडाउन के तहत है, एथलीट Jessie Knight प्रशिक्षण करने और खुद को फिट रखने के लिए नए तरीके खोज रही है। उनके लिए, वह सड़कों पर अभ्यास करती है और उनके पड़ोसी उनकी दौड़ को देख कर चौकन्ना रह जाते है।

उन्होंने कहा, "मैंने अपने कोच के साथ बात की और उन्होंने कहा कि हमें अपने प्लान के साथ टिके रहना है। इसलिए हमारे प्रशिक्षण सत्र में जयादा बदलाव नहीं आया है।"

"जब मैंने पूरी गति से अपनी सड़क के साथ 300 मीटर की दूरी तय की है, मेरे पड़ोसियों ने मुझे ऐसा करते हुए देखा और वो हैरान रह गए।”

Knight, जिन्होंने इस वर्ष में, 400 मीटर दौड़ में दुनिया का तीसरा सबसे तेज समय पोस्ट किया - मुख्य रूप से 400 मीटर हर्डलर होने के बावजूद - ने फैसला किया है कि यूके में चल रही संकट की स्थिति से निपटने के लिए एक सकारात्मक दृष्टिकोण बनाए रखना सबसे अच्छा तरीका है।

"मुझे लगता है कि शुरुआत में, यह सभी के लिए एक झटके की तरह था। बहुत सारे एथलीट निराश थे। लेकिन मुझे लगता है कि अब सभी ने इस फैसले को स्वीकार कर लिया है और आगे बढ़ गए हैं। इसलिए सबसे अच्छी बात यह है कि सकारात्मक बने रहें और अगले साल के खेलों में अच्छा प्रदर्शन करने के बारे में सोचें।"

View this post on Instagram

Looking for that post covid-19 life...

A post shared by Jessie Knight (@jessieknight400) on

कुछ सवाल जिनके जवाब देने मुश्किल है

इस लॉकडाउन ने लगभग हर किसी की मानसिकता को परेशान किया, जो इस साल टोक्यो में होने वाले खेलों में प्रतिस्पर्धा करने की सोच रहे थे। Knight उन एथलीटों से एक थी, जो खेलों की शुरुआत से पहले शानदार फॉर्म में थी।

उन्होंने कहा, "मैं इस साल ओलंपिक के लिए बहुत अच्छे आकार में थी, और मैं अच्छी फॉर्म में भी थी। बाद में ऐसा लगा कि सब कुछ मुझसे छीन लिया गया है।"

"मुझे विश्वास था कि मैं विश्व-स्तर पर प्रतिस्पर्धा कर सकती हूं, और फिर एक दम से यह सपना टूट गया।"

Knight - जिन्होंने फरवरी के ग्लासगो ग्रैंड प्रिक्स 400 मीटर को केवल 51.57 में जीतकर दुनिया को चौंका दिया - कहा कि उनके मन में अभी भी कुछ संदेह हैं।

आप देखें, Knight खुद को 400 मीटर का धावक बिलकुल नहीं मानती।

वास्तव में, लॉकडाउन के कारण, उन्हें उस अनुशासन में दौड़ लगाने का मौका ही नहीं मिला, जिसमें वह सबसे अच्छी है - हर्डलिंग।

"यह मेरे लिए शर्म की बात है क्योंकि मेरे वर्तमान आकार में 400 मीटर हर्डल्स दौड़ में नहीं दौड़ सकी। इसलिए, मुझे लगता है कि मैं 400 मीटर की फ्लैट दौड़ में बेहतर हूं। लेकिन, मुझे इस साल हर्डल्स दौड़ में भाग लेने को नहीं मिला।"

ग्रेट ब्रिटेन की Jessie Knight एप्सम में अपने घर के पास एक पार्क में ट्रेनिंग कर रही हैं। (Naomi Baker/ गेटी इमेज द्वारा फोटो
ग्रेट ब्रिटेन की Jessie Knight एप्सम में अपने घर के पास एक पार्क में ट्रेनिंग कर रही हैं। (Naomi Baker/ गेटी इमेज द्वारा फोटो
2020 Getty Images

लॉकडाउन की चुनौतियां

लॉकडाउन की इस अवधि में, Knight को कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ा - एक एथलीट के रूप में और एक प्राइमरी स्कूल के टीचर के रूप में भी।

लेकिन यह पूरी तरह से इतनी भी बुरी चीज नहीं है।

जैसा कि हाल ही में तीन साल पहले, Knight ने पूरी तरह से एथलेटिक्स छोड़ दिया था - क्योंकि उन्हें अपने काम / जीवन संतुलन को बनाए रखने में मुश्किल हो रही थी।

अब चूंकि टीचर्स उनके देश में घर से काम कर रहे हैं, इसलिए उनके लिए अब एक संतुलन बनाए रखना आसान है।

"मुझे लगता है कि यह आसान हो गया है, क्योंकि मैं घर से काम कर रही हूं, आम तौर पर सुबह नौ से शाम चार बजे तक। और फिर मैं प्रशिक्षण के लिए सीधे ट्रैक या पार्क जाती हूं।”

"अब, शाम के सात बजे तक, मेरी ट्रेनिंग खत्म हो जाती है। इससे पहले, मैं रात में नौ बजे तक ट्रेनिंग करती रहती थी।"

उससे ऊपर, अकेले ट्रेनिंग का मतलब है कि उनके पास कम विक्षेप हैं।

“जाहिर है जब आप अकेले ट्रेनिंग कर रहे होते हैं, तो कोई भी बात करने के लिए नहीं होता, इसलिए आपकी ट्रेनिंग थोड़ी जल्दी खत्म हो जाती है। हमारा वार्म-अप कभी-कभी बहुत लंबा समय ले सकता है, सिर्फ इसलिए कि हम बात करते रहते है।

टोक्यो के लिए तैयारी

Knight के जीवन के सबसे बड़े सवालों में से एक यह है कि वह टोक्यो में अगले साल होने वाले ओलंपिक के लिए प्रशिक्षण का प्रबंधन कैसे करेंगी, क्योंकि वह अन्य सभी एथलीट्स के समान स्तर पर प्रतिस्पर्धा करना चाहती है - जो इस समय में भी बेहतर होने के लिए काम कर रहे हैं ।

यह एक ऐसा सवाल है जिनका वह आने वाले समय में जवाब देना चाहती है।

"निश्चित रूप से, मैं स्कूल टीचर के रूप में काम करना जारी रखूंगी। मैंने वह नौकरी नहीं छोड़नी। लेकिन, हाँ, मैं एक एथलीट भी रहना चाहती हूं और अगले साल खेलों में प्रतिस्पर्धा करना चाहती हूं।"

“मेरा स्कूल हर तरह से बहुत सहायक है, इसलिए मेरी हेड-टीचर के साथ बहुत सारी बातें होती हैं और उन्होंने मुझसे कहा है कि वे किसी भी तरह मुझे सपोर्ट करेंगे। इसलिए मुझे लगता है कि अगले कुछ हफ्तों में मैं यह फैसला करुँगी।“

"अब चूंकि ओलंपिक को अगले साल के लिए स्थगित कर दिया गया है, मैं कोशिश करुँगी और अपना शत प्रतिशत दूंगी।"

भले ही वह एक स्कूल शिक्षक के रूप में अपनी नौकरी छोड़ने के बारे में नहीं सोच सकती, लेकिन वह समझती है कि एक पूर्णकालिक ओलंपियन होने के लिए उन्हें क्या करना होगा। अपने ओलंपिक लक्ष्य को बरकरार रखने के लिए उन्हें क्या करना है। वो जानती हैं बहुत ट्रेनिंग की जरूरत पड़ेगी।

"इस समय में मसाज करवाने या एक फिजियो के पास भी नहीं जा सकती क्यूंकि मेरे पास टाइम नहीं हैं। और अगर मुझे कोई चोट लग गई, जिसका मुझे डर है, तो मुझे फिजियो को दिखने जाना पड़ेगा और उसके लिए मेरेको अपना ट्रेनिंग सेशन भी मिस करना पड़ेगा।

'उनके अंदर की स्कूल टीचर'

Knight को एक प्राइमरी स्कूल टीचर बनने का जुनून था जो उन्होंने पूरा किया।

वह जानती है कि उन बच्चों को किस प्रकार की ट्रेनिंग देनी चाहिए, जो एथलेटिक्स में जाना चाहते हैं - और मुख्या लक्ष्य इसका आनंद लेना है।

"मुझे वह दिन याद हैं जब हम दौड़ में जाते थे और बिना किसी दबाव के परफॉर्म करते थे। हम बस रेस में अपना बेस्ट देना चाहते थे। तो इसलिए वहां जाए और रेस का आनंद ले। मज़े करे, ऐसा ही होना चाहिए।

यह एक फ़लसफ़ है जिसे Knight अपनी कक्षा में पढ़ाते समय अपनाती है - "मुझे लगता है कि वे वास्तव में इससे प्रेरित हैं!"

और बच्चों के प्रति उसका स्नेह स्पष्ट है।

"ईमानदारी से, वे बहुत अच्छे हैं। उन्हें लगता है कि मैं दुनिया की सबसे अच्छी एथलीट हूं, वे यह सब नहीं समझते हैं,' प्राइमरी स्कूल की टीचर ने कह।”

हकीकत में वापिस आना

Knight जानती है कि आज की वास्तविकता में किन बदलावों और चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है।

"सच कहूं, तो मुझे नहीं लगता कि हमें एक समूह के रूप में ट्रेनिंग करनी चाहिए।"

"जाहिर है मुझे पसंद होगा ऐसा करना, लेकिन फिलहाल की स्थिति देख कर, ऐसा करना ठीक नहीं होगा।"

"सच कहूं, बहुत सारे एथलीट्स ने अकेले ट्रेनिंग करना शुरू कर दिया है - मैंने भी कर लिया है। यह एहसास कुछ बहुत अच्छा नहीं था, पर पहले आपको यह महसूस करना होगा की आप ऐसा कर सकते है।"

“मुझे नहीं लगता की आने वाले वक़्त में हम एक समूह में ट्रेनिंग कर पाएंगे।”

टोक्यो कॉलिंग

हालाँकि Knight ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि वह स्कूल टीचर की नौकरी नहीं छोड़ना चाहती, लेकिन वह अगले साल टोक्यो में होने वाले ओलंपिक खेलों में प्रतिस्पर्धा करने में भी बहुत उत्सुक है - एक नहीं बल्कि दो इवेंट्स में - कुछ ऐसा जिसके बारे में उन्होंने कुछ समय पहले तक सोचा भी नहीं था।