फ़िजी रग्बी टीम के कप्तान Jerry Tuwai - कैसे गरीबी ने रग्बी खेलने के लिए किया प्रेरित

फ़िजी के Jerry Tuwai ने फ़िजी और दक्षिण अफ्रीका के बीच 2020 के सिडनी सेवेंस फ़ाइनल मैच के दौरान लाइन आउट पर मुकाबला किया। (Bradley Kanaris/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
फ़िजी के Jerry Tuwai ने फ़िजी और दक्षिण अफ्रीका के बीच 2020 के सिडनी सेवेंस फ़ाइनल मैच के दौरान लाइन आउट पर मुकाबला किया। (Bradley Kanaris/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

2019 वर्ल्ड प्लेयर ऑफ द ईयर ने अपने विश्व-प्रसिद्ध साइड-स्टेप के अप्रत्याशित स्रोत का खुलासा किया, कि उन्होंने अपने जूते पर ‘चाकू’ और ‘कांटा’ क्यों लिखा था, और ओलंपिक स्वर्ण पदक की महिमा ने फ़िजी को फिर से जीवंत करने में मदद क्यों की।

रग्बी सेवेंस में Jerry Tuwai यकीनन सबसे तेज खिलाड़ी हैं।

फिजियन अपने विरोधियों को साइड-स्टेप करने की क्षमता रखता है, और यहां तक कि अगर आप उसकी वीडियो इंटरनेट पर देखते हैं, तो वह आपको यही दिखाएगा।

लेकिन जहां इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसे देशों के उनके कई विरोधियों ने अकादमी में खेलकर अपने कौशल पर काम किया, वहीं Tuwai ने फ़िजी की राजधानी सुवा के एक छोटे से शहर में खेल सीखा।

रियो 2016 ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता ने फ़िजी के एक वीडियो लिंक पर कहा, "हम हर दोपहर स्कूल के बाद, न्यूटाउन में हमारे छोटे गोल चक्कर पर तीन-साइड टच रग्बी खेलते थे।"

"हमने अनुकूलन करना सीख लिया। मैंने सीखा कि कैसे स्टेप करना है, और कैसे डिफेन्स को तोड़ के निकलना है। उस तरह के सीमित स्थान में ट्राई स्कोर करने के लिए मैंने स्टेप करना सीखा।"

फिजी के लिए तुवाई ने जड़ा ट्राईस का हैट-ट्रिक
00:58

हालांकि खेल खेलने के लिए जगह कम थी, लेकिन इसने उन बच्चों को रग्बी के लिए अपनी रचनात्मकता या जुनून दिखाने से नहीं रोका - जो सिर्फ इसे खेलना चाहते थे।

एक गेंद के बजाय हम पानी की बोतल का इस्तेमाल करते थे और उसके अंदर कंकड़ पढ़े होते थे, और हम नंगे पैर खेला करते थे। कभी-कभी मैं घायल हो जाता और कंकड़ की वजह से दो-तीन नाखून भी निकल आते। लेकिन अगले दिन मैं फिर से वापिस खेलने आता था क्यूंकि मेरे को इसमें मजा आता था।

गरीबी में बड़े होना

Tuwai और उनका परिवार एक कमरे की झोंपड़ी में रहते थे, जहाँ पानी और बिजली नहीं थी। उनके पिता एक किसान के रूप में काम करते थे, जबकि उनकी माँ FJ$ 50 (US $22) के लिए एक गृहिणी के रूप में काम करती थी।

लेकिन अब, वह अपने जीवन में बहुत आगे आ गया है। वह दुनिया की यात्रा करता है, वह पांच सितारा होटलों में रहता है, उसे लास वेगास, केप टाउन और हांगकांग के स्टेडियमों में खेलने के लिए काफी पैसे भी दिए किया जाते है।

“मुझे स्कूल से बाहर निकाल दिया गया था, इसलिए मेरी माँ और पिताजी ने मुझे कुछ और करने के लिए कहा, और तब मैंने रग्बी की तरफ देखा। लेकिन क्यूंकि मैं छोटा था, इसलिए मेरे लिए इस खेल को चुनना मुश्किल था।”

"मेरे माता-पिता ने एक दिन मुझे बुलाया और कहा कि उन्होंने मेरे लिए एक नई जोड़ी के जूते खरीदे हैं - सफेद और नीले नाइके वाले।"

"जैसे ही मैंने वो जूतें अपने हाथ में पकडे मैं रोने लगा क्यूंकि मैं अपने घर के हालात जानता था। मेरे को पता हैं कैसे मेरे माँ और बाप ने इन जूतों के लिए पैसे बचा के रखे थे। उन्होंने मुझे कहा अब यही जीवन है, तुमें हम सब के लिए खाना अब यहीं से लाना है।"

उस क्षण से मैंने अपने जूते पर ’चाकू’ और ’कांटा’ लिखा, क्योंकि वे मुझे अपने परिवार के लिए भोजन देने में मदद करेंगे।

जेरी तुवाई: झुग्गी से निकलकर देश का नाम किया रोशन
06:49

अपनी बहनों के लिए स्कूल की फीस देना

रग्बी खेलना शुरू करने का निर्णय एक महान निर्णय था।

रग्बी खेलने से उन्हें कुछ पैसे कमाने में मदद मिली जिसके कारण वह अपनी बहनों को शिक्षा पूरी करने में मदद कर सके।

"एक शुक्रवार, मैं अपने दोस्तों के साथ घर पर चारों ओर खेल रहा था, मजाक कर रहा था और बात कर रहा था।"

"उस दोपहर एक लोकल रग्बी टीम मेरी तलाश में घर तक आ गई क्योंकि उन्हें सिगातोका में अगले दिन एक बड़े, प्रांतीय सेवेंस टूर्नामेंट में खेलने के लिए एक विंगर की जरूरत थी।

"मेरी माँ ने मुझे टीम से मिलने के लिए अपनी टैक्सी के किराए के लिए FJ $10 दिए, लेकिन क्यूंकि हमारे पास बहुत कुछ नहीं था, मैंने बस में सफर किया जिसका किराया FJ $1 था। अगले सोमवार मेरी दो बहनें परीक्षा में बैठने वाली थीं, लेकिन उनके स्कूल की फीस नहीं दी गई थी और उन्हें परीक्षा देने की अनुमति नहीं दी जा रही थी।

“इसलिए शनिवार को, मैंने भगवान से मुझे फिटनेस और ज्ञान देने की प्रार्थना की, ताकि हम टूर्नामेंट जीत सकें, और मैं अपनी बहनों की फीस जीत के साथ चुका सकूं।

उन्होंने कहा, "हमने तीन पूल गेम खेले और मैंने प्रत्येक गेम में दो ट्राई स्कोर किए । मैं सेमीफाइनल में चोटिल हो गया, लेकिन हमने टूर्नामेंट जीता और FJ$ 7,000 की पुरस्कार राशि को विभाजित किया। मैं घर वापस आया और मैंने अपनी मम्मी और पापा को वह सारा पैसा दे दिया, जिन्होंने मुझे कुछ पैसे लेने के लिए कहा, लेकिन मैंने कहा - नहीं, यह परिवार के लिए है और मेरी दो बहनों के लिए है।'

"उस पल से, मुझे पता था कि रग्बी के माध्यम से, मैं अपने परिवार की मदद कर सकता हूं, और इसने मुझे अपने रग्बी कैरियर को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित किया।"

जबकि पैसे की परेशानी अब Tuwai के लिए एक बड़ी चिंता का विषय नहीं है, फिर भी 31 वर्षीय अपने परिवार को खेलने के लिए एक प्रेरक कारक के रूप में उपयोग करता है।

"में अपने माता-पिता, मेरे भाइयों और बहनों को खुश देखना है। अब भी, जब मैं प्रशिक्षण लेता हूं और मैं थक जाता हूं और मैं हार मानना चाहता हूं, तब में अपने परिवार के उन संघर्षों के बारे में सोचता हूं और उन्होंने मेरे लिए क्या किया है, वे मेरी प्रेरणा के मुख्य स्रोत हैं, "उन्होंने कहा।

कैसे Ben Ryan ने मुझे कोच किया

Tuwai के रग्बी कैरियर के लिए अगला प्रमुख बढ़ावा अप्रत्याशित स्रोत से आया।

Ben Ryan को फिजी की रग्बी सेवेंस टीम के नए मुख्य कोच के रूप में नियुक्त किया गया था, और वह अपनी टीम के लिए कुछ शीर्ष श्रेणी के खिलाड़ियों को खोज रहे थे।

Ryan का ध्यान आकर्षित करने में Jerry Tuwai को ज्यादा समय नहीं लगा। नेशनल सेवेंस टूर्नामेंट के दौरान, फ़िजी के खिलाड़ी ने Ryan को कुछ अविश्वसनीय ट्राई से प्रभावित किया।

इसके तुरंत बाद, Jerry को राष्ट्रीय टीम के साथ प्रशिक्षित करने के लिए चुना गया। हालाँकि, ट्रेनिंग शेड्यूल की आदत डालने में Jerry को कुछ समय लगा।

"मुझे ट्रेनिंग करना बहुत ना पसंद था, बहुत," उन्होंने कहा। पहले ट्रेनिंग सेशन में, हमने चार 400m के चक्कर काटे। वहां इसके अलावा, नालियां और कुछ पौधे भी थे।

"दूसरे दौर में मैं Ben को देख रहा था, Ben मुझे देख रहा था, और मैं उससे छुपने के लिए नाले में खुद गया, और तब तक वहां रहा जब तक उन्होंने मुझे बुलाया नहीं।"

"Ben को बात करना पसंद था और वह प्रेरक भाषणों में बहुत अच्छा था। मैं कभी नहीं भूल सकता कि उन्होंने मुझे उस दिन क्या बताया था - कभी हार नहीं मानने के बारे में। यह कुछ ऐसा था जो मेरे को मेरे माँ और बाप ने बचपन में सिखाया था।

पॉडकास्ट: बेन रयान - फिजी के गोल्ड मेडल जीत में मुख्य भूमिका निभाते एक कोच
25:04

Ryan ने प्रशिक्षण के नए तरीकों को अपनाया, और उन्होंने अपने खिलाड़ियों को सिगातोका के पास के रेत के टीलों में जो अभ्यास कराया, वह रग्बी सेवेंस सर्किट में प्रसिद्ध हो गया।

“Ryan हमें हमारे शरीर या हमारी फिटनेस को प्रशिक्षित करने के लिए उन रेत के टीलों पर नहीं ले गया, लेकिन वह हमें अपनी मानसिकता को प्रशिक्षित करने के लिए वहां ले गया। वह हमें मानसिक दृढ़ता देना चाहते थे जिसका उपयोग हम पिच पर कर सकते थे जब हम प्रतियोगिताओं में थक जाते थे।”

साइक्लोन विंस्टन

रग्बी सेवेंस फिजी का राष्ट्रीय खेल है, और देश का मूड आंतरिक रूप से विदेशों में अपनी टीम के प्रदर्शन से जुड़ा हुआ है।

जहां लोग वर्ल्ड सीरीज़ पर हर जीत के बाद सड़क पर जयकार करते हैं और गाते हैं, वहीं टीम ज़रूरत पड़ने पर अपने लोगों की भावनाओं को उठाने में भी मदद करती है।

2016 की शुरुआत में, दक्षिणी गोलार्ध में अब तक के सबसे शक्तिशाली ट्रॉपिकल तूफान ने फ़िजी को मारा और काफी नुक्सान पहुंचाया।

साइक्लोन विंस्टन की 280 किमी / घंटा (175 मील प्रति घंटा) की हवाओं ने 44 लोगों की जान ले ली। इसके अलावा 40,000 घर नष्ट हो गए, जिससे 1.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर का नुकसान हुआ।

"जब तूफान ने हमारे देश को मारा तो हम लास वेगास की उड़ान पर थे। हमें इसकी भयावहता का अनुभव नहीं था।"

“Osea Kolinisau हमारा कप्तान था और वह एक लीडर था। वह वास्तव में हमारे जैसे छोटे लड़कों को प्रेरित करने में अच्छा है, और उसने हमें बताया कि फ़िजी में रग्बी सब कुछ है। भले ही देश पीड़ित था, फिर भी लोग हमें खेलने और देखने के लिए पहाड़ों पर चढ़ेंगे। फ़िजी के सभी लोग देख रहे थे, और हम उनका मनोबल बढ़ा सकते हैं और फिजी में खुशी ला सकते हैं।"

एक भावनात्मक फाइनल में, फ़िजी ने ऑस्ट्रेलिया को हराने के लिए 15 अंकों के घाटे को उलट दिया, अपनी जीत को उन लोगों को समर्पित किया जिन्होंने अपने घर को खो दिया था।

ओलंपिक खुशी

फ़िजी ने उस वर्ष विश्व श्रृंखला का दावा करने के लिए लास वेगास में उस जीत की गति का इस्तेमाल किया, साथ ही रियो 2016 में रग्बी सेवेंस का पहला ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता।

फाइनल में ग्रेट ब्रिटेन की टीम को 43-7 के स्कोर से हराकर, फ़िजी की इस टीम ने इतिहास रच दिया। जैसा कि यह पहली बार था कि प्रशांत राष्ट्र ने ओलंपिक खेलों में पदक जीता था, देश में लोगों ने इसे मुस्कुराहट और खुशी के साथ मनाया था और इसने एक राष्ट्र को अंत में एकजुट होने में मदद की।

"मैं इस तरह का सपना नहीं देख सकता था, खेल में सबसे बड़ा पुरस्कार हमारे लिए होगा।“

जब हम फ़िजी हवाई अड्डे पर पहुँचे, तो वहां का नज़ारा देखने वाला था।

उन्होंने कहा, “हमारे जीवन के सभी क्षेत्रों के लोग वहां खड़े थे। तब आपको एहसास होता है कि आपने वास्तव में कुछ बड़ा किया है।”

रग्बी सेवन टीम ने जीता फिजी के लिए पहला गोल्ड मेडल
00:55

जिम्मेदारी को पूरा करना

जबकि फ़िजी के कई ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता उस जीत के बाद या तो रिटायर हो गए, या यूरोप में आकर्षक 15-ए-साइड रग्बी अनुबंध पर हस्ताक्षर करने के लिए टीम को छोड़ दिया, Tuwai सेवेंस में प्रभुत्व के एक नए युग की शुरुआत करने के लिए रुके।

2018 में वर्ल्ड रग्बी सेवेंस प्लेयर ऑफ द ईयर नामित होने से पहले, उन्हें टीम की कप्तानी से पुरस्कृत किया गया था।

"मुझे लगता है कि कप्तान होने की सारी ज़िम्मेदारी, बहुत सारे पुरस्कार जीतना और यह सब सामान हमें एक बेहतर रग्बी खिलाड़ी और मजबूत व्यक्ति बनने के लिए प्रेरित करता है। लेकिन मेरा जीवन, मैं टीम में अपने भाइयों के बिना हासिल नहीं कर सकता।”

"मैं टोक्यो में खेलना चाहता हूं, लेकिन उससे पहले चीजें ठीक होनी चाहिए। अभी, मैं रग्बी खेलने का आनंद लूंगा और देखूंगा कि भगवान मुझे कहां ले जाता है।"

ओलंपिक चैनल द्वारा!