ओलंपिक सपने को हासिल करने की कगार पर इंजीनियरिंग के छात्र Thomas Chirault

तीरंदाजी विश्व कप 2018 स्टेज 3 में पुरुषों के फाइनल के दौरान फ्रांस के Thomas Chirault (गेटी इमेज के माध्यम से Dean Alberga/World Archery Federation द्वारा फोटो)
तीरंदाजी विश्व कप 2018 स्टेज 3 में पुरुषों के फाइनल के दौरान फ्रांस के Thomas Chirault (गेटी इमेज के माध्यम से Dean Alberga/World Archery Federation द्वारा फोटो)

22 वर्षीय ने 2017 विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीता था और वर्तमान में दुनिया में 15वें स्थान पर हैं, लेकिन इसके साथ-साथ वह इंजीनियरिंग की पढ़ाई भी कर रहे हैं और नैनो मैटिरियल्स का शौक रखते हैं। उन्होंने टोक्यो 2020 में खेलों में पदक जीतने के अपने सपने के बारे में बताया और कैसे उन्होंने अपने प्रशिक्षण के साथ अपनी पढ़ाई को संतुलित करने की योजना बनाई।

फोकस

यह Thomas Chirault का मुख्य काम है। Paris-Sorbonne University में एक इंजीनियरिंग छात्र और एक एलीट तीरंदाज के रूप में, उन्हें वास्तव में आराम करने का मौका नहीं मिलता। वह दिन में दो बार प्रशिक्षण लेते हैं, पूरे सप्ताह कक्षाओं में भाग लेते हैं और रात में अपना कोर्स पूरा करते हैं।

संतुलन और लय को बनाए रखना वास्तव में मुश्किल है, लेकिन अब, उन्होंने इस सब को अनुकूलित कर लिया है।

"लय अब कई वर्षों से इसी तरह है," उन्होंने कहा।

"यह हमेशा आसान नहीं होता है, दिन, अनुसूची - वे बहुत व्यस्त हैं। सबसे पहले, मुझे दो घंटे की कक्षा में फोकस्ड रहना होता है और फिर मुझे प्रशिक्षण के दौरान भी फोकस्ड रहना होता है।"

नैनो मटेरियल रिसर्च

भले ही वह दुनिया में 15वें स्थान पर हैं, फिर भी उनकी पढ़ाई जारी रखने की योजना है। वह चार या पांच साल में ग्रेजुएट होने का लक्ष्य रखते हैं।

अपनी पढ़ाई और अभ्यास के बीच संतुलन बनाए रखने के अलावा, आर्चर नैनो मैटिरियल्स में भी दिलचस्पी रखते हैं - जो कि मैटर के छोटे एलिमेंट्स हैं जो एक बाल के व्यास से 10,000 गुना छोटे हैं।

"मैं सिर्फ तीरंदाजी नहीं गुना चाहता। मैं पहले से ही अपना बहुत सारा समय इसके लिए समर्पित करता हूं और मैं कुछ और भी करना चाहूंगा। मुझे नैनो मैटेरियल्स बहुत पसंद हैं और मैं अपनी रिसर्च के माध्यम से उन्हें खोजना चाहता हूं।"

दूसरी ओर, रिसर्च के लिए उनका जुनून तीरंदाजी के लिए उनके प्यार में हस्तक्षेप नहीं करता है।

22 साल की उम्र में, वह फ्रांस में खेल के भविष्य का प्रतिनिधित्व करते हैं, और उनका रिकॉर्ड पहले से ही उत्कृष्ट है, खासकर टीम इवेंट में।

एक प्रभावी तिकड़ी

तिकड़ी के हिस्से के रूप में रियो 2016 के रजत पदक विजेता Jean Charles Valladont और उनके साथी देशवासी Pierre Plihon शामिल है, जबकि Chirault 2017 से दुनिया की यात्रा कर रहे है।

साथ में, उन्होंने बर्लिन 2017 विश्व कप चरण और 2019 यूरोपीय खेलों में स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने 2018 विश्व चैंपियनशिप में रजत भी जीता जब आर्चर केवल 19 वर्ष के थे और उन्होंने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट, एक्सपेर्टीज़ एंड परफॉर्मेंस (INSEP) में अपनी शुरुआत की थी।

यह उनके करियर की सबसे बड़ी जीत है।

"मैं तब भी एक जूनियर था और मैंने वरिष्ठ प्रतियोगिता में प्रतिस्पर्धा की थी," Chirault ने याद किया। "यह मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि है।”

अब तक, फ्रांसीसी टीम को ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना बाकी है। 2019 विश्व चैंपियनशिप में, केवल शीर्ष आठ टीमें क्वालीफाई कर सकती थी और फ्रांसीसी टीम नौवें स्थान पर थी, इसलिए, वे नहीं कर सकीं। टोक्यो में अपनी जगह का दावा करने के लिए, फ्रांसीसी टीम को पेरिस में अगली गर्मियों में फाइनल विश्व टीम क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट (FTQT) के दौरान तीन शेष स्थानों में से एक को जीतने की आवश्यकता होगी।

उन्होंने कहा, "हम एक-दूसरे को अच्छी तरह जानते हैं और एक साथ ओलंपिक पदक जीतना बहुत अच्छा होगा।"

एक नहीं दो लक्ष्य

लेकिन Chirault के लक्ष्य केवल टीम इवेंट तक ही सीमित नहीं हैं।

टीम स्पर्धा के लिए अर्हता प्राप्त करने के अलावा, वह व्यक्तिगत स्पर्धा के लिए क्वालीफाई करने का भी लक्ष्य बना रहे हैं - कुछ ऐसा जो वह तुर्की में अगले यूरोपीय चैंपियनशिप में हासिल करने की उम्मीद करेंगे।

एक और पदक जो उनके दिल में एक विशेष स्थान रखता है, वह है कांस्य पदक जो उन्होंने अमेरिका के साल्ट लेक सिटी में 2018 विश्व कप चरण के दौरान जीता था। आपको बता दे, उस दिन हवा बहुत तेज़ चल रही थी।

"मैंने खुद को साबित किया कि मैं अपने दम पर भी सफल हो सकता हूं," Chirault ने कहा। "यह पदक बहुत अच्छा था क्योंकि सब कुछ मुझ पर निर्भर था - और मैं सफल रहा।"

हालांकि, यह उनके लिए सबसे आसान दिन नहीं था। उन्हें पहले लंबे समय तक इंतजार करना पड़ा और फिर बाद में प्रशिक्षण के दौरान वह टारगेट को हिट करने से भी चूक गए।

"काफी देर तक, मैं अपने दिमाग में मैच के बारे में सोच रहा था।"

"मैं अपने आप से कह रहा था कि मैं आश्वस्त था और परिणाम उसी तरह होना था। मैदान पर जाने से पहले मैंने प्रशिक्षण किया और मेरा दिमाग कहीं और था और मैं टारगेट को हिट करने से चूक गया। इसके बावजूद, मैंने मेरा आत्मविश्वास नहीं खोया और मैंने अपने कोच को देखा और कहा कि यह उतना बुरा नहीं था, मुझे पता था कि यह ठीक होने वाला था।"

लेकिन जब निर्णायक क्षण आया और उन्हें मैच जीतने के लिए 10 की आवश्यकता थी, तो Chirault ने फोकस नहीं खोया और टारगेट पर हिट किया - उन्होंने परफेक्ट 10 मारा और मैच जीत लिया।

"मैं दूसरे नंबर पर आने के लिए प्रतिस्पर्धा नहीं कर रहा"

Chirault पहले से ही ओलंपिक के बारे में सोच रहे हैं। वह आश्वस्त हैं कि योग्यता प्राप्त करने के लिए उनकी संभावनाएं अच्छी है।

"मुझे पता है कि मैं व्यक्तिगत इवेंट में कुछ करने के लिए काफी अच्छा हूं। मैं दूसरे नंबर पर आने के लिए प्रतिस्पर्धा नहीं कर रहा, क्यूंकि मैं हमेशा से जीतने का लक्ष्य रखता हूं।“

Chirault जानते हैं कि उनका लक्ष्य क्या है और वह यह भी जानते हैं कि उन पर कुछ दबाव जरूर होगा।

"ओलंपिक खेल यही कारण है कि मैं तीरंदाजी करता हूं। मैंने अतीत में दबाव को संभाला है, लेकिन मुझे पता है कि ओलंपिक का दबाव मुझे बहुत परेशान कर सकता है।"

"इसलिए मैं पहले से तैयारी करने की कोशिश करता हूं। मैं खुद को प्रतिस्पर्धा, भाग लेते हुए, चरणों से गुजरता और जीतता हुआ महसूस करता हूं।