डेनमार्क ओपन 2020: Antonsen, Okuhara ने जीते ख़िताब  

जापान की OKUHARA Nozomi रियो 2016 ओलिंपिक खेलों में खेलती हुई।
जापान की OKUHARA Nozomi रियो 2016 ओलिंपिक खेलों में खेलती हुई।

Antonsen और OKUHARA को करना पड़ा कड़े मुकाबलों का सामना 

विश्व नंबर तीन Anders Antonsen ने Rasmus Gemke को 18-21, 21-19, 21-12 हरा कर 2020 डेनमार्क ओपन में पुरुषों का सिंगल्स ख़िताब अपने नाम कर लिया। वहीँ दूसरी ओर महिलाओं के सिंगल्स फाइनल में जापान की OKUHARA Nozomi ने स्पेन की Carolina Marin को सीधे गेम में परास्त कर ख़िताब अपने नाम किया।

Gemke ने दी Antonsen को कड़ी टक्कर

अपना पहला डेनमार्क ओपन जीतने के लिए Anders Antonsen को अपने ही देश डेनमार्क के Rasmus Gemke का सामना करना पड़ा। CHOU Tien Chen को हराने के बाद Antonsen को इस फ़ाइनल के लिए प्रबल दावेदार माना जा रहा था।

Rasmus Gemke ने अपने खेल स्तर को बढ़ाते हुए मैच में बेहतरीन शुरुआत करि और आक्रामक खेल द्वारा Antonsen को चकित कर दिया। वह निरंतर आक्रमण करते रहे और एक कड़े मुकाबले के बाद पहले गेम को जीत लिया।

पहले गेम में Gemke की जीत से Antonsen को काफी धक्का लगा और उन्होंने मैच में बने रहने के लिए अपने रक्षात्मक खेल पर विश्वास रखा। Gemke ने कुछ महत्वपूर्ण क्षणों में गलती करि और इसका फायदा उठाते हुए 23 वर्षीय Antonsen ने दूसरा गेम 21-19 जीत कर मैच को बराबर कर दिया। 

अंतिम गेम में Antonsen ने अपने कौशल का परिचय देते हुए बेहद आक्रामक खेल दिखाया और गेम 21-12 जीत कर मैच अपने नाम किया।

ख़िताब से चूक जाने के बाद, Gemke ने कहा, 'मैंने दो बहुत महत्वपूर्ण गलतियां करि और मुझे इस बात का बहुत दुःख है। मेरी रणनीति में कोई कमी नहीं थी लेकिन शायद हवा के कारण मैंने शटल को बहुत ज़्यादा दाएं की तरफ मार दिया। अंतिम गेम में मेरी रणनीति ठीक थी लेकिन Anders बहुत अच्छा खेले और इस बात के लिए उनकी सराहना करनी होगी।'

OKUHARA ने ख़िताब जीत के साथ भेजा प्रतिद्वंदियों को संदेश 

महिलाओं के सिंगल्स फाइनल में दो सर्वोच्च खिलाड़ियों का मुकाबला था और बैडमिंटन विश्व कि निगाहें इसी मैच पर थी। Marin का व्यक्तिगत रिकॉर्ड OKUHARA के खिलाफ बहुत अच्छा था इसलिए उनके पास मनोवैज्ञानिक बढ़त थी। स्पेन की ओलिंपिक स्वर्ण पदक विजेता ने कुछ बहुत ही कमल के शॉट खेले लेकिन जापान की विश्व नंबर दो ने हर पॉइंट पर उन्हें करारा जवाब दिया।

पहला गेम जब 18-18 पर बराबर था, OKUHARA ने Marin द्वारा करि हुई गलती का फायदा उठाया और 21-19 से गेम अपने नाम कर लिया। Marin ने पूरे मुकाबले में बहुत सी गलतियां करि जिसकी वजह से उन्होंने अच्छा खेलने के बाद भी काफी अंक गवा दिए। इसका पूरा फायदा OKUHARA को हुआ और उन्होंने दूसरा गेम 21-17 से अपने नाम किया और उसी के साथ ख़िताब भी जीत लिया। 

ख़िताब जीतने के बाद OKUHARA ने कहा, 'मैं बहुत खुश हूँ क्योंकि मैंने बहुत समय के बाद एक ख़िताब जीता है। Marin अन्य खिलाडियों के मुकाबले बहुत तेज़ और आक्रामक हैं जिसकी वजह से मैंने अपने रक्षात्मक खेल पर ध्यान दिया। मुझे लगता है आज मैं अच्छा खेली और मेरे पैरों की चाल बहुत अच्छी थी।'