क्रोएशियाई वाटर पोलो एथलिट फिर से उड़ान भरने के लिए तैयार है

क्रोएशिया के Maro Jokovic ने 2019 फिना वर्ल्ड चैंपियनशिप में मेंस वाटर पोलो ब्रॉन्ज मेडल मैच के दौरान हंगरी के खिलाफ गोल करने के बाद जश्न मनाया। (Quinn Rooney/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
क्रोएशिया के Maro Jokovic ने 2019 फिना वर्ल्ड चैंपियनशिप में मेंस वाटर पोलो ब्रॉन्ज मेडल मैच के दौरान हंगरी के खिलाफ गोल करने के बाद जश्न मनाया। (Quinn Rooney/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)

वाटर पोलो के खेल का क्रोएशिया में एक गौरवपूर्ण इतिहास रहा है।

यूगोस्लाविया के संघीय गणराज्य के दिनों के दौरान, सात क्रोएशियाई मूल के खिलाड़ी मैक्सिको सिटी 1968 खेलों में पहली ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता टीम का हिस्सा थे। कई साल बाद लंदन 2012 ओलंपिक में, क्रोएशिया ने एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में, वाटर पोलो में अपना पहला स्वर्ण पदक जीता।

क्रोएशिया की पुरुषों की वाटर पोलो टीम देश की सबसे सफल राष्ट्रीय टीम रही है, जिसने कई विश्व और यूरोपीय चैम्पियनशिप खिताब जीते हैं। वे अटलांटा 1996 और एथेंस 2004 में स्वर्ण पदक जीतने वाली क्रोएशिया की पुरुषों की हैंडबॉल टीम के बाद ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली दूसरी राष्ट्रीय टीम बनी है।

जबकि क्रोएशिया रियो 2016 में स्वर्ण पदक जीतने से चूक गया, क्योंकि वे अपने प्रतिद्वंद्वी सर्बिया से हार गए, टोक्यो 2020 उन्हें एक बार फिर पोडियम में लौटने का मौका देगा।

रजत पदक विजेता, क्रोएशिया ने रियो 2016 ओलंपिक खेलों में मेंस वाटर पोलो के लिए पदक समारोह के दौरान पोडियम पर पोज दिया। (Ryan Pierse / गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)
रजत पदक विजेता, क्रोएशिया ने रियो 2016 ओलंपिक खेलों में मेंस वाटर पोलो के लिए पदक समारोह के दौरान पोडियम पर पोज दिया। (Ryan Pierse / गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)
2016 Getty Images

Maro Jokovič के लिए, जो 2006 से स्थापित राष्ट्रीय टीम का हिस्सा हैं, का उद्देश्य खेलों में अपने देश के लिए स्वर्ण पदक जीतना है।

उन्होंने कहा, "हमेशा की तरह, सिर्फ हम ही नहीं, बल्कि ओलंपिक में जाने वाली सभी राष्ट्रीय टीमों का लक्ष्य सिर्फ स्वर्ण पदक जीतना है।"

क्रोएशिया में वहाँ बच्चों के लिए वाटर पोलो जैसे वाटर स्पोर्ट्स खेलकर अपनी गर्मियों की छुट्टियां बिताना बहुत आम है।

Jokovič, जो अभी 32 साल के हैं, उन्होंने अपने गृहनगर Dubrovnik के पास Gusar Water Polo Club में सात साल की उम्र में वाटर पोलो खेलना शुरू किया। वह अब याद करते हैं कि कैसे उन्हें खेल से परिचित कराया गया।

"गर्मियों के दौरान, हम सभी के लिए पूल में तैरना और पानी में वाटर पोलो खेलना सामान्य था," उन्होंने कहा। "हालांकि, यह ऑटम के सीजन के दौरान था कि मैंने एक युवा खिलाड़ी के रूप में एक क्लब के लिए साइन अप किया था, और उसी क्षण से मैंने पेशेवर के रूप में खेलना शुरू कर दिया।"

टोक्यो 2020 ओलंपिक खेल Jokovič के चौथे ओलंपिक खेल होंगे - जिन्होंने बीजिंग में 2008 में ओलंपिक में अपनी शुरुआत की थी। इन 12 वर्षों में उन्होंने जो सफर तय किया है, उन्हें उसपे बहुत गर्व है।

उन्होंने कहा, "मैं कल्पना भी नहीं कर सकता था कि मैं चौथे ओलंपिक खेलों में उतरूंगा।"

"12 साल एक लंबा समय है, इन सालों में बहुत कुछ बदल गया है। मुझे अलग-अलग पीढ़ियों के खिलाड़ियों के साथ खेलने का अवसर मिला है।"

उन्होंने कहा, “सभी लोगों और टीम के साथियों के साथ रहना और दोस्ती करना बहुत अच्छा था। वे सभी महान लोग और उत्कृष्ट खिलाड़ी थे जिन्होंने क्रोएशियाई वाटर पोलो इतिहास के सुनहरे पन्नों में अपनी जगह बनाई है।”

लंदन 2012 ओलंपिक खेलों में मेंस वाटर पोलो में इटली के खिलाफ स्वर्ण पदक मैच जीतने के बाद, क्रोएशिया के Maro Jokovič ने जश्न मनाया।
लंदन 2012 ओलंपिक खेलों में मेंस वाटर पोलो में इटली के खिलाफ स्वर्ण पदक मैच जीतने के बाद, क्रोएशिया के Maro Jokovič ने जश्न मनाया।
Al Bello/Getty Images

लंदन 2012 खेलों में स्वर्ण पदक जीतना Jokovič के करियर का सबसे महान क्षण है।

क्रोएशिया अटलांटा 1996 खेलों में स्वर्ण पदक जीतने से चूक गया था, फाइनल में स्पेन से 7-5 से हार गया था। यह क्रोएशिया की वाटर पोलो टीम के लिए पहला ओलंपिक भी था क्योंकि वे युगोस्लाविया के टूटने के कारण चार साल पहले क्वालीफाई नहीं कर पाए थे।

उसके बाद क्रोएशिया की वाटर पोलो टीम को ओलंपिक में अपना पहला स्वर्ण पदक जीतने के लिए 16 साल तक इंतजार करना पड़ा।

Jokovič ने मैच में शानदार प्रदर्शन करते हुए क्रोएशिया के लिए तीन गोल दागे।

ओलंपिक पार्क में वाटर पोलो एरिना में अंतिम बजर बजने के बाद, क्रोएशियाई खिलाड़ियों और कोचों ने जश्न मनाया। फाइनल में इटली के खिलाफ स्वर्ण पदक जीतकर उन्हें इतनी खुशी हुई कि क्रोएशियाई वाटर पोलो टीम के सभी सदस्य पूल में कूद गए। जश्न मनाते हुए उन्होंने गोल को नीचे गिरा दिया और पानी में उसके ऊपर बैठ गए।

हालांकि, अब भी, Jokovič उस क्षण के दौरान अपनी भावनाओं का वर्णन करने के लिए सटीक शब्द नहीं खोज पा रहे है।

"हमारी क्रोएशियाई भाषा में सही शब्द ढूंढना बहुत मुश्किल है जो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद हमें मिली भावना को व्यक्त करेगा। यह कुछ ऐसा है जिसका हम लंबे समय से इंतजार कर रहे थे।"

“हमें 1996 में मौका मिला था लेकिन तब हम नहीं जीत पाए और फिर हमें लगभग 20 साल इंतजार करना पड़ा। मुझे खुशी है कि मैं गोल्डन ओलंपिक पीढ़ी का हिस्सा था।”

क्रोएशिया के Maro Jokovic लंदन 2012 ओलंपिक खेलों में क्रोएशिया और इटली के बीच मेंस वाटर पोलो गोल्ड मेडल मैच के दौरान स्कोर करने के बाद जश्न मनाते हैं। (Adam Pretty/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
क्रोएशिया के Maro Jokovic लंदन 2012 ओलंपिक खेलों में क्रोएशिया और इटली के बीच मेंस वाटर पोलो गोल्ड मेडल मैच के दौरान स्कोर करने के बाद जश्न मनाते हैं। (Adam Pretty/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2012 Getty Images

फिलहाल, क्रोएशिया को टोक्यो 2020 के लिए क्वालीफाई करना बाकी है। वे FINA वर्ल्ड चैंपियनशिप और FINA वर्ल्ड लीग दोनों में क्वालिफाई करने से चूक गए, जहां वे क्रमशः तीसरे और दूसरे स्थान पर रहे।

उनके पास इस साल मार्च में Rotterdam में आयोजित होने वाले विश्व योग्यता टूर्नामेंट में ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने का एक अंतिम मौका था। ग्रीस और मोंटेनेग्रो के साथ क्रोएशिया टोक्यो 2020 के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए पसंदीदा थे।

हालांकि, COVID-19 के प्रकोप के कारण टूर्नामेंट को अब स्थगित कर दिया गया है। Jokovič का मानना है कि इससे क्रोएशिया को योग्यता की तैयारी के लिए अधिक समय मिलेगा।

"ओलंपिक हमारी पहुंच के भीतर थे और हम शारीरिक और मानसिक रूप से पूरी तरह से तैयारी कर रहे थे," उन्होंने कहा।

जनवरी में 2020 मेंस वाटर पोलो यूरोपीय चैंपियनशिप में पदक नहीं जीतने के बावजूद यह क्रोएशियाई टीम सकारात्मक बनी हुई है। वास्तव में, क्रोएशिया पिछले 12 महीनों में सभी तीनों मेजर के सेमीफाइनल तक ही पहुंचा था और उसके बाद भी दुनिया में दूसरे नंबर पर बना हुआ है।

हालांकि, टीम का मानना है कि परिणाम चाहे जो भी हो, उन्हें एक साथ रहना चाहिए और एक दूसरे पर भरोसा करना चाहिए।

"यह केवल उन लोगों के साथ है जिन पर आप भरोसा करते हैं और आप जानते हैं कि वे आपके साथ सभी स्थितियों में रहेंगे, कि आप पदक जीतेंगे लेकिन जब हम हार गए तो कोई उंगली नहीं उठा रहा था ... हम एक समूह के रूप में समझ गए थे कि हम एक यूरोपीय चैम्पियनशिप पदक हार गए थे,” Jokovič ने कहा।

“एक टीम के रूप में, हम कांस्य पदक (विश्व चैंपियनशिप में) से भी संतुष्ट थे। हमें पता था कि अगर हमने खेल पर अधिक ध्यान केंद्रित किया होता, तो हम उस दिन जीत गए होते।"

क्रोएशियाई खिलाड़ियों ने 2019 FINA विश्व चैंपियनशिप में हंगरी के खिलाफ अपने कांस्य पदक मैच जीत का जश्न मनाया। (Quinn Rooney/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
क्रोएशियाई खिलाड़ियों ने 2019 FINA विश्व चैंपियनशिप में हंगरी के खिलाफ अपने कांस्य पदक मैच जीत का जश्न मनाया। (Quinn Rooney/ गेटी इमेज द्वारा फोटो)
2019 Getty Images

अगले साल ओलंपिक खेलों में, चार प्रमुख टीमें स्वर्ण पदक के लिए लड़ रही होंगी - ओलंपिक चैंपियंस, सर्बिया, विश्व चैंपियंस, इटली, यूरोपीय चैंपियंस, हंगरी और स्पेन।

यूरोपीय देशों के अलावा - जिन्होंने ओलंपिक में इस खेल में अधिकांश पदक जीते हैं, यह संयुक्त राज्य अमेरिका है, जो एकमात्र गैर-यूरोपीय देश है, जिसने पुरुषों की प्रतियोगिता में पदक जीता है।

हालांकि, खेलों के पिछले दो संस्करणों में फाइनल में पहुंचने के बाद, Jokovič का मानना है कि क्रोएशिया एक बार फिर अगले साल टोक्यो खेलों में लंदन के नायकों को दोहरा सकता है।

"हम आशावादी हैं, हमने रियो ओलंपिक के बाद से बहुत मेहनत की है और हमें विश्वास है कि हम अगले साल अपना लक्ष्य हासिल कर सकते हैं।"