बुल्गारिया के दो खिलाड़ी जिनकी टोक्यो 1964 ओलिंपिक खेलों के दौरान हुआ विवाह

बुल्गारिया के खिलाड़ी Nikola Prodanov और Diana Yorgova 1964 टोक्यो ओलिंपिक खेलों के बीच आयोजित अपने विवाह के दौरान बात करते हुए।
बुल्गारिया के खिलाड़ी Nikola Prodanov और Diana Yorgova 1964 टोक्यो ओलिंपिक खेलों के बीच आयोजित अपने विवाह के दौरान बात करते हुए।

वर्ष 1964 के अक्टूबर महीने में टोक्यो ने पहली बार ओलिंपिक खेलों की मेज़बानी करि थी और हम आपको बताएंगे उस प्रतियोगिता के कुछ ऐतिहासिक क्षण जो 56 साल बाद आज भी याद किये जाते हैं। इस बार हम आपको बताएंगे बुल्गारिया के Diana Yorgova और Nikola Prodanov की अद्भुत खेल और प्रेम कहानी। 

पहले की कहानी

Diana Yorgova और Nikola Prodanov पहली बार बुल्गारिया कि एक खेल प्रतियोगिता में मिले थे। 

Yorgova एक प्रतिभाशील लॉन्ग जम्पर थी और Prodanov एक कुशल जिम्नास्ट थे और वह दोनों प्रेमी बनने से कई वर्षों पहले तक मित्र थे।

बुल्गारिया में जन्मीं Yorgova 1940 और 1950 के दशक में बड़ी हुई और उनका पूरा जीवन ओलिंपिक खेलों पर केंद्रित था लेकिन उन्हें यह नहीं पता था टोक्यो में होने वाले खेल उनके संसार को हमेशा के लिए बदल देगा। 

दोनों खिलाड़ियों ने पहले ही निर्णय ले लिया था कि 1964 ओलिंपिक खेलों के बाद 26 मई को Prodanov के जन्मदिन के दिन विवाह कर लेंगे लेकिन बुल्गारिया के जापानी दूत का विचार कुछ और था।

जब बुल्गारिया के अधिकारी ने इन दोनों के प्रेम संबंध के बारे में सुना तो उन्होंने दोनों को अपने घर पर खाने के लिए बुलाया और पुछा कि क्या वह योयोगी ओलिंपिक विलेज में स्थित अंतर्राष्टीर्य क्लब में विवाह करने के लिए तैयार थे या नहीं।

दोनों का उत्तर हाँ था लेकिन Yorgova को भीतर थोड़ा दुख भी हुआ। इस निर्णय के बारे में बात करते हुए, उन्होंने कहा, "मुझे बहुत चिंता हो गयी थी क्योंकि मुझे लगा था कि मेरा विवाह माता पिता, मित्रों और रिश्तेदारों की उपस्थिति में होगा लेकिन वह बहुत दूर थे। मैं उत्साहित थी लेकिन भीतर ही मुझे थोड़ा दुःख भी हो रहा था।"

"हम अपने माता पिता से संपर्क भी नहीं कर सकते थे और न ही उनका आशीर्वाद ले पाए। उन्हें भी हमारे विवाह के बारे में रेडियो, टेलीविज़न और समाचार पत्रों से पता चला।"

Yorgova ने अपने माता पिता से दूर विवाह ज़रूर किया लेकिन उन्होंने आने वाले वर्षों में ओलिंपिक पदक जीत कर अपने परिवार को गर्वान्वित कर दिया। उन्होंने इस प्रतियोगिता के प्रबल दावेदारों में से नहीं गिना जा रहा था और उन्होंने 6.24 मी की छलांग के साथ छठा स्थान हासिल किया।

इस बारे में उन्होंने कहा, "जब मैंने अपना नाम स्टेडियम के बोर्ड पर देखा और फाइनल में अपना स्थान बना लिया तो मेरी ख़ुशी की कोई सीमा नहीं थी। मेरा सपना सच हो गया था।"

"वह क्षण मैं जीवन भर नहीं भूल पाऊँगी और मुझे यह ज्ञात हुआ कि मैंने अपने कोच, टीम, राष्ट्र और अपने आप को किया हुआ वादा पूरा किया है। मेरे सुख की कोई सीमा नहीं थी।"

वहीँ दूसरी ओर Prodanov अपनी जगह जिमनास्टिक्स के फाइनल में अपनी जगह न बना पाए लेकिन उन्हें अपने होने वाले विवाह और अपनी प्रेमिका के साथ नया जीवन शुरू करने लिए उत्सुक थे।

बुल्गारिया के खिलाड़ी Nikola Prodanov और Diana Yorgova 1964 टोक्यो ओलिंपिक खेलों  बीच आयोजित अपने विवाह के दौरान
बुल्गारिया के खिलाड़ी Nikola Prodanov और Diana Yorgova 1964 टोक्यो ओलिंपिक खेलों बीच आयोजित अपने विवाह के दौरान
Bulgarian Gymnastics Federation.

अहम् क्षण

अपनी प्रतियोगिताओं में भाग लेने के बाद दोनों खिलाड़ी अपने विवाह के लिए तैयार थे।

उन दोनों विवाह को 56 साल चुके हैं लेकिन अगर आप Yorgova से उस अनुभव के बारे में पूछें तो ऐसे लगेगा जैसे वह क्षण अभी एक घंटा पहले हुआ हो।

वह बताती हैं, "मैंने एक बहुत खूबसूरत सफ़ेद रंग की पोशाक पहनी थी और मैंने Nikola को पहली बार टक्सीडो में देखा था। मुझे ऐसा लगा कि हम दोनों किसी कहानी में राजकुमार और राजकुमारी हैं।"

"पूरा हॉल लोगों से भरा हुआ था और हमारा विवाह देखने के लिए खिलाड़ी, कोच, अधिकारी और कई पत्रकार आये थे। जापान के इम्पीरियल कोर्ट के प्रतिनिधि Kyogi-san ने हमारे विवाह के सारे कर्तव्य पूरे किये और हमारे लिए यह बहुत सम्मान की बात थी। हमारा विवाह ओलिंपिक झंडे और ओलिंपिक मशाल के एक बहुत बड़े पोस्टर के सामने हुआ।

"हमने साके का एक घूँट पिया, एक दुसरे को अंगूठियां पहनाई और एक बहुत ही सुन्दर केक काटा। वह क्षण मैं कभी नहीं भूल पाऊँगी क्योंकि एक परंपरागत नृत्य के बाद हम दोनों ने एक बुलेट ट्रैन पकड़ी और जापान की प्राचीन राजधानी क्योटो में अपना हनीमून बनाने के लिए निकल गए।"

उनका हनीमून केवल एक दिन का ही था क्योंकि अगले दिन टोक्यो में होने वाले ओलिंपिक खेल समापन समारोह में भाग लेना था।

Yorgova ने कहा, "Nikola और मैंने सब लोगों के प्रेम का अनुभव किया और वह हमारे लिए बहुत खुश थे। हम दोनों उनसे मिले, काफी बातें करि और उनके साथ फोटो भी खिचवाई।"

"हमारे हनीमून के दौरान हम जहाँ भी गए, लोगों ने हमें पहचाना, मिले और आशीर्वाद दिया। हमें इतने आकर्षण कि इतनी आदत नहीं थी इसलिए हम दोनों को बहुत ख़ुशी महसूस हुई।"

आगे की कहानी

पिछले 56 सालों में Yorgova और Prodanov साथ में जापान वापस नहीं गए लेकिन उनका भव्य विवाह और टोक्यो की यादें अभी भी ताज़ा हैं।

Yorgova कहती हैं, "टोक्यो, ओसाका और क्योटो ने हमारे 56 साल के खूबसूरत विवाहित जीवन का प्रारम्भ किया और वह सदैव हमारे दिल में रहेंगे।"

Prodanov और Yorgova की दो बेटियां हैं और उनमे से पहली 1972 ओलिंपिक खेलों से पहले पैदा हुई थी। दोनों पति पत्नी से अगर उनके विवाह की सफलता का राज़ पूछें तो जवाब अलग होंगे।

दोनों ही आने वाले टोक्यो ओलिंपिक खेलों के लिए उत्साहित हैं और अपने पुराने समय को अभी भी याद करते हैं।

Prodanov कहते हैं, "टोक्यो वही जगह है जहाँ हमारे परिवार की शुरुआत हुई थी और 56 साल पूरे हो चुके हैं। जापान की सभ्यता, संस्कृति, इतिहास और मानवता हमारे परिवार के लिए एक आदर्श हैं।"