रियो खेलों में मिले थे झटके, लेकिन क्या अब टोक्यो में पूरे होंगे सपने?

फ्रांस के Samir Ait Said ने 2019 में 49वीं FIG आर्टिस्टिक जिम्नास्टिक वर्ल्ड चैंपियनशिप के दौरान मेन्स रिंग्स फाइनल में अपनी रूटीन के बाद जश्न मनाया। (Laurence Griffiths/ गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)
फ्रांस के Samir Ait Said ने 2019 में 49वीं FIG आर्टिस्टिक जिम्नास्टिक वर्ल्ड चैंपियनशिप के दौरान मेन्स रिंग्स फाइनल में अपनी रूटीन के बाद जश्न मनाया। (Laurence Griffiths/ गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)

आइए नज़र डालते हैं उन एथलीट्स पर जो चोट के कारण रियो 2016 खेलों में भाग नहीं ले सके थे और अब अगले साल टोक्यो में होने वाले ओलंपिक खेलों में प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार हैं।

जब ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने की बात आती है, तो एथलीट्स अपने सपने को सच करने के लिए हर संभव कोशिश करते हैं। हालांकि कुछ एथलीट इसे प्राप्त करने में सफल हो जाते हैं, अन्य ऐसा करने में विफल होते हैं।

रियो 2016 में, कुछ एथलीट्स कई कारणों से ओलंपिक खेलों में भाग नहीं ले सके।

लेकिन अब ये एथलीट समय पर ठीक हो गए हैं और टोक्यो जाने और अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए तैयार हैं। आइए नज़र डालते हैं उन एथलीट्स पर –

Richie Porte (साइकिलिंग रोड)

2016 में इतना अच्छा प्रदर्शन करने के बाद, ऑस्ट्रेलियाई सड़क साइकिल चालक Richie Porte रियो 2016 में अपने पहले ओलंपिक खेलों में अपना 100% देने के लिए आशान्वित थे।

हालांकि, योजना के अनुसार चीजें नहीं हुईं। प्रतियोगिता के पहले दिन, Porte, Vista Chinesa में अन्य सवारों से टकरा गए। उनका स्कैपुला टूट गया और उन्हें रियो अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। परिणामस्वरूप, उनका सपना ओलंपिक पदक विजेता बनने के लिए बिखर गया।

अपने निराशाजनक रियो के अनुभव के एक साल बाद, Porte ने वर्ल्ड टूर व्यक्तिगत क्लासिफिकेशन में भाग लिया और 12वें स्थान पर रहे। 2019 में, उन्होंने टूर डी फ्रांस में 10वां स्थान हासिल किया।

भले ही उन्हें अभी तक टीम में नहीं चुना गया है, लेकिन Porte को अगले साल के टोक्यो ओलंपिक में अपना सर्वश्रेष्ठ देने का भरोसा है।

"यह एक ओलंपिक वर्ष है और मैं टोक्यो में स्टार्ट लाइन पर रहना चाहता हूं," उन्होंने इस साल की शुरुआत में The Examiner को बताया था। "यह मेरे लिए एक बहुत बड़ी प्रेरणा है।"

इस बीच, अन्य साइकिल चालक भी थे, जिन्होंने रियो खेलों 2020 में इसी भाग्य का सामना किया था। इटली के Vincenzo Nibali की कॉलर की हड्डी टूट गई थी, जबकि कोलंबिया के Sergio Henao को उनके श्रोणि में फ्रैक्चर हुआ था और छाती में आघात भी हुआ था। ग्रेट ब्रिटेन के Geraint Thomas को भी कुछ चोटें आईं, हालांकि वह भाग लेने के लिए लौट आए, लेकिन वह पदक नहीं जीत सके।

Javier Gomez Noya (ट्रायथलन)

पांच बार के विश्व चैंपियन, स्पेन के Javier Gomez Noya को एक साइकिल दुर्घटना में अपनी बाईं बांह को फ्रैक्चर करने के बाद रियो 2016 से बाहर होना पड़ा।

Noya के प्रतियोगिता से बाहर होने के साथ, उनके प्रतिद्वंद्वियों - ग्रेट ब्रिटेन के ब्राउनली भाइयों - Alistair और Jonny ने क्रमशः स्वर्ण और रजत पदक जीता।

Noya के अनुसार, रियो 2016 के खेलों में बेहतर तरीके से भाग न ले पाना उनके खेल करियर के सबसे कठिन क्षणों में से एक रहा। यूरोपीय चैंपियन और लंदन 2012 के रजत पदक विजेता रियो में भी स्वर्ण पदक जीतने के पसंदीदा थे।

2019 तक, Noya पूर्ण फॉर्म में वापस आ गए थे। उन्होंने अपने गृहनगर Pontevedra में वर्ल्ड ट्रायथलन लॉन्ग डिस्टेंस वर्ल्ड चैंपियनशिप जीती। उसके बाद, उन्होंने आयरनमैन मलेशिया भी जीता।

हालांकि, जब स्पेन लॉकडाउन में था, तब भी Noya ने प्रशिक्षण जारी रखा।

"लॉकडाउन के अंतिम सप्ताह मेरे लिए एक ऑफ-सीज़न की तरह थे। मैंने अपने शरीर को ठीक होने दिया, मैंने इसे रिचार्ज होने दिया और मैंने अपनी फिटनेस पर काम किया ताकि मैं साल के अंत में फिर से नए सिरे से शुरुआत कर सकूं," उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर कहा।

View this post on Instagram

A lot of uncertainty about races in the near future, but it’s good to keep focused on the process. I heard that it’s hard for the athletes to keep motivated without goals. Well, improve, get better as athletes... It is a simple goal but at the same time a very hard one to achieve. Work on that! And it will pay off when the races eventually happen. . Hay mucha incertidumbre acerca de carreras importantes en un futuro próximo, pero es bueno mantenerse concentrado en el proceso y trabajar para mejorar pequeñas cosas. He oído que a los atletas les cuesta mantener la motivación sin carreras a la vista. Bueno, tratad de mejorar, trabajad para ser mejores atletas. Algo simple pero a la vez muy difícil de conseguir y que requiere mucho trabajo. Se verá reflejado en las carreras, cuando las haya.

A post shared by Javier Gómez Noya (@jgomeznoya) on

Sarah Menezes (जूडो)

Menezes लंदन 2012 में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली ब्राजील की जुडोका थी। हालांकि घरेलू 2016 रियो ओलंपिक खेलों में कई लोगों का मानना था कि वह इतिहास दोहराएंगी और फिर से स्वर्ण पदक का दावा करेंगी।

लेकिन दुर्भाग्य से, ऐसा नहीं हुआ। अपने पहले दौर में, वह क्यूबा की 17वें स्थान पर रहीं Dayaris Mestre Alvarez से हार गई और रेपेचेज राउंड के दौरान, उन्हें एक घातक झटका मिला जब मंगोलिया की Urantsetseg Munkhba ने उन्हें एक आर्मबार में पकड़ लिया, जिसके परिणामस्वरूप उनकी कोहनी डिस्लोकेट हो गई। पराजित और घायल होने के बाद, Menezes को ओलंपिक विलेज में अस्पताल ले जाना पड़ा।

भले ही वह ओलंपिक खेलों में कुछ भी नहीं जीत पाई, लेकिन Menezes ने कैनकन में 2017 ग्रैंड प्रि में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया जहां उन्होंने रजत पदक जीता। अगले साल ग्रैंड प्रि Tbilisi और Antalya में, उन्होंने कांस्य पदक भी जीता।

इस वर्ष, चूंकि ब्राजील ने खेल आयोजनों पर कुछ प्रतिबंध लगाए हैं, ओलंपिक खेलों की तैयारी के लिए ब्राजील के जूडो स्क्वाड का हिस्सा बनने के लिए Menezes इस जुलाई और अगस्त में पुर्तगाल के लिए रवाना होंगी।

View this post on Instagram

Finalizando o treino de hoje 😛

A post shared by Sarah Menezes (@menezessarah) on

Annemiek van Vleuten (साइकिलिंग रोड)

एक और एथलीट जो रियो 2016 के दौरान एक भयानक दुर्घटना का शिकार हुई, वह डच साइकिल चालक Annemiek van Vleuten थी। वह दौड़ का नेतृत्व कर रहीं थी जब वह अचानक से अपनी बाइक से गिरी और सड़क पर उनका सिर लगा। वह फिनिश लाइन से केवल 10 किमी दूर थी।

कन्कशन से पीड़ित होने और रीढ़ की हड्डी में तीन दरारें आने के बाद, Van Vleuten को अस्पताल ले जाया गया।

Van Vleuten ने ट्विटर पर पोस्ट किया, "मैं अब कुछ चोटों और फ्रैक्चर के साथ अस्पताल में हूं लेकिन मैं ठीक हो जाऊंगी। मैं निराश हूं कि मैं अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ रेस पूरी नहीं कर सकी।"

हालांकि, उनके देश की Anna van Breggen ने स्वर्ण पदक जीता।

लेकिन एक साल बाद ही, Van Vleuten ने अपना शीर्ष स्थान हासिल कर लिया। वह 2018 UCI महिला विश्व टूर जीतने के बाद दो बार की ट्रायल वर्ल्ड चैंपियन बनीं और फिर 2019 UCI रोड रेस वर्ल्ड चैंपियनशिप में अपनी जीत का सिलसिला बरकरार रखा।

जैसा कि Union Cycliste Internationale (UCI) ने अपने कैलेंडर को 2020 के लिए संशोधित किया था, इन दिनों, Van Vleuten साथी एथलीट्स के साथ इस सितंबर के पहले आयोजन की तैयारी के लिए ट्रेनिंग कर रही हैं।

"मुझे पता है कि मैं निश्चित रूप से दो और वर्षों तक जारी रखूंगी, क्यूंकि मैं ओलंपिक वर्ष में समाप्त नहीं होना चाहती थी," उन्होंने कहा, "इसलिए मैं दो साल के लिए कहीं और हस्ताक्षर करना चाहती हूं," Van Vleuten ने डच साइकिलिंग वेबसाइट De Leiderstrui को बताया ।

View this post on Instagram

Back at it!

A post shared by Annemiek van Vleuten (@annemiekvanvleuten) on

Ariya Jutanugarn (गोल्फ)

थाईलैंड की सुपरस्टार, Ariya Jutanugarn ने हाल ही में 2016 का महिला ब्रिटिश ओपन जीता था। उस समय दुनिया की नंबर 2 रैंक की खिलाड़ी एक प्रमुख गोल्फ खिताब जीतने वाली अपने देश की एकमात्र महिला गोल्फर बनी थी।

इसलिए रियो 2016 में - 1900 के बाद पहली ओलंपिक महिला गोल्फ टूर्नामेंट में प्रतिस्पर्धा करते समय Jutanugarn से उम्मीदें बहुत अधिक थी। हालांकि, उनके बाएं घुटने में चोट के कारण उन्हें राउंड 3 से बाहर होना पड़ा।

"मैं बहुत निराश थी क्यूंकि यह ओलंपिक था, मैंने अपने कैडी को भी कहा था, मैं इसे पूरा करना चाहती हूं," 2016 में Jutanugarn ने ESPN को बताया था।

लेकिन सिर्फ एक हफ्ते बाद, वह मजबूत होकर लौटी और कैनेडियन पैसिफ़िक महिला ओपन का नेतृत्व कर रहीं थी। इस बीच, 2016 के बाद से, 2018 में यूएस महिला ओपन जीतकर और 2017 में दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी बन कर - उन्होंने लगातार साबित किया है कि वह दुनिया की शीर्ष खिलाड़ियों में से एक क्यों है।

अब चूंकि खेलों को अगले साल तक के लिए स्थगित कर दिया गया है, Jutanugarn - जो वर्तमान में ओलंपिक रैंकिंग में 14वें स्थान पर हैं - ने अभी तक टोक्यो खेलों के बारे में बात नहीं की है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि गोल्फ के लिए उनका जुनून खत्म हो गया है, यह अभी भी वहाँ है।

"गोल्फ के लिए मेरा जुनून निश्चित रूप से अभी भी है। मैं इस साल भी अपनी पूरी कोशिश करूंगी, लेकिन खुद पर बहुत अधिक दबाव नहीं डालूंगी। मैं खुशी से गोल्फ खेलना चाहती हूं।"

Samir Aït Saïd (कलात्मक जिमनास्टिक)

फ्रांसीसी जिम्नास्ट, Samir Aït Saïd यूरोपीय चैंपियनशिप में वॉल्ट में प्रदर्शन के बाद अपने दाहिने टिबिया को घायल करने के बाद लंदन 2012 ओलंपिक खेलों के लिए अर्हता प्राप्त करने में विफल रहे। लेकिन जिम्नास्ट को उम्मीद थीं कि वह रियो 2016 में एक मजबूत प्रदर्शन दे सकते हैं।

हालांकि, बदकिस्मती ने फिर उनका पीछा किया। रियो 2016 में वॉल्ट में क्वालिफिकेशन राउंड के दौरान, वह फिसल गए और उनका पैर बुरी तरह से घायल हो गया, यहां तक कि डॉक्टर्स ने भी उन्हें बताया कि वह कम से कम चार महीने तक नहीं चल पाएंगे।

लेकिन एक साल बाद, Aït Saïd समरसाल्ट्स करते नज़र आ रहे थे। 

उस घातक दिन को देखते हुए, Aït Saïd ने L'equipe को बताया: "यह मेरा भाग्य था।"

"जीवन में बदतर चीजें भी हैं लेकिन मैं अच्छे स्वास्थ्य में हूं, यह जरूरी बात है। आपको इसे संदर्भ में रखना होगा।"

अक्टूबर 2019 में, स्टटगार्ट में वर्ल्ड जिम्नास्टिक चैंपियनशिप में रिंग्स फ़ाइनल में Aït Saïd ने कांस्य पदक जीता। इसने उन्हें टोक्यो 2020 में एक बार फिर फ्रांस का प्रतिनिधित्व करने के लिए योग्य बनाया।

"मुझे अभी आराम करने की ज़रूरत है," उन्होंने कहा। क्योंकि मैं उस ओलंपिक पदक को पाने के लिए बहुत मेहनत करूंगा।