Agnes Keleti: दुनिया की सबसे ज्यादा उम्रदराज़ जीवित ओलंपिक चैंपियन का अविश्वसनीय जीवन

Agnes Keleti ने अपना 100वां जन्मदिन मनाया।
Agnes Keleti ने अपना 100वां जन्मदिन मनाया।

ओलंपिक खेलों का इतिहास चैंपियंस, रिकॉर्ड्स और कहानियों से भरा है, लेकिन वे अजीब, मजाकिया, भावनात्मक और दुखद क्षणों का एक अविश्वसनीय विश्वकोश भी हैं। हम आपके चेहरे पर एक मुस्कान या आपकी आँख में आँसू लाने के लिए हर हफ्ते कुछ नया और रोमांचक वाक़या अपने पिटारे से लेकर आएंगे। इस सप्ताह: जानें आप दुनिया की सबसे ज्यादा उम्रदराज़ जीवित ओलंपिक विजेता, Agnes Keleti की कहानी - जो हाल ही में 100 वर्ष की हुई हैं।

बैकग्राउंड

"हार्दिक बधाई और आपके जन्मदिन की शुभकामनाएं। आपकी कहानी वास्तव में प्रेरणादायक है।"

वो पाँच बार ओलंपिक जिम्नास्टिक की स्वर्ण पदक विजेता और सबसे उम्रदराज ओलंपिक चैंपियन रहीं। Agnes Keleti के जन्मदिन के संदेश में IOC के अध्यक्ष, Thomas Bach के शब्द थे जिन्होंने हाल ही में अपना 100वां जन्मदिन मनाया।

लेकिन Agnes Keleti की अविश्वसनीय कहानी - ऐसी कहानी जिसे हम शायद फिर से कभी न सुन पाए - खेलों में उनकी भागीदारी से बहुत पहले शुरू हुई और उनका जीवन ओलंपिक आत्मा की विजय का प्रतिनिधित्व करता है।

9 जनवरी 1921 को हंगरी के बुडापेस्ट में जन्मीं Agnes Keleti पहली बार चर्चा में तब आयीं थीं जब उन्होंने 16 साल की उम्र में राष्ट्रीय जिमनास्टिक चैंपियनशिप जीती - ऐसा रिकॉर्ड जिसे 1956 में अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता से अपनी सेवानिवृत्ति से पहले उन्होंने नौं बार दोहराया।

Keleti, जो यहूदी हैं, ने खेलों के रद्द होने से पहले टोक्यो 1940 ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करने की योजना बनाई थी। हालांकि द्वितीय विश्व युद्ध के प्रकोप से ओलंपिक खेल रद्द हो गए थे। इसके अलावा, उन्होंने अपनी जन्म भूमि को नाज़ियों के कब्जे में पाया और उन्हें जीवित रहने के एवज़ में एक ईसाई लड़की बनकर रहने के लिए मजबूर भी किया गया था।

"हंगरी में, सभी यहूदियों की पहचान के लिए एक पीला सितारा पहनने की आवश्यकता थी, लेकिन मैंने मना कर दिया," उसने एक हालिया साक्षात्कार में समझाया। "अपने झूठे कागजात के साथ मैं देश में भागने में कामयाब रही। मैं एक दूरदराज के गाँव में नौकरानी के रूप में काम करती रही।”

Keleti तो युद्ध में बच गयीं, लेकिन उसके पिता सहित परिवार के कई सदस्य - इतने भाग्यशाली नहीं थे। कुल मिलाकर, 550,000 हंगेरियन यहूदियों को नाज़ी शासन द्वारा मार दिया गया था।

युद्ध के अंत के बाद, 27 वर्षीय Keleti लंदन 1948 खेलों में प्रतिस्पर्धा करने के लिए पूरी तरह से तैयार थी, इससे पहले कि वह खेलों में भाग ले पाती, एक लिगामेंट की चोट ने उनकी भागीदारी की संभावना को समाप्त कर दिया।

इसका मतलब यह है कि Keleti ने 31 साल की उम्र में आखिरकार 1952 में हेलसिंकी में ओलंपिक खेलों में पदार्पण किया।

नेशनल ओलंपिक कमेटी, इज़राइल 1952-1996 - Agnes KELETI (हंगरी) - ओलंपिक चैंपियन और ओलंपिक खेलों हेलसिंकी 1952 और मेलबर्न 1956 में जिमनास्टिक्स में पदक विजेता, उन्होंने इज़राइली जिमनास्टिक्स टीम को भी कोचिंग दी है।
नेशनल ओलंपिक कमेटी, इज़राइल 1952-1996 - Agnes KELETI (हंगरी) - ओलंपिक चैंपियन और ओलंपिक खेलों हेलसिंकी 1952 और मेलबर्न 1956 में जिमनास्टिक्स में पदक विजेता, उन्होंने इज़राइली जिमनास्टिक्स टीम को भी कोचिंग दी है।
© 1952 / Pressebildberichter/W.Rohrlapper

फाइनल

जिम्नास्टिक एक ऐसा खेल है, जहां उम्र मायने रखती है। जबकि यहां अपवाद भी हैं - जैसे Oksana Chusovitina - जिन्होंने 41 साल की उम्र में रियो 2016 में प्रतिस्पर्धा की थी। हालांकि पिछले ओलंपिक में जिमनास्ट की औसत आयु 19 थी। हेलसिंकी 1952 में, औसत जिमनास्ट 23 साल की थी, हंगरी की Keleti से पूरे नौ साल छोटी, जो आखिरकार ओलंपिक मंच पर अपनी शुरुआत करने की तैयारी कर रही थी।

लेकिन Keleti की यश और कीर्ति को पाने की तलाश में उनकी उम्र कभी आड़े नहीं आई।

उन्होंने न केवल चार पदक जीते, बल्कि उन्होंने इस प्रतियोगिता में ओलंपिक इतिहास में अपना नाम लिखते हुए फ्लोर प्रतियोगिता में भी स्वर्ण पदक हासिल किया।

मेलबर्न में चार साल बाद, Keleti का सितारा सही मायने में चमकने लगा। एक प्रतियोगिता में, जहाँ वह दिग्गज सोवियत जिमनास्ट, Larisa Latynina के खिलाफ थी, Keleti ने कुल छह पदक जीते, जिनमें से चार स्वर्ण जीते।

उनके रिकॉर्ड बनाने की होड़ ने उन्हें न केवल खेलों में सबसे सफल जिम्नास्ट बनाया, बल्कि उस वर्ष के ओलंपिक के सबसे अधिक सजे हुए एथलीट का ख़िताब भी उन्हें ही मिला।

अब तक वह मात्र 35 वर्ष की थीं।

प्रेरणादायक ओलंपियन Agnes Keleti ने अपना 100वां जन्मदिन मनाया

दुनिया की सबसे पुरानी जीवित ओलंपिक चैंपियन, Agnes Keleti ने हाल ही में अपना 100वां जन्मदिन मनाया। ओलंपियन ने अपने पूरे करियर में 10 पदक जीते - जिनमें से पाँच स्वर्ण पदक थे। वीडियो कर्टसी - हंगेरियन ओलंपिक समिति।

वर्ष का परिणाम

मेलबोर्न Keleti के लिए ओलंपिक का स्वांसोंग साबित हुआ, क्योंकि उसके गृह देश में संघर्षों का ओलंपिक खेलों पर बहुत बुरा असर पड़ा था, सबसे ज्यादा अफसोस की बात तब हुई जब सोवियत और हंगेरियन वॉटर पोलो टीमें एक ग्रज मैच में आमने सामने आईं, जिसे "पानी में खून" के रूप में जाना गया।

जब प्रतियोगिता अंतिम चरण में थी, तो Keleti ने अपने गृह देश लौटने के खिलाफ फैसला किया और 1957 में इज़राइल से बाहर निकलने से पहले ऑस्ट्रेलिया में राजनीतिक शरण प्राप्त की।

1959 में शादी करने और एक परिवार शुरू करने के बाद, उन्होंने तेल अवीव विश्वविद्यालय और नेतन्या में खेल के लिए विंग इंस्टीट्यूट में शारीरिक शिक्षा प्रशिक्षक के रूप में काम किया। इसके अलावा उन्होंने इजरायली राष्ट्रीय जिम्नास्टिक टीम को भी अपने शारीरिक शिक्षा के ज्ञान से सराबोर किया।

2015 में, - मेलबर्न खेलों के 59 साल बाद 94 साल की उम्र में, Keleti ने अपने जन्म के देश में एक बार फिर से बुडापेस्ट में निवास किया।

अब उनके पास जश्न मनाने का एक अलग कारण है क्योंकि वह उत्साह के साथ जीवन के 101 वें वर्ष की शुरुआत कर रही है।

"इन 100 वर्षों ने मुझे 60 की तरह महसूस कराया," उन्होंने अपने जन्मदिन के अवसर पर कहा।

वे एक एथलीट के लिए उपयुक्त शब्द हैं जिन्होंने उम्र को नकारते हुए सबसे पुराना ओलंपिक जिम्नास्टिक स्वर्ण पदक विजेता बनने का और अब सबसे अधिक उम्रदराज जीवित ओलंपिक चैंपियन का रुतबा हासिल किया।