Agbegnenou - स्थगन को स्वीकार करना बहुत कठिन था

रियो 2016 ओलंपिक खेलों में फ्रांस की Clarisse Agbegnenou और जापान की Miku Tashiro महिला -63 किग्रा सेमीफाइनल मुकाबले के दौरान प्रतिस्पर्धा करती हैं। (Ryan Pierse/ गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)
रियो 2016 ओलंपिक खेलों में फ्रांस की Clarisse Agbegnenou और जापान की Miku Tashiro महिला -63 किग्रा सेमीफाइनल मुकाबले के दौरान प्रतिस्पर्धा करती हैं। (Ryan Pierse/ गेटी इमेजेज द्वारा फोटो)

फ्रेंच जुडोका और चार बार की विश्व चैंपियन खेलों के स्थगन से बुरी तरह प्रभावित थी। घोषणा के एक महीने बाद, वह कहती है कि वह बेहतर महसूस कर रही है। फिलहाल, वह कुछ अलग कौशल पर काम कर रही है, ताकि अगले साल खेलों में स्वर्ण पदक के लिए लड़ सके।

फ्रांसीसी एजेंसी AFP के साथ एक साक्षात्कार में, Clarisse Agbegnenou ने कहा कि खेलों के स्थगित होने की घोषणा ने उन्हें एक शॉक दिया था। उन्होंने स्वीकार किया कि वह खबर पढ़ने के बाद रोई भी थी।

फ्रेंच जुडोका, चार बार की विश्व चैंपियन और रियो 2016 -63 किलो की रजत पदक विजेता, टोक्यो 2020 में ओलंपिक स्वर्ण का दावा करने के लिए कड़ी मेहनत कर रही थी - एकमात्र खिताब जो उन्होंने नहीं जीता। हालांकि, वह जानती है कि स्थगन स्पष्ट रूप से सही विकल्प था, उन्हें शुरू में इससे स्वीकार करने में समय लगा।

"यह वास्तव में बुरा था। मैं बहुत रोई और बात भी नहीं करना चाहती थी," उन्होंने याद किया।

"यह मुश्किल था क्योंकि मेरे पास एक लक्ष्य था और चार साल तक मैंने इसके लिए बहुत मेहनत की थी। मैंने इसके लिए बहुत बलिदान किए थे। यह मुश्किल था, यह लंबा था और अभी खेल शुरू होने में चार महीने बाकी थे। लेकिन नहीं, यह हमसे दूर चला गया और हमें दोबारा एक साल के लिए ट्रेनिंग करने के लिए कहा गया।

"बेशक, मैंने खुद से कहा, 'Clarisse, आप देखते हैं कि स्थिति असंभव है, कि आप प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकते ... कोई भी नहीं कर सकता है, स्वास्थ्य पहले आता है'।

"लेकिन मैं मानती हूं कि मुझे लगा कि शायद हम इसका हल ढूंढ सकते हैं। लेकिन नहीं, ऐसा नहीं हुआ। खेलों का स्थगन सबसे अच्छा फैसला है।"

एक मुलाक़ात क्लेरिसे एग्बेग्ननौ के साथ - जन्म से ही हैं एक सच्ची फ़ाइटर
01:51

निप्पॉन बुडोकन - ओलंपिक स्थल जिसे वह अच्छी तरह से जानती है

27 साल की उम्र में, उन्होंने सभी खिताब जीते हैं, लेकिन ओलंपिक स्वर्ण पदक नहीं।

रियो 2016 खेलों में, वह स्लोवेनिया की Tina Trstenjak से हार गई। एक साल बाद, उन्होंने 2017 विश्व जूडो चैम्पियनशिप में उसके खिलाफ जीत हासिल कर अपना बदला लिया।

अगस्त 2019 में अपना चौथा विश्व स्वर्ण पदक जीतने के बाद, वह ओलंपिक चैंपियन, Lucie Décosse को पछाड़कर फ्रांस की सबसे सफल महिला जूडोका बनीं।

उन्होंने निप्पॉन बुडोकन में जापानी एथलीट, Miku Tashiro को हराकर खिताब जीता - वह स्थान जो टोक्यो 2020 जूडो इवेंट की मेजबानी करेगा। इसलिए, वह टोक्यो जाने के लिए बहुत उत्सुक थी।

"मैं ओलंपिक खेलों में भाग लेने के लिए बहुत उत्सुक थी। मैं जीतना चाहती थी, मैं यह कहना चाहती थी कि मैंने एक एथलीट के रूप में सब कुछ जीता है। मेरे साथ मोमेंटम था। अब, मुझे बताया गया है कि यह एक फॉल्स स्टार्ट थी और मुझे दोबारा से शुरू करना होगा,” उन्होंने कहा।

वुमेंस 63किग्रा जूडो गोल्ड मेडल कॉन्टेस्ट | रियो 2016 रिप्ले
05:28

"मुझे एक और प्रेरणा मिली"

लॉकडाउन के दौरान, Agbegnenou भारतीय महासागर में एक विदेशी फ्रांसीसी द्वीप La Réunion में रह रही थी। और उनके पास स्थिति को देखने और स्थगन की खबर को स्वीकार करने के लिए बहुत समय था।

"अब, मैं बेहतर हूं। परिप्रेक्ष्य के साथ, मैं खुद को बताती हूं कि उन परिस्थितियों में यात्रा करना और खेलना असंभव था।"

भले ही फ्रांस ने कुछ ढील देनी शुरू कर दी है, Agbegnenou को अभी भी कुछ समय के लिए इंतज़ार करना पड़ेगा क्यूंकि जुडो एक ऐसा खेल हैं जिसमें सोशल डिस्टन्सिंग नहीं करी जा सकती - जैसा की अन्य खेलों में हो सकती हैं जैसे साइकिलिंग।

वह अभी भी प्रशिक्षण ले रही है लेकिन जाहिर है कि उसके पास अधिक खाली समय है। लेकिन अभी तक, वह कुछ नई चीज़ों पर काम कर रही है - जैसे लचीलापन।

"मैं दिन में कम से कम एक बार अभ्यास जरूर करती हूं। इससे मुझे एक नई ऊर्जा, एक नई इच्छा, और प्रेरणा मिली। अब मैंने अपनी कमजोरियों पर काम करना शुरू कर दिया है। मैं अधिक योग सत्र, अधिक गतिशीलता सत्र करती हूं। मैं वह चीजों को करने की कोशिश कर रही हूं जिसमें मुझे इसमें कुछ दिलचस्पी है।

नए कौशल सीखना

इस लॉकडाउन के दौरान Agbegnenou सकारात्मक रहने में कामयाब रही - जो इन कठिन समयों के दौरान सबसे अच्छी मानसिकता है।

"मैं चीजों को शेड्यूल करना पसंद करती हूं ... इसलिए मैं सीख रही हूं कि दिन प्रतिदिन एक बेहतर इंसान कैसे बना जाए।